अमेरिका ने चीन की कंपनी हुआवेई को किया ब्लैकलिस्ट, ड्रैगन ने दी धमकी

huawai
अमेरिका ने चीन की कंपनी हुआवेई को किया ब्लैकलिस्ट, ड्रैगन ने दी धमकी

नई दिल्ली। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दुनिया की सबसे बड़ी टेलीकॉम उपकरण निर्माता कंपनी हुवावेई पर प्रतिबंध लगा दिया है। चीन ने बृहस्पतिवार को जवाबी कार्रवाई की चेतावनी दी। चीन ने कहा कि वह अपनी कंपनियों के हितों और अधिकारों की रक्षा के लिए जरूरी कदम उठाएगी।

America Blacklist Chinese Mobile Company Huawei :

डोनाल्ड ट्रंप ने बुधवार को अमेरिकी प्रौद्योगिकी पर खतरे का हवाला देते हुए राष्ट्रीय आपदा घोषित कर दी। ट्रंप ने एक्जक्यूटिव ऑर्डर के जरिये यह घोषणा की। इस आदेश के जारी होते ही अमेरिका के वाणिज्य मंत्रालय ने हुआवेई और इसकी सहयोगी कंपनियों को ब्यूरो ऑफ इंडस्ट्री एंड सिक्योरिटी की संस्थान सूची में शामिल कर दिया है।

जिसके कारण अब हुआवेई का अमेरिकी कंपनियों के साथ कारोबार करना बहुत मुश्किल हो गया है। इससे टकराव और बढ़ने की आशंका है क्योंकि हुआवेई को लेकर दोनों देश के बीच पहले से ही विवाद चल रहा है।

जवाबी कार्रवाई की धमकी

दुनिया की सबसे बड़ी दूरसंचार उपकरण निर्माता कंपनी हुआवेई को अमेरिकी बाजार से प्रतिबंधित करने के फैसले पर चीन ने गुरुवार को जवाबी कार्रवाई की चेतावनी दी। चीन ने कहा कि वह अपनी कंपनियों के हितों और अधिकारों की रक्षा के लिए जरूरी कदम उठाएगी।

भारत को होगा फायदा

अमेरिका और चीन के बीच जारी व्यापार युद्ध से भारत के लिए दोनों देशों में निर्यात अवसर बढ़ाने में मदद मिलेगी। भारत दोनों देशों में परिधान, कृषि, वाहन और मशीनरी के क्षेत्र में निर्यात अवसर हासिल कर सकता है। विशेषज्ञों का मनना है कि आने वाले समय में भारत को बड़ा फायदा मिलेगा।

नई दिल्ली। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दुनिया की सबसे बड़ी टेलीकॉम उपकरण निर्माता कंपनी हुवावेई पर प्रतिबंध लगा दिया है। चीन ने बृहस्पतिवार को जवाबी कार्रवाई की चेतावनी दी। चीन ने कहा कि वह अपनी कंपनियों के हितों और अधिकारों की रक्षा के लिए जरूरी कदम उठाएगी। डोनाल्ड ट्रंप ने बुधवार को अमेरिकी प्रौद्योगिकी पर खतरे का हवाला देते हुए राष्ट्रीय आपदा घोषित कर दी। ट्रंप ने एक्जक्यूटिव ऑर्डर के जरिये यह घोषणा की। इस आदेश के जारी होते ही अमेरिका के वाणिज्य मंत्रालय ने हुआवेई और इसकी सहयोगी कंपनियों को ब्यूरो ऑफ इंडस्ट्री एंड सिक्योरिटी की संस्थान सूची में शामिल कर दिया है। जिसके कारण अब हुआवेई का अमेरिकी कंपनियों के साथ कारोबार करना बहुत मुश्किल हो गया है। इससे टकराव और बढ़ने की आशंका है क्योंकि हुआवेई को लेकर दोनों देश के बीच पहले से ही विवाद चल रहा है। जवाबी कार्रवाई की धमकी दुनिया की सबसे बड़ी दूरसंचार उपकरण निर्माता कंपनी हुआवेई को अमेरिकी बाजार से प्रतिबंधित करने के फैसले पर चीन ने गुरुवार को जवाबी कार्रवाई की चेतावनी दी। चीन ने कहा कि वह अपनी कंपनियों के हितों और अधिकारों की रक्षा के लिए जरूरी कदम उठाएगी। भारत को होगा फायदा अमेरिका और चीन के बीच जारी व्यापार युद्ध से भारत के लिए दोनों देशों में निर्यात अवसर बढ़ाने में मदद मिलेगी। भारत दोनों देशों में परिधान, कृषि, वाहन और मशीनरी के क्षेत्र में निर्यात अवसर हासिल कर सकता है। विशेषज्ञों का मनना है कि आने वाले समय में भारत को बड़ा फायदा मिलेगा।