पश्चिम बंगाल में हमले के बाद बोले अमित शाह, सीआरपीएफ न होती तो मेरा बच ​के निकलना मुश्किल था

amit shah
पश्चिम बंगाल में हमले के बाद बोले अमित शाह, सीआरपीएफ न होती तो मेरा बच ​के निकलना मुश्किल था

नई दिल्ली। ममता बनर्जी ने बीजेपी पर हिंसा करने का आरोप लगाया है। उन्होने कहा कि ममता जी याद रखें कि वो सिर्फ 42 सीटों पर चुनाव लड़ रहीं हैं, जबकि बीजेपी पूरे देश में लड़ रही है। इसके बावजूद भी देश में कहीं भी हिंसा नहीं हुई। इसका साफ़ मतलब है कि हिंसा TMC कर रही है। उन्होने कहा कि यहां तो लोकतंत्र का गला घोंटा जा रहा है। उन्होने याद दिलाया अभी कि छह चरणों के चुनाव में पश्चिम बंगाल को छोड़कर कहीं भी हिंसा नहीं हुई है। शाह ने एक सवाल के जवाब में कहा कि अगर सीआरपीएफ के जवान ना होते तो उनका बचके निकलना मुश्किल था।

Amit Shah Address Press Conferrence After Kolkata Violence :

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि ममता बनर्जी घबराई हुई हैं, जिसके चलते वो हिंसा करवा रहीं हैं। इस दौरान उन्होने चुनाव आयोग पर निशाना साधा। उन्होने कहा कि चुनाव आयोग गड़बड़ी करने वालों पर सख्ती क्यों नहीं कर रहा है और ममता की धमकी पर चुनाव आयोग ने एक्शन क्यों नहीं लिया। बीजेपी अध्यक्ष ने कहा, बंगाल में एक भी हिस्ट्रीशीटर को नहीं पकड़ा गया।

अमित शाह ने कहा कि वोटबैंक की राजनीति के लिए महान शिक्षाशास्त्री की प्रतिमा तोड़ने का मतलब है कि टीएमसी की उल्टी गिनती शुरू हो गई। बाद में उन्होने कहा कि मैं पूछना चाहता हूं कि क्यों चुनाव आयोग चुप बैठा है? इन सब के बाद चुनाव आयोग की निष्पक्षता पर सवाल उठ रहे हैं।

बता दें कि मंगलवार को अमित शाह के रोड शो के दौरान बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस समर्थकों के बीच हिंसक झड़पें हुईं। इस दौरान पुलिस किसी तरह अमित शाह को सुरक्षित स्थान पर ले गई। अधिकारियों का कहना है कि जब विद्यासागर कॉलेज के भीतर से टीएमसी के कथित समर्थकों ने शाह के काफिले पर पथराव किया जिससे दोनों पार्टियों के समर्थकों के बीच झड़प हुई।

नई दिल्ली। ममता बनर्जी ने बीजेपी पर हिंसा करने का आरोप लगाया है। उन्होने कहा कि ममता जी याद रखें कि वो सिर्फ 42 सीटों पर चुनाव लड़ रहीं हैं, जबकि बीजेपी पूरे देश में लड़ रही है। इसके बावजूद भी देश में कहीं भी हिंसा नहीं हुई। इसका साफ़ मतलब है कि हिंसा TMC कर रही है। उन्होने कहा कि यहां तो लोकतंत्र का गला घोंटा जा रहा है। उन्होने याद दिलाया अभी कि छह चरणों के चुनाव में पश्चिम बंगाल को छोड़कर कहीं भी हिंसा नहीं हुई है। शाह ने एक सवाल के जवाब में कहा कि अगर सीआरपीएफ के जवान ना होते तो उनका बचके निकलना मुश्किल था। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि ममता बनर्जी घबराई हुई हैं, जिसके चलते वो हिंसा करवा रहीं हैं। इस दौरान उन्होने चुनाव आयोग पर निशाना साधा। उन्होने कहा कि चुनाव आयोग गड़बड़ी करने वालों पर सख्ती क्यों नहीं कर रहा है और ममता की धमकी पर चुनाव आयोग ने एक्शन क्यों नहीं लिया। बीजेपी अध्यक्ष ने कहा, बंगाल में एक भी हिस्ट्रीशीटर को नहीं पकड़ा गया। अमित शाह ने कहा कि वोटबैंक की राजनीति के लिए महान शिक्षाशास्त्री की प्रतिमा तोड़ने का मतलब है कि टीएमसी की उल्टी गिनती शुरू हो गई। बाद में उन्होने कहा कि मैं पूछना चाहता हूं कि क्यों चुनाव आयोग चुप बैठा है? इन सब के बाद चुनाव आयोग की निष्पक्षता पर सवाल उठ रहे हैं। बता दें कि मंगलवार को अमित शाह के रोड शो के दौरान बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस समर्थकों के बीच हिंसक झड़पें हुईं। इस दौरान पुलिस किसी तरह अमित शाह को सुरक्षित स्थान पर ले गई। अधिकारियों का कहना है कि जब विद्यासागर कॉलेज के भीतर से टीएमसी के कथित समर्थकों ने शाह के काफिले पर पथराव किया जिससे दोनों पार्टियों के समर्थकों के बीच झड़प हुई।