अमेठी: जमीनी विवाद में चली ताबड़तोड़ गोली, एक की मौत कई घायल

amethi murder, अमेठी मर्डर
अमेठी: जमीनी विवाद में चली ताबड़तोड़ गोली, एक की मौत कई घायल

Amethi Murder 2

अमेठी: योगी सरकार भले कानून व्यवस्था दुरुस्त होने की दुहाई दे रही हो लेकिन जनपद में ऐसा फिलहाल नही देखने को मिल रहा है कि कानून व्यवस्था चुस्त हो सरकार ने जमीन से संबंधित शिकायतों के त्वरित निस्तारण के लिए आईजी आरएस पोर्टल की स्थापना की है, लेकिन अधिकतर मामले आज भी पेंडिंग हैं। वजह या तो अधिकारी ध्यान नही देते या फिर उनपर किसी ऊपरी आदेश का कोई डर नही है।

जमीनी विवाद ने ली जान-

जमीनी विवाद में जमकर बवाल हुआ इस दौरान दोनों पक्षो में ईंट पत्थर और फायरिंग शुरु कर दी,जिससे एक व्यक्ति की मौत हो गयी और एक महिला गम्भीर रुप से घायल हो गयी वहीं घटना के बाद इलाके में तनाव का माहौल है स्थिति की गंभीरता को देखते हुए जनपद के पुलिस उच्चाधिकारी खुद मौके का मुआयना करने पहुच गए फिलहाल अब गांव में शांति है और भारी पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है।
ameth murder

पड़ोसी से चल रहा था ज़मीन को लेकर विवाद-

मिली जानकारी के अनुसार संग्रामपुर थानाक्षेत्र के नेवादा कनू गांव के रहने वाले अजेंद्र पाल सिंह और अनिरुद्ध सिंह व राज कुमार से जमीन को लेकर पिछले काफी समय से विवाद चल रहा था और आज इसी बात लेकर दोनों पक्षों में विवाद शुरु हो गया। मामला इस कदर बढ़ गया दोनों पक्ष आमने सामने होकर लाठी ईंट पत्थर सहित फायरिंग करने लगे जिसमे एक व्यक्ति गोली लगने से बुरी तरह जख्मी होे गया आनन फानन में उन्हें इलाज के लिये जिला अस्पताल ले जाया गया लेकिन अस्पताल में युवक ने दम तोड़ दिया वही इस खुनी झड़प में गम्भीर रूप से घायल एक महिला को प्राथमिक उपचार के बाद लखनऊ रेफर कर दिया गया है।
amethi murder

पुलिस ने कहा होगी कार्यवाही-

वहीं घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस विभाग के अधिकारी भी मौके पर पहुंच गये। पुलिस का कहना है इस मामले में केस दर्ज कर उचित कार्यवाही की जायेगी।

रिपोर्ट-राम मिश्रा

अमेठी: योगी सरकार भले कानून व्यवस्था दुरुस्त होने की दुहाई दे रही हो लेकिन जनपद में ऐसा फिलहाल नही देखने को मिल रहा है कि कानून व्यवस्था चुस्त हो सरकार ने जमीन से संबंधित शिकायतों के त्वरित निस्तारण के लिए आईजी आरएस पोर्टल की स्थापना की है, लेकिन अधिकतर मामले आज भी पेंडिंग हैं। वजह या तो अधिकारी ध्यान नही देते या फिर उनपर किसी ऊपरी आदेश का कोई डर नही है। जमीनी विवाद ने ली जान- जमीनी विवाद में…