यूपी में आतंकी को छोड़ने की कीमत 45 लाख, पुलिस महकमे में मचा हड़कंप

up-police

Allegation Over Up Police Officer Involved In Help Of Babbar Khalsa Terrorist

लखनऊ। बीते दिनों यूपी पुलिस ने बदमाशों से मुठभेड़, एंकाउंटर और कुख्यात अपराधियों की गिरफ्तारी को लेकर छह महीने के आंकड़े जारी किए थे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी एक कार्यक्रम के दौरान पुलिस महकमे की तारीफ में खूब कसीदे पढे थे। पुलिस महकमे के एक ताजा मामले ने खाकी को दागदार कर दिया है। यूपी पुलिस के एक बड़े अफसर पर करोड़ों की रकम लेकर आतंकी को छोड़ने का आरोप लगा है। सीएम योगी ने मामले को गंभीरता से लेते हुए इस मामले में एडीजी स्तर के अधिकारी से जांच कराने के आदेश दे दिये हैं।

ये है पूरा मामला-

बीते 27 नवंबर 2016 को पटियाला की नाभा जेल से खालिस्तान लिब्रेशन फ्रंट और बब्बर खालसा के आतंकवादियों को पुलिस की वर्दी में गए अपराधियों ने छुड़ा लिया था। इस पूरी वारदात के मास्टरमाइंड गोपी घनश्याम पुरा को यूपी के शाहजहांपुर से 10 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था। घनश्याम पुरा के किसी दोस्त ने इस डर से कहीं उसका एनकाउंटर न हो जाए उसकी गिरफ्तारी की जानकारी अपनी फेसबुक पोस्ट पर दे दी। आरोप है कि पंजाब के एक दूसरे बड़े अपराधी और शराब व्यापारी के जरिए 1 करोड़ की डील हुई, जिसकी मध्यस्तता सुल्तानपुर के एक कांग्रेसी नेता ने की।

पंजाब पुलिस ने शराब व्यापारी रिंपल और अमनदीप की कॉल इंटरसेप्ट की जिससे पूरे मामले का पता चला। इस कॉल में वो आईजी के जरिए घनश्याम पुरा को छुड़ाने की बात कर रहे हैं। पंजाब पुलिस और आईबी ने इसकी जानकारी उत्तर प्रदेश सरकार को दी, जिसके बाद सरकार ने जांच बिठा दी है।

प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार ने बताया क‍ि मामले की जांच एडीजी स्तर के अधिकारी से कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि मीडिया रिपोर्ट में कहा जा रहा है कि एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी की पंजाब के अपराधियों से जुड़ाव की रिपोर्टों की उच्च स्तरीय जांच कराने का फैसला लिया गया है। एडीजी स्तर के अधिकारी को जांच सौंपी गयी है।

एक करोड़ की डील में 45 लाख का सौदा-

घनश्याम पुरा को पुलिस अभिरक्षा से छोड़ने के लिए एक करोड़ रुपये की एक डील हुई थी, जिसके बाद करीब 45 लाख में सौदा तय हुआ था। इसे लेकर सुलतानपुर के एक होटल में डील से जुड़े कुछ लोग आपस में मिले थे। चर्चा है कि पंजाब पुलिस ने आइबी को इसकी सूचना दी थी।

लखनऊ। बीते दिनों यूपी पुलिस ने बदमाशों से मुठभेड़, एंकाउंटर और कुख्यात अपराधियों की गिरफ्तारी को लेकर छह महीने के आंकड़े जारी किए थे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी एक कार्यक्रम के दौरान पुलिस महकमे की तारीफ में खूब कसीदे पढे थे। पुलिस महकमे के एक ताजा मामले ने खाकी को दागदार कर दिया है। यूपी पुलिस के एक बड़े अफसर पर करोड़ों की रकम लेकर आतंकी को छोड़ने का आरोप लगा है। सीएम योगी ने मामले को गंभीरता से…