अमेठी रैली: अमित शाह ने राहुल गांधी से मांगा 3 पीढ़ियों का हिसाब

अमेठी। एक तरफ जहां कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी गुजरात में घूम-घूमकर बीजेपी सरकार पर हमला कर रहे हैं वहीं, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह भी राहुल को उनके घर अमेठी से घेरने में लगे हुए है। इसी कड़ी में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम केशव मौर्य और यूपी अध्यक्ष महेंद्रनाथ पांडे रैली अमेठी में रैली कर रहे हैं। यहां अमित शाह ने कांग्रेस समेत राहुल गांधी पर जमकर तंज़ कसा। शाह ने राहुल पर तंज़ कंसते हुए कहा,’बाबा ये आपने अमेठी का क्या कर दिया। आपने अमेठी का तो बंटाधार कर दिया।

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि‍ मैंने विधानसभा में अपील की थी कि‍ यूपी में अमेठी की सीटों से सरकार बनाना चाहता हूं। मेरी इस अपील को अमेठी की जनता ने पूरा‍ किया। पांच में चार सीट जीताकर अमेठी की जनता ने हमारी मदद की। शाह ने कहा कि मैंने पहली बार देखा कि जीता हुआ प्रत्याशी जनता का हाल न ले और हारा हुआ प्रत्याशी क्षेत्र में विकास का काम करें। स्मृति ईरानी ने यह उदाहरण पेश किया है।

{ यह भी पढ़ें:- खरीद फरोख्त पर बोले राहुल गांधी- गुजरात अमूल्य है, खरीदा नहीं जा सकता }

शाह ने कहा कि अमेठी की धरती से कांग्रेस के शहजादे से पूछना चाहता हूं कि तीन तीन पीढ़ी को यहां की जनता ने वोट किया। आप मोदी सरकार से तीन साल का हिसाब मांगते हो, मैं आपसे तीन पीढ़ी का हिसाब मांगता हूं। राहुल आप इतने साल से सांसद है, अमेठी में कलेक्ट्रेट ऑफिस क्यों नहीं शुरु हुआ। अस्पताल टीबी यूनिट क्यों नहीं शुरू हुआ। शाह ने कहा कि देश में दो प्रकार के विकास का मॉडल है, गांधी नेहरू परिवार का मॉडल और एक मोदी का विकास का मॉडल। गांधी नेहरू परिवार के मॉडल का हाल आप अच्छी तरह से जानते हो।

योेगी ने गिनाई उपलब्धि
उधर, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सरकार की उपलब्धि गिनाते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की वजह से पूरी दुनिया में भारत को प्रतिष्ठा प्राप्त हुई है। योगी ने कहा कि जिस नोटबंदी की कुछ लोग आलोचना कर रहे हैं मोदी सरकार की उसी पहल की नोबेल विजेता अर्थशास्त्री ने भी तारीफ की थी। किसानों की समस्याओं पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि पहले किसान को उनकी फसल का सही रेट नहीं मिल पाता था, लेकिन बीजेपी के प्रदेश में आने के बाद 37 लाख मीट्र‍ि‍क टन सीधे गेंहू किसानों से खरीदा गया है।

{ यह भी पढ़ें:- गुजरात में भाजपा को तगड़ा झटका, खरीद फरोख्त के आरोपों से घिरी पार्टी }