बिकने वाली है Flipkart, दो बड़ी कंपनियों मे लेने की लगी होड़

Flipkart,
बिकने वाली है Flipkart, दो बड़ी कंपनियों मे लेने की लगी होड़

नई दिल्ली। ई-कॉमर्स सेगमेंट में भारती की सबसे बड़ी ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी फ्लिपकार्ट बिक सकती है। कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना कर रही फ्लिपकार्ट को खरीदने के लिए दो बड़ी कंपनियों ने ऑफर करने का मन भी बना लिया है। उधर, दुनिया की सबसे बड़ी रिटेल कंपनी वॉलमार्ट भी इस रेस में नजर आ रहा है। दरअसल, ऐमजॉन और वॉलमार्ट, दोनों ही अमेरिकी कंपनियां हैं जो भारत के ऑनलाइन रिटेल स्पेस में अपना दबदबा कायम करने की कोशिश कर रही हैं।

Amazon And Walmart Ready To Buy Flipkart Campany :

बड़ी हिस्सेदारी खरीदना चाहती है वॉलमार्ट

फ्लिपकार्ट को खरीदने में जहां अमेजॉन ऑफर करने का मन बना रही है। वहीं, वॉलमार्ट कंपनी में बड़ी हिस्सेदारी खरीदना चाहती है। सूत्रों की माने तो वॉलमार्ट 40 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने के लिए फ्लिपकार्ट से बातचीत कर रही है।

भारत में 5 अरब डॉलर का निवेश करेगी अमेजन

इस डील से एशिया की तीसरी बड़ी इकोनॉमी में अमेजन को सीधे तौर पर चुनौती मिलेगी। अमेजन ने अपने ऑनलाइन ग्रॉसरी मार्केट में विस्तार के लिए 5 अरब डॉलर के निवेश की प्रतिबद्धता जाहिर की है। रिपोर्ट के मुताबिक वालमार्ट प्राइमरी और सेकंडरी शेयर परचेज के माध्यम से फ्लिपकार्ट की मेजॉरिटी स्टेक खरीदेगी, जिससे भारतीय कंपनी की वैल्यु 21 अरब डॉलर हो सकती है।

किताबें बेचने से हुई थी शुरूआत

सचिन एवं बिन्नी बंसल ने साल 2007 में फ्लिपकार्ट की स्थापना की थी। दोनों की कंपनी में करीब 40 प्रतिशत हिस्सेदारी है। एमेजॉन के संस्थापक जेफ बेजॉस जैसे ही बंसल भाइयों ने भी फ्लिपकार्ट की शुरुआत किताबें बेचने से की और फिर बड़ी तेजी से बिजनस का विस्तार कर लिया। अब कंपनी स्मार्टफोन की फ्लैश सेल्स लाने के साथ-साथ सभी 11 कैटिगरीज में ऐमजॉन से प्रतिस्पर्धा कर रही है।

40 फीसदी मार्केट पर है फ्लिपकार्ट का कब्जा

अमेजन के पूर्व इम्प्लॉई सचिन बंसल और बिनी बंसल द्वारा वर्ष 2007 में स्थापित फ्लिपकार्ट का भारत के 40 फीसदी ऑनलाइन रिटेल मार्केट पर कब्जा है। रिसर्च कंपनी फॉरेस्टर के मुताबिक अमेजन फिलहाल फ्लिपकार्ट से पीछे है।

21 अरब डॉलर की फ्लिपकार्ट

खबरों के मुतबाकि, फ्लिपकार्ट की कुल वैल्यू इस वक्त 21 अरब डॉलर के आसपास आंकी गई है। वॉलमार्ट के साथ डील होने से फ्लिपकार्ट और बड़ी कंपनी होगी। ऐसे में उसे अपने प्रतिद्वंदी अमेजॉन से मुकाबले करने में मदद मिलेगी। इंडियन ई-कॉमर्स बाजार में अमेजॉन और फ्लिपकार्ट में हमेशा से टक्कर रही है।

नई दिल्ली। ई-कॉमर्स सेगमेंट में भारती की सबसे बड़ी ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी फ्लिपकार्ट बिक सकती है। कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना कर रही फ्लिपकार्ट को खरीदने के लिए दो बड़ी कंपनियों ने ऑफर करने का मन भी बना लिया है। उधर, दुनिया की सबसे बड़ी रिटेल कंपनी वॉलमार्ट भी इस रेस में नजर आ रहा है। दरअसल, ऐमजॉन और वॉलमार्ट, दोनों ही अमेरिकी कंपनियां हैं जो भारत के ऑनलाइन रिटेल स्पेस में अपना दबदबा कायम करने की कोशिश कर रही हैं।

बड़ी हिस्सेदारी खरीदना चाहती है वॉलमार्ट

फ्लिपकार्ट को खरीदने में जहां अमेजॉन ऑफर करने का मन बना रही है। वहीं, वॉलमार्ट कंपनी में बड़ी हिस्सेदारी खरीदना चाहती है। सूत्रों की माने तो वॉलमार्ट 40 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने के लिए फ्लिपकार्ट से बातचीत कर रही है।

भारत में 5 अरब डॉलर का निवेश करेगी अमेजन

इस डील से एशिया की तीसरी बड़ी इकोनॉमी में अमेजन को सीधे तौर पर चुनौती मिलेगी। अमेजन ने अपने ऑनलाइन ग्रॉसरी मार्केट में विस्तार के लिए 5 अरब डॉलर के निवेश की प्रतिबद्धता जाहिर की है। रिपोर्ट के मुताबिक वालमार्ट प्राइमरी और सेकंडरी शेयर परचेज के माध्यम से फ्लिपकार्ट की मेजॉरिटी स्टेक खरीदेगी, जिससे भारतीय कंपनी की वैल्यु 21 अरब डॉलर हो सकती है।

किताबें बेचने से हुई थी शुरूआत

सचिन एवं बिन्नी बंसल ने साल 2007 में फ्लिपकार्ट की स्थापना की थी। दोनों की कंपनी में करीब 40 प्रतिशत हिस्सेदारी है। एमेजॉन के संस्थापक जेफ बेजॉस जैसे ही बंसल भाइयों ने भी फ्लिपकार्ट की शुरुआत किताबें बेचने से की और फिर बड़ी तेजी से बिजनस का विस्तार कर लिया। अब कंपनी स्मार्टफोन की फ्लैश सेल्स लाने के साथ-साथ सभी 11 कैटिगरीज में ऐमजॉन से प्रतिस्पर्धा कर रही है।

40 फीसदी मार्केट पर है फ्लिपकार्ट का कब्जा

अमेजन के पूर्व इम्प्लॉई सचिन बंसल और बिनी बंसल द्वारा वर्ष 2007 में स्थापित फ्लिपकार्ट का भारत के 40 फीसदी ऑनलाइन रिटेल मार्केट पर कब्जा है। रिसर्च कंपनी फॉरेस्टर के मुताबिक अमेजन फिलहाल फ्लिपकार्ट से पीछे है।

21 अरब डॉलर की फ्लिपकार्ट

खबरों के मुतबाकि, फ्लिपकार्ट की कुल वैल्यू इस वक्त 21 अरब डॉलर के आसपास आंकी गई है। वॉलमार्ट के साथ डील होने से फ्लिपकार्ट और बड़ी कंपनी होगी। ऐसे में उसे अपने प्रतिद्वंदी अमेजॉन से मुकाबले करने में मदद मिलेगी। इंडियन ई-कॉमर्स बाजार में अमेजॉन और फ्लिपकार्ट में हमेशा से टक्कर रही है।