अमेठी में असुविधा: कागजों पर सुविधाएं, सड़कों पर कुत्ते

अमेठी में असुविधा: कागजों पर सुविधाएं, सड़कों पर कुत्ते
अमेठी में असुविधा: कागजों पर सुविधाएं, सड़कों पर कुत्ते

अमेठी: अगर आप के क्षेत्र में कुत्ता, सियार और बंदर का आतंक है तो जरा संभल कर रहें। इनका काटना आप की सेहत पर भारी पड़ सकता है क्योंकि इनका शिकार होने वालों के लिए जिले में इलाज का इंतजाम नहीं है जानवरो के काटने के शिकार हुए पीड़ितों का है आरोप सीएचसी जगदीशपुर सहित जनपद के कई सीएचसी, पीएचसी पर एआरबी इंजेक्शन नहीं है। जिससे इन जानवरों से पीड़ित लोगों को भटकना पड़ रहा है।

ये है आरोप-

{ यह भी पढ़ें:- बिजली संविदाकर्मी की विद्युत स्पर्शाघात से मौत, परिवार में मचा कोहराम }

सीएचसी जगदीशपुर में कई दिनों से एआरबी नहीं होने से कुत्तों के काटने का शिकार होने वाले लोगों को भटकना पड़ रहा है। उमरा गांव में कुत्ते के काटने से जख्मी हुई मायावती का आरोप है कि जगदीशपुर सीएचसी में एआरबी नहीं होने से लोगों को बिना सुई के ही वापस जाना पड़ा था।

निजी अस्पतालों की ओर भाग रहे पीड़ित-

एआरबी खत्म होने से हमको दुश्वारी झेलनी पड़ रही है भटकने के बाद भी लोगों को इलाज नहीं मिलने से जानवरों का शिकार होने पर अनहोनी का भय सता रहा है ऐसे में लोग निजी अस्पतालों में भी इलाज के लिए भाग रहे है।

{ यह भी पढ़ें:- यूपी: सरकार से नहीं मिला पैसा तो मुस्लिम परिवार ने बनाया घास-फूस का शौचालय }

बोले जिम्मेदार-

कल रविवार होने के कारण एआरबी टीका उपलब्ध नही था लेकिन आज एआरबी टीका समुचित मात्रा में उपलब्ध है- एनके त्रिपाठी सीएचसी अधीक्षक जगदीशपुर

रिपोर्ट-राम मिश्रा

{ यह भी पढ़ें:- अमेठी: शौच के लिए निकली किशोरी से पड़ोसियों ने किया गैंगरेप }

अमेठी: अगर आप के क्षेत्र में कुत्ता, सियार और बंदर का आतंक है तो जरा संभल कर रहें। इनका काटना आप की सेहत पर भारी पड़ सकता है क्योंकि इनका शिकार होने वालों के लिए जिले में इलाज का इंतजाम नहीं है जानवरो के काटने के शिकार हुए पीड़ितों का है आरोप सीएचसी जगदीशपुर सहित जनपद के कई सीएचसी, पीएचसी पर एआरबी इंजेक्शन नहीं है। जिससे इन जानवरों से पीड़ित लोगों को भटकना पड़ रहा है। ये है आरोप- सीएचसी…
Loading...