अमित शाह से बातचीत के बाद नितिन पटेल ने ग्रहण किया कार्यभार

gujrat1
अमित शाह से बातचीत के बाद नितिन पटेल ने ग्रहण किया कार्यभार

नई दिल्ली। गुजरात की नवनिर्वाचित भारतीय जनता पार्टी की सरकार में सब कुछ ठीक नहीं है। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल के बीच विभागों के बटवारे को लेकर तीन दिन पहले शुरु हुई खींचतान को बढ़ता देख केन्द्रीय नेतृत्व को दखलंदाजी करनी पड़ी। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ​अमित शाह ने नितिन पटेल से ​व्यक्तिगत रूप से फोन पर बात की और उन्हें उनका सम्मान वापस मिलने का आश्वासन देते हुए, कार्यभार संभालने को कहा। जिसके बाद नितिन पटेल के तेवर नरम पड़ गए हैं।

जिस तरह से विजय रूपाणी ने अपने नए मंत्रिमंडल की रूपरेखा तैयार की उसे लेकर नितिन पटेल पहले दिन से खुश नहीं थे। उनकी नाराजगी पहले दिन तो चुप्पी के रूप में सुर्खियां बटोरती दिखी तो अगले दिन उन्होंने वित्त मंत्रालय का कार्यभार छीने जाने को अपने सम्मान से जोड़कर खुले तौर पर अपनी नाराजगी दर्ज करवाई। जिसके बाद सियासी गलियारे में नितिन पटेल के इस्तीफे तक की चर्चा सुर्खियां बटोरती नजर आई।

{ यह भी पढ़ें:- जम्मू-कश्मीर : कांग्रेस नही देगी महबूबा मुफ्ती का साथ }

नितिन पटेल ने मीडिया के सामने अपने पुराने पोर्टफोलियो का जिक्र करते हुए, वित्त विभाग जैसे अहम कार्यालय के छीने जाने को अपने सम्मान और कद के साथ जोड़कर किसी भी विभाग की जिम्मेदारी लेने से इंकार कर दिया।

अमित शाह ने दिया मनचाहा विभाग देने का आश्वासन—

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और नाराज चल रहे गुजरात सरकार के उप मुख्यमंत्री नितिन पटेले के बीच रविवार को फोन पर बातचीत हुई है। पार्टी के कद्दावर नेता के रूप में पहचान रखने वाले नितिन पटेल ने मीडिया के सामने शाह से हुई बात का हवाला देते हुए कहा है कि उन्हें अमित शाह की ओर से कॉल आई थी। जिसमें उन्होंने मनमुताबिक विभाग मिलने के लिए उन्हें आश्वस्त किया है। उनकी बात को ध्यान में रखते हुए वह बतौर मंत्री कार्यभार ग्रहण कर रहे हैं।

{ यह भी पढ़ें:- कश्मीर में टूटा PDP-BJP गठबंधन, लगेगा राष्ट्रपति शासन }

नई दिल्ली। गुजरात की नवनिर्वाचित भारतीय जनता पार्टी की सरकार में सब कुछ ठीक नहीं है। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल के बीच विभागों के बटवारे को लेकर तीन दिन पहले शुरु हुई खींचतान को बढ़ता देख केन्द्रीय नेतृत्व को दखलंदाजी करनी पड़ी। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ​अमित शाह ने नितिन पटेल से ​व्यक्तिगत रूप से फोन पर बात की और उन्हें उनका सम्मान वापस मिलने का आश्वासन देते हुए, कार्यभार संभालने को कहा। जिसके बाद नितिन…
Loading...