अमेरिका ने पाक को दी नसीहत, कहा-आतंकियों का साथ छोड़े तभी भारत से रिश्ते हो सकते हैं बेहतर

pakistan
अमेरिका ने पाक को दी नसीहत, कहा-आतंकियों का साथ छोड़े तभी भारत से रिश्ते हो सकते हैं बेहतर

नई दिल्ली। आतंकियों को संरक्षण देने के मामले में विश्व पटल पर घिरे पाकिस्तान को अमेरिका ने नसीहत दी है। अमेरिका ने कहा कि पाकिस्तान आतंकियों को संरक्षण देना बंद करे तभी भारत और उसके बीच बातचीत हो सकती है। पाकिस्तान आतंकियों को समर्थन करता है, जो भारत से बातचीत में सबसे बड़ा अवरूद्ध है।

America Gave Advice To Pakistan Said Relations With India Can Be Better Only If Terrorists Leave :

दक्षिण और मध्य एशिया के लिए अमेरिका के सहायक सचिव एलिस जी वेल्स ने कहा कि किसी भी महत्वपूर्ण बातचीत के लिए पहले विश्वास स्थापित करना होता है और इस्लामाबाद का नई दिल्ली के साथ बातचीत में मुख्य बाधा पाकिस्तान द्वारा लगातार चरमपंथी समूहों का समर्थन देना है।

पाकिस्तान के इस कदम से सीमा पार आतंकवाद में बढ़ोत्तरी होती है। इसके कारण भारत और पाकिस्तान के बीच बातचीत नहीं हो पाती। अमेरिका ने पाक को चेतावनी देते हुए कहा कि, पाकिस्तान आतंकी संगठप जैश-ए-मुहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा को समर्थन देता है, जिसके कारण यह संगठन आतंकी घटनाओं को बढ़ावा दे रहे हैं।

अमेरिका का यह बयान उस समय आया है जब एक दिन पहले ही जम्मू कश्मीर के तंगधार सेक्टर में आतंकियों ने सीमा पार से घुसपैठ करने की कोशिश की, जिसके जवाब में जाबांज भारतीय सेना ने पीओके के तीन आतंकवादी शिविरों को तबाह कर दिया। भारत की इस जवाबी कार्रवाई में छह से 10 पाकिस्तानी सैनिक भी मार गिराए गए। वेल्स ने कहा कि अमेरिका भारत और पाकिस्तान में सीधे संवाद को समर्थन करता है, जैसा कि 1972 के शिमला समझौता में उल्लेखित हैं।

नई दिल्ली। आतंकियों को संरक्षण देने के मामले में विश्व पटल पर घिरे पाकिस्तान को अमेरिका ने नसीहत दी है। अमेरिका ने कहा कि पाकिस्तान आतंकियों को संरक्षण देना बंद करे तभी भारत और उसके बीच बातचीत हो सकती है। पाकिस्तान आतंकियों को समर्थन करता है, जो भारत से बातचीत में सबसे बड़ा अवरूद्ध है। दक्षिण और मध्य एशिया के लिए अमेरिका के सहायक सचिव एलिस जी वेल्स ने कहा कि किसी भी महत्वपूर्ण बातचीत के लिए पहले विश्वास स्थापित करना होता है और इस्लामाबाद का नई दिल्ली के साथ बातचीत में मुख्य बाधा पाकिस्तान द्वारा लगातार चरमपंथी समूहों का समर्थन देना है। पाकिस्तान के इस कदम से सीमा पार आतंकवाद में बढ़ोत्तरी होती है। इसके कारण भारत और पाकिस्तान के बीच बातचीत नहीं हो पाती। अमेरिका ने पाक को चेतावनी देते हुए कहा कि, पाकिस्तान आतंकी संगठप जैश-ए-मुहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा को समर्थन देता है, जिसके कारण यह संगठन आतंकी घटनाओं को बढ़ावा दे रहे हैं। अमेरिका का यह बयान उस समय आया है जब एक दिन पहले ही जम्मू कश्मीर के तंगधार सेक्टर में आतंकियों ने सीमा पार से घुसपैठ करने की कोशिश की, जिसके जवाब में जाबांज भारतीय सेना ने पीओके के तीन आतंकवादी शिविरों को तबाह कर दिया। भारत की इस जवाबी कार्रवाई में छह से 10 पाकिस्तानी सैनिक भी मार गिराए गए। वेल्स ने कहा कि अमेरिका भारत और पाकिस्तान में सीधे संवाद को समर्थन करता है, जैसा कि 1972 के शिमला समझौता में उल्लेखित हैं।