अमेरिका आतंक के खिलाफ भारत के साथ खड़ा है: डोनाल्ड ट्रंप

donald trump
भारत और पाकिस्तान से कुछ देर में उचित निर्णय की सूचना मिल सकती है : डोनाल्ड ट्रंप

नई दिल्ली। दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार को पुलवामा आतंकी हमले को दर्दनाक और भयावह करार दिया है। ट्रंप ने यह भी कहा कि वह इस मामले में रिपोर्ट देख रहे हैं और जल्द ही बयान जारी करेंगे।

America Is With India To Fight Against Terrorism :

वहीं ट्रंप ने व्हाइट हाउस स्थित अपने दफ्तर में कॉन्फ्रेंस में कहा, “दक्षिण एशिया के दोनों देश अगर साथ आएं तो बहुत अच्छा होगा।” उन्होंने एक सवाल के जवाब देते हुए कहा, “मैंने देखा, मुझे इस पर बहुत सी रिपोर्ट मिली है। हम इस मामले में सही समय पर बयान देंगे। यह बहुत अच्छा होगा अगर वह दोनों देश(भारत और पाकिस्तान) साथ आएंगे तो विश्व शांति को एक रुख मिलेगा।”

ट्रंप का कहना ये भी है कि पुलवामा आतंकी हमला एक भयानक स्थिति थी। हमें रिपोर्ट मिल रही हैं। हम इस पर बात करेंगे। इस हमले पर अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन भी कह चुके हैं कि अमेरिका आतंक के खिलाफ भारत के साथ खड़ा है और भारत को आत्मरक्षा का पूरा अधिकार है”।

इसी के साथ उन्होंने बयान दिया था कि मैंने अजीत डोभाल से कहा कि हम भारत के आत्मरक्षा के अधिकार का समर्थन करते हैं। मेरी आज सुबह से उनसे दो बार बात हुई और आतंकी हमले पर अमेरिका की संवेदना व्यक्त की। उन्होंने पहले भी कहा था कि अमेरिका पाकिस्तान से यह साफ कह चुका है कि आतंक को पनाह देना बंद करें।

ट्विटर हैंडल पर अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियों ने कहा था, “आतंकवाद का सामना करने के लिए अमेरिका भारत के साथ खड़ा है। पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा के लिए आतंकवादियों को सुरक्षित पनाह नहीं देना चाहिए।”

नई दिल्ली। दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार को पुलवामा आतंकी हमले को दर्दनाक और भयावह करार दिया है। ट्रंप ने यह भी कहा कि वह इस मामले में रिपोर्ट देख रहे हैं और जल्द ही बयान जारी करेंगे। वहीं ट्रंप ने व्हाइट हाउस स्थित अपने दफ्तर में कॉन्फ्रेंस में कहा, "दक्षिण एशिया के दोनों देश अगर साथ आएं तो बहुत अच्छा होगा।" उन्होंने एक सवाल के जवाब देते हुए कहा, "मैंने देखा, मुझे इस पर बहुत सी रिपोर्ट मिली है। हम इस मामले में सही समय पर बयान देंगे। यह बहुत अच्छा होगा अगर वह दोनों देश(भारत और पाकिस्तान) साथ आएंगे तो विश्व शांति को एक रुख मिलेगा।" ट्रंप का कहना ये भी है कि पुलवामा आतंकी हमला एक भयानक स्थिति थी। हमें रिपोर्ट मिल रही हैं। हम इस पर बात करेंगे। इस हमले पर अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन भी कह चुके हैं कि अमेरिका आतंक के खिलाफ भारत के साथ खड़ा है और भारत को आत्मरक्षा का पूरा अधिकार है"। इसी के साथ उन्होंने बयान दिया था कि मैंने अजीत डोभाल से कहा कि हम भारत के आत्मरक्षा के अधिकार का समर्थन करते हैं। मेरी आज सुबह से उनसे दो बार बात हुई और आतंकी हमले पर अमेरिका की संवेदना व्यक्त की। उन्होंने पहले भी कहा था कि अमेरिका पाकिस्तान से यह साफ कह चुका है कि आतंक को पनाह देना बंद करें। ट्विटर हैंडल पर अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियों ने कहा था, "आतंकवाद का सामना करने के लिए अमेरिका भारत के साथ खड़ा है। पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा के लिए आतंकवादियों को सुरक्षित पनाह नहीं देना चाहिए।"