कचौड़ी वाले की बिक्री देख कर विभाग के उड़े होश, सालाना 1 करोड़ का टर्न ओवर

kachudi
कचौड़ी वाले की बिक्री देख कर विभाग के उड़े होश, सालाना 1 करोड़ का टर्न ओवर

लखनऊ। उत्‍तर प्रदेश के अलीगढ़ में एक कचौड़ी वाले की जांच करने गई वाणिज्य कर विभाग की टीम के सामने जब हकीकत आई तो उनकी आंखें फटी की फटी रह गईं। सीमा टॉकिज नई बस्ती के पास कचौड़ी विक्रेता मुकेश के प्रतिष्ठान के प्राथमिक सर्वे में सालाना बिक्री का अनुमान 60 लाख रुपये तक पहुंच गया है। फिलहाल दुकानदार को नोटिस जारी कर दिया गया है।

Aligarh Kachaudi Seller Turnout Millionaires Commerce Departments :

अलीगढ़ में सीमा टॉकीज के समीप एक छोटी सी कचौड़ी की दुकान है, जिसमें मुकेश पिछले 10-12 सालों से कचौड़ी बेचते हैं। कचौड़ी विक्रेता के खिलाफ इंटेलिजेंस ब्यूरो लखनऊ में शिकायत के बाद लखनऊ से अलीगढ़ तक विभाग में खलबली मच गई।

शिकायत पर अलीगढ़ वाणिज्य कर विभाग की एसआईबी टीम ने मुकेश कचौड़ी वाले की तलाश की, जिसके बाद टीम ने दुकान की बिक्री का जायजा लिया। जांच के दौरान कचौड़ी वाले दुकानदार ने स्वयं हर महीने लाखों रुपए टर्न ओवर होने की बात स्वीकार की।

बेहद ही चौंकाने वाले इस मामले के बाद एसआईबी के निशाने पर अब ताला नगरी के सभी कचौड़ी वाले आ गए हैं, छोटे से कचौड़ी विक्रेता का इतना सालाना टर्न ओवर का मामला सामने आने के बाद बड़े कचौड़ी विक्रेता वाणिज्य कर विभाग की रडार पर हैं। टीम इन पर शिकंजा कसने की तैयारी कर रही है। सूत्रों की अगर मानें तो ताला नगरी में ठेले पर कचौड़ी बेचने वाले भी करोड़पति हैं।

इस मामले के खुलासे के बाद शहर के कचौड़ी विक्रेताओं में खलबली मची हुई है। वहीं, जब इस मामले को लेकर कचौड़ी विक्रेता मुकेश से बात की गई तो उन्होंने 60 लाख सालाना टर्न ओवर होने की बात से इनकार किया, लेकिन 22 से 25 लाख का सालाना टर्न ओवर होने की बात स्वीकार की। मुकेश ने यह भी बताया कि कचौड़ी के अलावा मिठाई और दूध का कारोबार भी उसमें शामिल है।

लखनऊ। उत्‍तर प्रदेश के अलीगढ़ में एक कचौड़ी वाले की जांच करने गई वाणिज्य कर विभाग की टीम के सामने जब हकीकत आई तो उनकी आंखें फटी की फटी रह गईं। सीमा टॉकिज नई बस्ती के पास कचौड़ी विक्रेता मुकेश के प्रतिष्ठान के प्राथमिक सर्वे में सालाना बिक्री का अनुमान 60 लाख रुपये तक पहुंच गया है। फिलहाल दुकानदार को नोटिस जारी कर दिया गया है। अलीगढ़ में सीमा टॉकीज के समीप एक छोटी सी कचौड़ी की दुकान है, जिसमें मुकेश पिछले 10-12 सालों से कचौड़ी बेचते हैं। कचौड़ी विक्रेता के खिलाफ इंटेलिजेंस ब्यूरो लखनऊ में शिकायत के बाद लखनऊ से अलीगढ़ तक विभाग में खलबली मच गई। शिकायत पर अलीगढ़ वाणिज्य कर विभाग की एसआईबी टीम ने मुकेश कचौड़ी वाले की तलाश की, जिसके बाद टीम ने दुकान की बिक्री का जायजा लिया। जांच के दौरान कचौड़ी वाले दुकानदार ने स्वयं हर महीने लाखों रुपए टर्न ओवर होने की बात स्वीकार की। बेहद ही चौंकाने वाले इस मामले के बाद एसआईबी के निशाने पर अब ताला नगरी के सभी कचौड़ी वाले आ गए हैं, छोटे से कचौड़ी विक्रेता का इतना सालाना टर्न ओवर का मामला सामने आने के बाद बड़े कचौड़ी विक्रेता वाणिज्य कर विभाग की रडार पर हैं। टीम इन पर शिकंजा कसने की तैयारी कर रही है। सूत्रों की अगर मानें तो ताला नगरी में ठेले पर कचौड़ी बेचने वाले भी करोड़पति हैं। इस मामले के खुलासे के बाद शहर के कचौड़ी विक्रेताओं में खलबली मची हुई है। वहीं, जब इस मामले को लेकर कचौड़ी विक्रेता मुकेश से बात की गई तो उन्होंने 60 लाख सालाना टर्न ओवर होने की बात से इनकार किया, लेकिन 22 से 25 लाख का सालाना टर्न ओवर होने की बात स्वीकार की। मुकेश ने यह भी बताया कि कचौड़ी के अलावा मिठाई और दूध का कारोबार भी उसमें शामिल है।