सीरिया में संघर्षविराम के प्रस्ताव पर नहीं बनी सहमति  

सीरिया में संघर्षविराम के प्रस्ताव पर नहीं बनी सहमति  
सीरिया में संघर्षविराम के प्रस्ताव पर नहीं बनी सहमति  

संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने सीरिया के पूर्वी घौता क्षेत्र में संघर्ष की स्थिति पर चर्चा की लेकिन युद्धग्रस्त देश में 30 दिन के संघर्ष विराम के प्रस्ताव पर सहमति नहीं बन पाई। सूत्रों के अनुसार, गुरुवार को परिषद ने कुवैत और स्वीडन द्वारा तैयार एक प्रस्ताव पर विचार किया जिसमें इस्लामिक स्टेट, अल-कायदा और अल नुसरा फ्रंट के खिलाफ कार्रवाई को छोड़कर सीरिया में बाकी सभी सैन्य अभियानों को 30 दिन तक रोकने की बात की गई थी, ताकि इस दौरान जरूरत के सामानों की आपूर्ति और चिकित्सीय सहायता पहुंचाई जा सके।

संयुक्त राष्ट्र में स्वीडन के राजदूत ओलॉफ स्कूग ने उम्मीद जताई कि परिषद प्रस्ताव पर वोट करेगी लेकिन संयुक्त राष्ट्र में रूस के राजदूत वासिली नेबेंजिया ने कहा कि आतंकवादी हमलों की तेज वृद्धि के कारण सीरिया में संघर्ष गहरा हो रहा है, इसलिए संघर्षविराम को लेकर परिषद में कोई समझौता नहीं हुआ है।

{ यह भी पढ़ें:- इजराइल ने सीरिया को दी धमकी ,कहा- ईरान की मदद की तो खत्म कर देंगे       }

नेबेंजिया के मुताबिक,”युद्धविराम पर परिषद में कोई समझौता नहीं हुआ, क्योंकि आतंकवादी हमलों में बढ़ोत्तरी के कारण अरब देश में संघर्ष बढ़ गया है। नेबेंजिया के जनरल महासचिव एंटोनियो जीटरस के मुताबिक बुधवार को युद्धविराम के मसौदा प्रस्ताव को मंजूरी देने के लिए परिषद से अपील की, विशेष रूप से पूर्वी घाउता में संकट में घिरे 4 लाख निवासियों की मदद करने के लिए उन्होंने संयुक्त राष्ट्र से ये अपील की थी

{ यह भी पढ़ें:- लीबिया में चुनाव आयोग कार्यालय पर हमला, 16 की मौत, IS ने ली जिम्मेदारी }

संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने सीरिया के पूर्वी घौता क्षेत्र में संघर्ष की स्थिति पर चर्चा की लेकिन युद्धग्रस्त देश में 30 दिन के संघर्ष विराम के प्रस्ताव पर सहमति नहीं बन पाई। सूत्रों के अनुसार, गुरुवार को परिषद ने कुवैत और स्वीडन द्वारा तैयार एक प्रस्ताव पर विचार किया जिसमें इस्लामिक स्टेट, अल-कायदा और अल नुसरा फ्रंट के खिलाफ कार्रवाई को छोड़कर सीरिया में बाकी सभी सैन्य अभियानों को 30 दिन तक रोकने की बात की गई…
Loading...