‘प्रशिक्षु’ ने मूक-बधिर मासूम छात्र को बेरहमी से पीटा, ये है पूरा मामला

मूक बधिर अमेठी, अमेठी पिटाई
मत लगायें कार्रवाई का कयास, यहां हो रहा है समझौते का प्रयास

Amethi News 6

अमेठी: कभी दिल्ली कभी गुरुग्राम, कभी कोलकाता तो कभी पुणे ऐसा लगता है मानो पूरे देश में मासूम बच्चों की सुरक्षा पर एक प्रश्नचिन्ह लग गया है। कभी किसी बच्चे के साथ स्कूल में बलात्कार होता है तो कभी उसकी हत्या कर दी जाती है लेकिन क्यों आखिर ऐसा क्या हो गया है, जो शिक्षकों की छत्र-छाया में बच्चे सुरक्षित नहीं, बल्कि डर महसूस करने लगे हैं? गुरुग्राम के स्कूल में हुई प्रद्युम्न ठाकुर की हत्या की ख़बर पूरे देश में चर्चा का विषय बनी हुई है, वहीं अब अमेठी में सात साल के मूक-बधिर मासूम की बेरहमी से पिटाई का मामला सामने आया है।

जन्म से ही मूक-बधिर है कक्षा दो का ये मासूम छात्र –

ये घटना अमेठी के शुकुलबाज़ार थाना अंतर्गत पाली गाँव की है जन्म से ही इस मूक-बधिर सात वर्षीय सुभाष को इतनी बर्बरता से पीटा गया है कि अब वह गम्भीर रूप से घायल होने के बाद बेहद खौफजदा है आरोप है कि पाली गाँव के प्राथमिक पाठशाला के कक्षा दो के इस मूक वधिर मासूम को बैग फेकने को लेकर प्राइमरी पाठशाला में प्रशिक्षु ऋतुराज ने पीटा है प्रशिक्षु इतनी निर्दयी हो गया कि मार-मार कर बच्चे की पीठ ही सुजा दीं,जिस वजह से मासूम पीठ के बल अब लेट भी नही पा रहा है।

बैग फेकने को लेकर मासूम को बेरहमी से पीटा-

बच्चे के पिता रमेश कुमार ने बताया कि जब उनका बच्चा प्राइमरी पाठशाला से घर लौटा तब उसकी पीठ पर बहुत ही ज्यादा घाव व सूजन थी और शरीर के कुछ अंग नीली पड़ गईं थीं सुभाष के साथ पढ़ने वाले एक छात्र ने बताया कि बैग फेकने को लेकर ऋतुराज सर ने उसे लकड़ी के स्केल से हाथों, सिर और पीछे बहुत मारा है।’

सबसे बड़ा सवाल-

हालाँकि खबर लिखे जाने तक मासूम के पिता ने इस मामले को लेकर स्थानीय थाना में कोई तहरीर नही दी है लेकिन प्रशिक्षण ले रहे एक प्रशिक्षु ने बच्चे को क्यों इस तरह से मारा-पीटा ये बात अभी तक सामने नहीं आई है, पर वजह चाहे कोई भी और कितनी भी बड़ी क्यों न हो लेकिन क्या एक मूक एवं बधिर मासूम को इतनी बुरी तरह पीटा जाना चाहिए।

बोले जिम्मेदार-

मामला संज्ञान में नही है मामले को गम्भीरता से लेते हुए की जाँच कर उचित कार्यवाही की जायेगी- राजकुमार पंडित बी.एस.ए अमेठी

रिपोर्ट-राम मिश्रा/दिलीप तिवारी

अमेठी: कभी दिल्ली कभी गुरुग्राम, कभी कोलकाता तो कभी पुणे ऐसा लगता है मानो पूरे देश में मासूम बच्चों की सुरक्षा पर एक प्रश्नचिन्ह लग गया है। कभी किसी बच्चे के साथ स्कूल में बलात्कार होता है तो कभी उसकी हत्या कर दी जाती है लेकिन क्यों आखिर ऐसा क्या हो गया है, जो शिक्षकों की छत्र-छाया में बच्चे सुरक्षित नहीं, बल्कि डर महसूस करने लगे हैं? गुरुग्राम के स्कूल में हुई प्रद्युम्न ठाकुर की हत्या की ख़बर पूरे देश…