अपराधियों को सजा दिलाने के लिए पुलिस कांस्टेबल बनेगी अलवर की गैंगरेप पीड़िता!

rajsthan p
अपराधियों को सजा दिलाने के लिए पुलिस कांस्टेबल बनेगी अलवर की दुष्कर्म पीड़िता!

नई दिल्ली। राजस्थान के अलवर में पति के सामने हुए सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता को सरकार ने नौकरी देने का ऐलान किया था। इस ऐलान के तहत सरकार ने पीड़िता को पुलिस विभाग में नौकरी देने का प्रस्ताव तैयार किया है। पीड़िता अब पुलिस कांस्टेबल बनकर अपराधियों को सजा दिलायेगी। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पीड़िता को सरकार नौकरी देने की घोषणा की थी।

Alwar Sexual Harassment Case The Victim Will Be Made A Police Constable :

इसी के तहत सरकार ने पीड़िता को नौकरी देने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। वहीं कुछ दिनों पूर्व पीड़िता ने कहा था कि वह पुलिस में नौकरी करना चाहती है ताकि ऐसे अपराधियों को सख्त से सख्त सजा दिला सके। गृह विभाग के सूत्रों के अनुसार सरकार ने मुख्यमंत्री की घोषणा पर अमल करते हुए पीड़िता को नौकरी देने का प्रस्ताव तैयार कर लिया है। अब इसे पारित कराने के लिए कैबिनेट में भेजा जाएगा।

बता दें कि इस मामले में पुलिस ने शनिवार को आरोपियों के खिलाफ विशेष न्यायाधीश एससी-एसटी के कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की। आरोपियों ने घटना का वीडियो भी बनाया था और पीड़िता को ब्लैकमेल कर पैसे भी ऐंठे थे। अलवर पुलिस अधीक्षक पारिस अनिल देशमुख ने बताया कि थानागाजी में हुई वारदात में आरोपियों हंसराज, इंद्रराज, महेश, अशोक, मुकेश और छोटेलाल के खिलाफ करीब पांच सौ पेज की चार्जशीट पेश की गई है।

 

नई दिल्ली। राजस्थान के अलवर में पति के सामने हुए सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता को सरकार ने नौकरी देने का ऐलान किया था। इस ऐलान के तहत सरकार ने पीड़िता को पुलिस विभाग में नौकरी देने का प्रस्ताव तैयार किया है। पीड़िता अब पुलिस कांस्टेबल बनकर अपराधियों को सजा दिलायेगी। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पीड़िता को सरकार नौकरी देने की घोषणा की थी। इसी के तहत सरकार ने पीड़िता को नौकरी देने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। वहीं कुछ दिनों पूर्व पीड़िता ने कहा था कि वह पुलिस में नौकरी करना चाहती है ताकि ऐसे अपराधियों को सख्त से सख्त सजा दिला सके। गृह विभाग के सूत्रों के अनुसार सरकार ने मुख्यमंत्री की घोषणा पर अमल करते हुए पीड़िता को नौकरी देने का प्रस्ताव तैयार कर लिया है। अब इसे पारित कराने के लिए कैबिनेट में भेजा जाएगा। बता दें कि इस मामले में पुलिस ने शनिवार को आरोपियों के खिलाफ विशेष न्यायाधीश एससी-एसटी के कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की। आरोपियों ने घटना का वीडियो भी बनाया था और पीड़िता को ब्लैकमेल कर पैसे भी ऐंठे थे। अलवर पुलिस अधीक्षक पारिस अनिल देशमुख ने बताया कि थानागाजी में हुई वारदात में आरोपियों हंसराज, इंद्रराज, महेश, अशोक, मुकेश और छोटेलाल के खिलाफ करीब पांच सौ पेज की चार्जशीट पेश की गई है।