अमेरिका और PAK के बीच मचा राजनयिक संकट, पाक अधिकारियों पर लगाए नए प्रतिबंध 

अमेरिका , PAK
अमेरिका और PAK के बीच मचा राजनयिक संकट, पाक अधिकारियों पर लगाए नए प्रतिबंध 

वॉशिंगटन। पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में पिछले सप्ताह अमेरिकी डिप्लोमेट की कार एक्सीडेंट से हुई एक शख्स की मौत के बाद दोनों देशों के बीच राजनयिक तनाव बढ़ गया है। पाकिस्तान में सड़क हादसे के आरोपी अमरीकी राजनयिक को निशाना बनाने की कार्रवाई के जवाब में अब वॉशिंगटन ने अपने यहां रह रहे पाकिस्तानी राजनयिकों पर नए प्रतिबंधों की तैयारी कर ली है। अमेरिका ने अपने कॉड ऑफ कंडक्ट तैयार किया है, जिसके अंतर्गत 200 पाकिस्तानी अधिकारियो को 25 मील (40 किमी) के दायरे में रहने के लिए कहा गया है।

America Might Impose Travel Restrictions On Pakistani Diplomats :

पिछले सप्ताह इस्लामाबाद में अमेरिकी दूतावास की कार ने एक बाइक को टक्कर मार दी थी, जिसके बाद एक शख्स की मौत और दूसरा घायल हो गया था। इसके बाद पाकिस्तान में अमेरिकी दूतावास ने मामले की जांच के लिए पूरे सहयोग की बात की थी। हालांकि, पाकिस्तानी मीडिया ने सरकार की कड़ी आलोचना के बाद सरकार को अमेरिकी राजदूत को तलब करना पड़ा। हालांकि, राजनयिक को उनकी राजनयिक प्रतिरक्षा के कारण हिरासत में नहीं लिया गया था।

पाकिस्तान का कहना है कि इसके जवाब में ही अमेरिका ने नए प्रतिबंध लगाए हैं। जबकि, वॉइस ऑफ अमेरिका की खबर के मुताबिक, अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने इन खबरों को सिरे से खारिज किया है और कहा है कि पाकिस्तानी राजनयिकों के अमेरिका में आवागमन पर किसी तरह की रोक नहीं लगाई गई है।

वॉशिंगटन। पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में पिछले सप्ताह अमेरिकी डिप्लोमेट की कार एक्सीडेंट से हुई एक शख्स की मौत के बाद दोनों देशों के बीच राजनयिक तनाव बढ़ गया है। पाकिस्तान में सड़क हादसे के आरोपी अमरीकी राजनयिक को निशाना बनाने की कार्रवाई के जवाब में अब वॉशिंगटन ने अपने यहां रह रहे पाकिस्तानी राजनयिकों पर नए प्रतिबंधों की तैयारी कर ली है। अमेरिका ने अपने कॉड ऑफ कंडक्ट तैयार किया है, जिसके अंतर्गत 200 पाकिस्तानी अधिकारियो को 25 मील (40 किमी) के दायरे में रहने के लिए कहा गया है।पिछले सप्ताह इस्लामाबाद में अमेरिकी दूतावास की कार ने एक बाइक को टक्कर मार दी थी, जिसके बाद एक शख्स की मौत और दूसरा घायल हो गया था। इसके बाद पाकिस्तान में अमेरिकी दूतावास ने मामले की जांच के लिए पूरे सहयोग की बात की थी। हालांकि, पाकिस्तानी मीडिया ने सरकार की कड़ी आलोचना के बाद सरकार को अमेरिकी राजदूत को तलब करना पड़ा। हालांकि, राजनयिक को उनकी राजनयिक प्रतिरक्षा के कारण हिरासत में नहीं लिया गया था।पाकिस्तान का कहना है कि इसके जवाब में ही अमेरिका ने नए प्रतिबंध लगाए हैं। जबकि, वॉइस ऑफ अमेरिका की खबर के मुताबिक, अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने इन खबरों को सिरे से खारिज किया है और कहा है कि पाकिस्तानी राजनयिकों के अमेरिका में आवागमन पर किसी तरह की रोक नहीं लगाई गई है।