मंदिर में घुसा अनियंत्रित ट्रक, मूर्ति को कोई नुकसान नहीं

अमेठी: शराब पीकर गाड़ी चलाने के मामले अक्सर सामने आते हैं और अकसर हादसे की भी सूचना मिलती है आंकड़ों पर गौर करें तो हाईवे पर होने वाली हर तीसरी दुर्घटना नशे के कारण होती है और चालक शराब के नशे में धुत पाया जाता है इस पर कार्रवाई भी होती है,लेकिन इससे कोई सबक नहीं लेता है।ताजा मामला अमेठी का है जहाँ शराब पीकर गाड़ी चलाने की वजह से देर रात एक ट्रक अनियंत्रित हो कर सड़क के किनारे बने हनुमान मंदिर में घुस गया जिससे मंदिर का एक भाग क्षतिग्रस्त हो गया लेकिन मूर्ति को कोई नुकसान नहीं हुआ ।

क्या है मामला-

{ यह भी पढ़ें:- यूपी के युवा खिलाड़ियों को राष्ट्रीय पहचान दिलाएगा मेधज स्पोर्टस क्लब }

मामला अमेठी के मुंशीगंज कोतवाली क्षेत्र के सोरांव पावर हाउस चौराहे का है जहां कल रात लगभग 10 बजे मुसाफिरखाना से ओर से अमेठी आ रही ट्रक सं यू पी 70 एटी 4585 अनियंत्रित हो गया,जो सड़क के किनारे पेड़ो को रौदता हुआ हनुमान मंदिर के खम्बे में जा टकराया पुलिस सूत्रों की माने तो यह हादसा उस समय हुआ जब पुलिस बल के साथ पनियार चौराहे पर गस्त पर थी जिससे मौके से ही ड्राईबर को पकड लिया गया पकड़ा गया ट्रक चालक नशे मे धुत था कुछ लोगो ने बताया कि ट्रक चालक चन्दौकी गाँव के पास से किसी दुकानदार से मारपीट करके तेजी से ट्रक लेकर भाग रहा था और अनियंत्रित होकर मन्दिर के खम्बे से जा टकराया।

अदालती निर्णय का सही ढंग से हो पालन-

{ यह भी पढ़ें:- सावधान: यहां भी लग सकता 'सांस का आपातकाल', दिल्ली की राह पर 'अमेठी' }

यह बेहद अफसोसनाक है कि सड़क दुर्घटनाओं में अकाल मौतों के बढ़ते आंकड़ों के बावजूद समाज में न केवल यातायात नियमों के प्रति घोर उपेक्षा का भाव झलकता है बल्कि शराब पीकर गाड़ी चलाने के आंकड़े भी बढ़ते जा रहे हैं। सरकार और समाज,अब दोनों का ही इस गंभीर विषय पर चेतना आवश्यक है। यकीनन नियमों की सख्ती और जन-जागरूकता ही जीवन बचाने का आधार बन सकती है ऐसे में सरकार को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि शीर्ष अदालत के निर्णय का सही ढंग से पालन हो ।

रिपोर्ट-राम मिश्रा

{ यह भी पढ़ें:- महकमा मेहरबान तो सरकारी भवन बना प्राइवेट 'गोदाम' }

Loading...