अमेठी: धरने पर बैठे पत्रकार, अब तो जागो योगी सरकार

अमेठी: धरने पर बैठे पत्रकार, अब तो जागो योगी सरकार
अमेठी: धरने पर बैठे पत्रकार, अब तो जागो योगी सरकार

Amethi Police Not Gets Clue In Abahay Murder Case

अमेठी: बेहतर कानून व्यस्वथा की आशाओं और अपेक्षाओं के साथ देश के सबसे बड़े और अहम सूबे की कमान जनता ने भाजपा को प्रचण्ड बहुमत के साथ सौपी थी। वहीं जब योगी जी ने मुख्यमंत्री के रूप में कमान संभाली तो लोगों को काफी हद तक यकीं भी होने लगा था कि अब तो उन्हें एक बेहतर कानून व्यवस्था मिलना तय है लेकिन आज 10 महीने की इस सरकार के दौरान जो हकीकत जनता के सामने आयी है उससे अब लोग खुद को ठगा सा महसूस कर रहे हैं।

वहीं जिस तरह से हाल के कुछ वक्त में सूबे के अमेठी में हत्या और लूट जैसी बड़ी घटनायें हुईं और उनमें से कई में अमेठी पुलिस का जो रवैया रहा उससे आज जनपद के सभी मुख्य विपक्षी दलों को सरकार को कानून व्यवस्था के मुद्दे पर ही घेरने का मौका मिल गया है। जिसके तहत आज जनपद में पत्रकार-पुत्र अभय सिंह हत्याकांड में अमेठी पुलिस द्वारा की जा रही हीलाहवाली और लापरवाही को लेकर जिले के पत्रकारों ने कलेक्ट्रेट में क्रमिक अनशन शुरू कर दिया है। वही दूसरी ओर जनपद के समाजवादी पार्टी और कांग्रेस पार्टी के नेताओ ने आरोप लगाया है कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार से अपराध संभल नहीं रहे हैं।

विपक्षी पार्टी के नेताओ ने बोला हमला-

समाजवादी पार्टी के नेता और गौरीगंज से विधायक राकेश प्रताप सिंह ने कहा कि योगी सरकार से उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था नहीं संभल रही है अमेठी में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं खुलेआम डकैती, लूट और हत्या को अंजाम दिया जा रहा है उन्होंने कहा कि 13 जनवरी की रात हुई छात्र अभय सिंह की निर्मम ह्त्या से हम दुखी है।

वहीं कांग्रेस पार्टी के जिला प्रवक्ता अनिल सिंह ने योगी सरकार हर हमला बोलते हुए कहा कि अमेठी में कानून नहीं,अपराधियों का राज चल रहा है अमेठी पुलिस की नाक के नीचे हत्याये हो रही है उन्होंने आरोप लगाया कि योगी सरकार में अपराध रुकने का नाम नहीं ले रहा है उल्लेखनीय है कि अमेठी के गौरीगंज थाना क्षेत्र के अंर्तगत बने जवाहर नवोदय आवासीय विद्यालय के एक छात्र अभय प्रताप की 13 जनवरी की रात बदमाशो ने निर्मम हत्या कर रेल की पटरियों पर फेक दिया था ।

पीड़ित पत्रकार के साथ अन्याय कर पुलिस कर रही पुलिस-

जनपद के समाजसेवी इक़बाल हैदर का कहना है कि अभय सिंह हत्याकांड मामले में अमेठी पुलिस को निष्पक्ष और सही दिशा में जांचकर खुलासा करना चाहिए लेकिन अभी तक ऐसा नही हुआ जिससे पीड़ित परिवार के साथ अन्याय हो रहा है अब तो यही लगता है कि अमेठी में अपराध और अन्याय दोनो बढ़ रहे है।

अमले में आमूल-चूल बदलाव की जरूरत-

वहीं कानून व्यवस्था के मामले पर तमाम पुराने जानकारों के अनुसार मुख्यमंत्री योगी को अब कानून व्यवस्था के मुद्दे पर बड़ी ही गंभीरता से काम करना होगा जिसके तहत सबसे पहले इस अहम मामले मे ढिलाई बरतने वाले पुलिस अधिकारियों से लेकर कर्मचारियो पर सख्त से सख्त कारवाई कर बाकियों को एक संदेश देना होगा साथ ही सरकार की छवि को धूमिल करने वाले उन तमाम अफसरों को हटाकर जो वाकई में काबिल और लायक अधिकारी हैं उनके हाथ में कमान सौंपनी होगी।

नही तो आगामी दिनों बदल सकती है बीजेपी की तस्वीर-

कैसे भी जनता को बेहतर कानून व्यवस्था के साथ एक सुरक्षित वातावरण देना होगा वरना आगामी 2019 के लोकसभा चुनाव में प्रदेश में भाजपा की तस्वीर और तकदीर दोनों ही को बदलने में वक्त नही लगेगा और इसकी जवाबदेही तो फिर योगी जी की होगी वैसे भी उनको फिलहाल अंदर और बाहर दोनों तरह के दुश्मनो से दो चार होना पड़ रहा है।

रिपोर्ट-राम मिश्रा

अमेठी: बेहतर कानून व्यस्वथा की आशाओं और अपेक्षाओं के साथ देश के सबसे बड़े और अहम सूबे की कमान जनता ने भाजपा को प्रचण्ड बहुमत के साथ सौपी थी। वहीं जब योगी जी ने मुख्यमंत्री के रूप में कमान संभाली तो लोगों को काफी हद तक यकीं भी होने लगा था कि अब तो उन्हें एक बेहतर कानून व्यवस्था मिलना तय है लेकिन आज 10 महीने की इस सरकार के दौरान जो हकीकत जनता के सामने आयी है उससे अब…