अलविदा 2017: ‘चोटी कटवा’ की अफवाह ने खूब फैलाई दहशत, जानें क्या था सच

लखनऊ। साल 2017 आने वाले एक दिन बाद अलविदा कहने वाला है। इस साल के कुछ ऐसे चर्चित मामले रहे, जिन्होने लोगों को खूब डराया। ये था उत्तर प्रदेश समेत दिल्ली, एनसीआर के इलाके में दहशत फैलाने वाला ‘चोटी कटवा’ का खौफ। ‘चोटी कटवा’ की अफवाह ने कुछ बेगुनाह लोगों की जान भी ले ली। हालांकि इस दहशत के पीछे की वजह पुलिस तलाशने में नाकाम रही। पहले ऐसी घटनायें दिल्ली, एनसीआर(NCR) और राजस्थान क्षेत्र में सामने आयी लेकिन फिर धीरे-धीरे महिलाओं की चोटी कटने की दहशत यूपी में भी पहुंची।

सिर में दर्द के बाद कट जाती थी चोटी-

{ यह भी पढ़ें:- चोटी कटवा की दहशत: जब चोटी ही नहीं होगी..तो कटेगी कैसे, करवा दिया पत्नी का मुंडन }

पीड़ितों की मानें तो चोटी कटने से पहले सिर में दर्द होता है, सिर चकराने लगता है उसके बाद नींद आ जाती है इतने में ही चोटी कट जाती है। कुछ लोग बताते थे, इसके पीछे भूत-प्रेत या कोई साया है जो ऐसा कर रही है। लोगों का दावा था, यह सब माहौल बिगाड़ने के लिए किया जा रहा है। इसी बीच सोशल मीडिया पर एक वीडियो भी वायरल हुआ था। जिसमे एक बुजुर्ग महिला दिखाई दे रही, इस वीडियो में दावा किया जा रहा है कि इस महिला के पास 50 लोगों की टीम है जो चोटी काटने का काम करती है और अगर इन महिला ने 1008 चोटियां काट ली तो इसे गायब होने की शक्ति प्राप्त हो जायेगी।

यूपी के मथुरा में हुई पहली घटना-

{ यह भी पढ़ें:- झारखंड में 'चोटी कटवा' के शक में 4 महिलाओं को पीटा, एक की मौत }

यूपी में ऐसी पहली घटना मथुरा से सामने आई थी। जनपद के थाना बरसाना और थाना मगोर्रा में महिलाओं की चोटी कटने के दो मामले सामने आए थे। पहला मामला गांव नगला शीशराम में सामने आया है जहां गुड्डी नाम की एक महिला की अपने आप चोटी कट गई। महिला के परिजनों का कहना था, इस घटना के बाद वो बेहोश हो गईं और तब से ही उनकी तबियत खराब है।

इससे पहले भी उडी ऐसी अफवाहें-

भारतीय समाज में इस तरह का मास हिस्टीरिया बहुत दिनों के बाद देखा गया। इससे पहले 2006 में हजारों लोग यह अफवाह सुनकर मुंबई के एक समुद्र तट पर पहुंचने लगे कि वहां समुद्र का पानी अचानक मीठा हो गया है। इसी तरह 2001 में मुंहनोचवा या मंकीमैन की अफवाह फैली थी। दिल्ली में सैकड़ों लोगों ने दावा किया कि मुंहनोचवा ने उन पर हमला किया, लेकिन जब ऐसी खबरों पर टीवी की टीआरपी आनी कम हो गई तो धीरे-धीरे करके ऐसे किस्से भी आने बंद हो गए।

{ यह भी पढ़ें:- 'चोटी कटवा' से बचने के ये उपाय, नहीं कटेगी चोटी }

पीछे जाएं तो 21 सितंबर 1995 की सुबह गणेश मूर्तियों के चम्मच से दूध पीने की अफवाह समूचे देश में फैल गई, जबकि चम्मच में दूध भरकर उसे किसी भी पत्थर से सटा दिया जाए तो वह पत्थर की तरफ जाने लगता है।

Loading...