1. हिन्दी समाचार
  2. अनुच्छेद 370 को लेकर कई गलतफहमियां थी, लेकिन अब आ गया सच्चा इतिहास लिखने का वक्त: अमित शाह

अनुच्छेद 370 को लेकर कई गलतफहमियां थी, लेकिन अब आ गया सच्चा इतिहास लिखने का वक्त: अमित शाह

Amit Shah Said On Article 370 And Kashmir Many Misconceptions About It

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने रविवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के कार्यक्रम में हिस्सा लिया। इस दौरान उन्होंने अनुच्छेद 370 (Article 370) को लेकर एक बार फिर कांग्रेस (Congress) पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कश्मीर (Kashmir) को लेकर कई गलतफहमियां थी। लोगों को इतिहास के बारे में सही जानकारियां नहीं दी गईं, लेकिन अब वक्त आ गया है कि देश का सच्चा इतिहास लिखा जाए।

पढ़ें :- अभिनेता राहुल रॉय को ब्रेन स्ट्रोक, आईसीयू में कराया गया भर्ती

शाह ने कहा, ‘बहुत सारी भ्रांतियां और गलतफहमियां अनुच्छेद 370 और कश्मीर के बारे में आज भी फैली हुई हैं, उनका स्पष्ट होना जरूरी है। जितना स्पष्ट कश्मीर की जनता के सामने होना जरूरी है उतना स्पष्ट भारत की जनता में भी होना जरुरी है।’  

अनुच्छेद 370 से जुड़ी भ्रांतियो को दूर करना बताया जरूरी

गृहमंत्री ने आर्टिकल 370 हटाने के फैसले पर यह भी कहा कि आम जनता और कश्मीरियों को भी इससे जुड़ी भ्रांतियों को खत्म करना है। उन्होंने कहा, ‘बहुत सारी भ्रांतियां और गलतफहमियां अनुच्छेद 370 और कश्मीर के बारे में आज भी फैली हुई हैं। उनका स्पष्ट होना जरूरी है। जितना स्पष्ट कश्मीर की जनता के सामने होना जरूरी है, उतना ही स्पष्ट भारत की जनता में भी होना जरुरी है।’

630 रियासतों को एक करने का श्रेय शाह ने पटेल को दिया

पढ़ें :- Ind vs Aus: ऑस्ट्रेलियाई लड़की को भारतीय फैन ने बीच मैच में प्रपोज कर किया KISS, देखिए वीडियो..

बीजेपी अध्यक्ष ने इस मौके पर देश के पहले गृहमंत्री को भी याद किया। उन्होंने कहा, ‘सबसे पहले जब देश आजाद होता है तो उसके सामने सुरक्षा का प्रश्न, संविधान बनाने का प्रश्न ऐसे कई प्रकार के प्रश्न होते हैं। हमारे सामने 630 रियासतों को एक करने का प्रश्न आ गया। 630 रियासतों को एक करने में कोई दिक्कत नहीं आई। जम्मू-कश्मीर को अटूट रूप से एक करने में 5 अगस्त, 2019 तक का समय लग गया। सरदार पटेल की ही दृढ़ता का परिणाम था कि 630 रियासतें आज एक देश के रूप में दुनिया के अंदर अस्तित्व रखती हैं।’  

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...