मॉब लिंचिंग के शिकार पहलू खान के बेटे पर जानलेवा हमला, जांच में जुटी पुलिस

मॉब लिंचिंग के शिकार पहलू खान के बेटे पर जानलेवा हमला, जांच में जुटी पुलिस
मॉब लिंचिंग के शिकार पहलू खान के बेटे पर जानलेवा हमला, जांच में जुटी पुलिस

जयपुर। राजस्थान में शनिवार को अज्ञात बदमाशों ने उस कार पर गोलीबारी की, जिसमें लिंचिंग में मारे गए पहलू खान का बेटा इरशाद और 2017 में हुए इस वारदात का एक अन्य मुख्य गवाह सवार था। उन्होंने बताया कि गाड़ी में सवार होकर वे 6 लोग आ रहे थे, तभी पीछे से एक गाड़ी आई और उनकी गाड़ी को रोकने की कोशिश की। इस बीच उन्होंने गाली गलौच की और फिर फायरिंग शुरू कर दी. इसके बाद उन्होंने अपनी गाड़ी मोड़ ली और अलवर के लिए रवाना हो गए।

Alwar Pehlu Khan Mob Lunching Case Witness Attacked By Unknown Near Behror Court :

इरशाद के साथ मामले का मुख्य गवाह मौजूद था, जिसे अपना बयान दर्ज कराने के लिए अदालत के समक्ष पेश होना था। इसके अलावा कार में अजमत, रफीक, आरिफ और मानवाधिकार कार्यकर्ता असद मौजूद थे। इरशाद ने कहा कि सुबह 9 बजे के करीब एक बिना नंबर प्लेट वाली कार उनसे आगे बढ़ गई और कार में सवार एक बदमाश ने उनसे मामले में गवाह के तौर पर अदालत में पेश नहीं होने के लिए कहा।

उसने कहा कि उसे कार को रोकने के लिए कहा गया, जब उन्होंने कार नहीं रोकी तो बदमाशों ने कार पर गोलीबारी की। इसके कुछ देर बाद, बदमाश बहरूद की तरफ चले गए और पहलू खान का बेटा और गवाह अलवर वापस आ गए। अलवर के पुलिस अधीक्षक राजेंद्र सिंह ने कहा कि मामले की पूरी जांच की जा रही है। उन्होंने कहा कि सीसीटीवी से एकत्रित फूटेज की जांच की जा रही है।

गवाह अदालत जाने की बजाए पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचे और उन्होंने पुलिस अधीक्षक को उन पर गोली चलाए जाने की जानकारी दी। उन्होंने एक बयान में कहा कि पहलू खान मामले में आरोप पत्र में पहले नंबर पर दर्ज आरोपी विनीत यादव की जमानत रद्द कराने के लिए कार्रवाई पहले ही शुरू की जा चुकी है। उन्होंने बताया कि पुलिस अधीक्षक अलवर ने जिला कलेक्टर व जिला न्यायाधीश से जिला स्तरीय निगरानी समिति में इस मामले पर दैनिक आधार पर सुनवाई करने का आग्रह किया था और अब दैनिक आधार पर ही सुनवाई हो रही है।

जयपुर। राजस्थान में शनिवार को अज्ञात बदमाशों ने उस कार पर गोलीबारी की, जिसमें लिंचिंग में मारे गए पहलू खान का बेटा इरशाद और 2017 में हुए इस वारदात का एक अन्य मुख्य गवाह सवार था। उन्होंने बताया कि गाड़ी में सवार होकर वे 6 लोग आ रहे थे, तभी पीछे से एक गाड़ी आई और उनकी गाड़ी को रोकने की कोशिश की। इस बीच उन्होंने गाली गलौच की और फिर फायरिंग शुरू कर दी. इसके बाद उन्होंने अपनी गाड़ी मोड़ ली और अलवर के लिए रवाना हो गए। इरशाद के साथ मामले का मुख्य गवाह मौजूद था, जिसे अपना बयान दर्ज कराने के लिए अदालत के समक्ष पेश होना था। इसके अलावा कार में अजमत, रफीक, आरिफ और मानवाधिकार कार्यकर्ता असद मौजूद थे। इरशाद ने कहा कि सुबह 9 बजे के करीब एक बिना नंबर प्लेट वाली कार उनसे आगे बढ़ गई और कार में सवार एक बदमाश ने उनसे मामले में गवाह के तौर पर अदालत में पेश नहीं होने के लिए कहा। उसने कहा कि उसे कार को रोकने के लिए कहा गया, जब उन्होंने कार नहीं रोकी तो बदमाशों ने कार पर गोलीबारी की। इसके कुछ देर बाद, बदमाश बहरूद की तरफ चले गए और पहलू खान का बेटा और गवाह अलवर वापस आ गए। अलवर के पुलिस अधीक्षक राजेंद्र सिंह ने कहा कि मामले की पूरी जांच की जा रही है। उन्होंने कहा कि सीसीटीवी से एकत्रित फूटेज की जांच की जा रही है। गवाह अदालत जाने की बजाए पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचे और उन्होंने पुलिस अधीक्षक को उन पर गोली चलाए जाने की जानकारी दी। उन्होंने एक बयान में कहा कि पहलू खान मामले में आरोप पत्र में पहले नंबर पर दर्ज आरोपी विनीत यादव की जमानत रद्द कराने के लिए कार्रवाई पहले ही शुरू की जा चुकी है। उन्होंने बताया कि पुलिस अधीक्षक अलवर ने जिला कलेक्टर व जिला न्यायाधीश से जिला स्तरीय निगरानी समिति में इस मामले पर दैनिक आधार पर सुनवाई करने का आग्रह किया था और अब दैनिक आधार पर ही सुनवाई हो रही है।