सऊदी अरब में 3 नाबालिगों सहित 37 लोगों को मौत की सजा, पूरी दुनिया में हो रही आलोचना

mader
सऊदी अरब में 3 नाबालिगों सहित 37 लोगों को मौत की सजा, पूरी दुनिया में हो रही आलोचनासऊदी अरब में 3 नाबालिगों सहित 37 लोगों को मौत की सजा, पूरी दुनिया में हो रही आलोचना

नई दिल्ली। सऊदी अरब में आतंकवाद फैलाने का आरोप लगने के बाद 37 लोगों का सिर कलम कर मौत के घाट उतार दिया गया। बताया जा रहा है कि यह सभी सऊदी अरब के ही नागरिक थे। सऊदी अरब की सरकारी समाचार एजेंसी ने एक बयान के हवाले से बताया कि मौत की सजा की तामील रियाद, मक्का एवं मदीना, मध्य कासिम प्रांत और देश के शिया अल्पसंख्यकों के गढ़ ईस्टर्न प्रांत में की गयी है।

American Democrats Expressed Concern Over The Mass Death Penalty In Saudi Arabia :

जिसमें करीब सभी लोग अल्पसंख्यक शिया समुदाय से थे। हालांकि, ट्रंप प्रशासन ने इस मुद्दे पर केवल अप्रत्यक्ष रूप से चिंता व्यक्त की है। मौत के बाद एक व्यक्ति को सूली पर चढ़ाया गया और संयुक्त राष्ट्र ने कहा कि जब आरोप लगाया गया था तब इनमें से कम से कम 3 व्यक्ति नाबालिग थे।

डैमोक्रेटिक पार्टी की ओर से अमेरिका में राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनने की दावेदार सीनेटर बर्नी सैंडर्स ने कहा कि सामूहिक मौत की सजा यह रेखांकित करती है कि अमेरिका के लिए सऊदी अरब में निरंकुश शासन के साथ संबंधों को फिर से परिभाषित करना कितना जरूरी हो गया है।

सैंडर्स ने कहा कि अमेरिका को यह दिखाना चाहिए कि सऊदी अरब मानवाधिकारों का उल्लंघन जारी नहीं रख सकता। वरिष्ठ डेमोक्रेटिक सीनेटर डायने फीनस्टीन ने कहा कि उन्होंने अक्टूबर में पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या के बाद पहले ही अमेरिका से सऊदी अरब के साथ अपने संबंधों पर पुनर्विचार करने की अपील की थी।

नई दिल्ली। सऊदी अरब में आतंकवाद फैलाने का आरोप लगने के बाद 37 लोगों का सिर कलम कर मौत के घाट उतार दिया गया। बताया जा रहा है कि यह सभी सऊदी अरब के ही नागरिक थे। सऊदी अरब की सरकारी समाचार एजेंसी ने एक बयान के हवाले से बताया कि मौत की सजा की तामील रियाद, मक्का एवं मदीना, मध्य कासिम प्रांत और देश के शिया अल्पसंख्यकों के गढ़ ईस्टर्न प्रांत में की गयी है। जिसमें करीब सभी लोग अल्पसंख्यक शिया समुदाय से थे। हालांकि, ट्रंप प्रशासन ने इस मुद्दे पर केवल अप्रत्यक्ष रूप से चिंता व्यक्त की है। मौत के बाद एक व्यक्ति को सूली पर चढ़ाया गया और संयुक्त राष्ट्र ने कहा कि जब आरोप लगाया गया था तब इनमें से कम से कम 3 व्यक्ति नाबालिग थे। डैमोक्रेटिक पार्टी की ओर से अमेरिका में राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनने की दावेदार सीनेटर बर्नी सैंडर्स ने कहा कि सामूहिक मौत की सजा यह रेखांकित करती है कि अमेरिका के लिए सऊदी अरब में निरंकुश शासन के साथ संबंधों को फिर से परिभाषित करना कितना जरूरी हो गया है। सैंडर्स ने कहा कि अमेरिका को यह दिखाना चाहिए कि सऊदी अरब मानवाधिकारों का उल्लंघन जारी नहीं रख सकता। वरिष्ठ डेमोक्रेटिक सीनेटर डायने फीनस्टीन ने कहा कि उन्होंने अक्टूबर में पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या के बाद पहले ही अमेरिका से सऊदी अरब के साथ अपने संबंधों पर पुनर्विचार करने की अपील की थी।