1. हिन्दी समाचार
  2. सीमा विवाद के बीच, चीन ने अरुणाचल प्रदेश से लापता पांचों युवकों को भारत को सौंपा

सीमा विवाद के बीच, चीन ने अरुणाचल प्रदेश से लापता पांचों युवकों को भारत को सौंपा

Amidst Border Dispute China Handed Over Five Missing Men From Arunachal Pradesh To India

By सोने लाल 
Updated Date

नई दिल्ली। भारत और चीन सीमा पर तना तनी का माहौल बना हुआ है। कुछ दिनों पहले अरुणाचल प्रदेश में पांच युवक लापता हुए थे, वे पाचों भारतीय युवक अब अपने देश लौट आए हैं। आज दोपहर में अरुणाचल प्रदेश से भटकर चीन की सीमा में लापता हुए पांचों भारतीय युवकों को चीन की सेना ने भारत को सौंप दिया है। चीनी सेना पीएलए ने बीते दिनों कहा था कि चार सितंबर को अपर सुबनसिरी जिले में भारत-चीन सीमा से लापता हुए पांच युवक उन्हें सीमापार मिले थे। हालांकि, भारतीय पक्ष में इसकी सूचना सबसे पहले कांग्रेस विधायक निनॉन्ग इरिंग ने दी थी और उन्होंने कथित तौर पर चीन द्वारा आगवा किए जाने की बात कही थी।

पढ़ें :- सरकारी भर्ती: 12वीं पास के लिए निकली नौकरी, फटाफट करें अप्लाई

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, तेजपुर में रक्षा के जनसंपर्क अधिकारी ने कहा कि भारतीय सेना ने सभी औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद आज किबिट्टू में पांचों भारतीय युवकों (अरुणाचल प्रदेश से लापता) को रिसीव किया। अब कोरोना प्रोटोकॉल के अनुसार, उन पांचों भारतीय नागरिकों को 14 दिनों के क्वारंटाइन किया जाएगा और उसके बाद उनके परिवार के सदस्यों को सौंप दिया जाएगा।

यह घटना तब सामने आई थी जब एक समूह के दो सदस्य जंगल में शिकार के लिए गए थे और लौटने पर उन्होंने उक्त पांच युवकों के परिवार वालों को जानकारी दी थी कि युवकों को सेना के गश्ती क्षेत्र सेरा-7 से चीनी सैनिक ले गए हैं। यह स्थान नाचो से 12 किलोमीटर उत्तर में स्थित है।

मैकमोहन रेखा पर स्थित नाचो अंतिम प्रशासनिक क्षेत्र है और यह दापोरीजो जिला मुख्यालय से 120 किलोमीटर दूर है। चीनी सेना द्वारा कथित तौर पर अगवा किए गए युवकों की पहचान तोच सिंगकम, प्रसात रिंगलिंग, डोंगतु एबिया, तनु बाकर और नगरु दिरी के रूप में की गई।

मंत्री रिजिजू ने ट्वीट करते हुए बताया कि चीन की पीएलए ने भारतीय सेना से इस बात की पुष्टि ​की है कि वह अरुणांचल प्रदेश के युवकों को हमें सौंप देंगे। चीनी सेना ने बताया था कि आज 12 सितंबर को किसी भी समय एक निर्दिष्ट स्थान पर सौंपा जा सकता है। इसके अलावा, रिजिजू ने ही पहली बार इसकी सूचना दी थी कि पीएलए ने इस बात की पुष्टि की है कि युवक सीमा पार चीन में पाए गए हैं।

पढ़ें :- अब बलरामपुर में हाथरस जैसी हैवानियत, दलित छात्रा से गैंगरेप, कमर और पैर तोड़े, पीड़िता की मौत

कैसे सामने आया मामला

सबसे पहले अरुणाचल प्रदेश से कांग्रेस विधायक निनॉन्ग इरिंग ने दावा किया था कि चीन की पीपुल्स रिपब्लिक आर्मी ने भारत के पांच युवकों को कथित तौर पर अगवा कर लिया है। विधायक इरिंग ने पीएमओ को टैग कर मामला संज्ञान में लाया था। विधायक ने दावा किया था कि अरुणाचल प्रदेश के सुबनसिरी जिले के पांच लोगों को अगवा किया गया है। उन्होंने भारत सरकार से तुरंत कार्रवाई की मांग की थी।

इसके बाद केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू ने भी अरुणाचल प्रदेश के 5 निवासियों को लेकर चिंता जाहिर करते हुए कहा था कि भारतीय सेना ने रविवार को अपने चीनी समकक्ष को हॉटलाइन संदेश भेजा था। हालांकि, एक दिन पहले ही चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता से जब यह सवाल किया गया तो उन्होंने कहा था कि इस संबंध में उनके पास बताने के लिए कुछ नहीं है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...