गांधीनगर से अमित शाह ने दाखिल किया नामांकन, अरूण जेटली समेत मौजूद थे यह दिग्गज नेता

amit
गांधीनगर से अमित शाह ने नामांकन भरा, अरूण जेटली समेत मौजूद थे भाजपा के दिग्गज नेता

गुजरात। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह आज गुजरात के गांधीनगर सीट से नामांकन दाखिल किया। नामांकन दाखिल करने से पूर्व उन्होंने जनसभा को संबोधित किया और रोड शो किया। रोड शो के दौरान उन्होंने गांधीनगर की जनता से मुलाकात की और कांग्रेस पर हमला बोला।

Amit Shah Was Nominated From Gandhinagar :

नामांकन के समय अमित शाह के साथ वित्त मंत्री अरूण जेटली, गृहमंत्री राजनाथ सिंह, गुजरात के सीएम विजय रूपाणी और शिवसेना के प्रमुख उद्धव ठाकरे मौजूद रहे। पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ रहे अमित शाह ने आज गांधीनगर सीट से नामांकन दाखिल किया।

इस दौरान उन्होंने जनसभा को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि मुझमें से भाजपा को निकाल दो तो शून्य बचता है। मैंने जो कुछ भी किया देश के लिए, भाजपा की ही देन है। अंत में उन्होंने फिर एक बार, मोदी सरकार का नारा लगाया और लोगों से भी लगवाया।

बतातें चलें कि रोड शो से पहले गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने वहां के लोगों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि जो काम वह साढ़े पांच सालों में नहीं कर पाये वह अमिश शाह जी ने साढ़े चार साल में कर दिया। इसके साथ ही उद्धव ठाकरे ने भी लोगों को संबोधित किया।

गुजरात। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह आज गुजरात के गांधीनगर सीट से नामांकन दाखिल किया। नामांकन दाखिल करने से पूर्व उन्होंने जनसभा को संबोधित किया और रोड शो किया। रोड शो के दौरान उन्होंने गांधीनगर की जनता से मुलाकात की और कांग्रेस पर हमला बोला।

नामांकन के समय अमित शाह के साथ वित्त मंत्री अरूण जेटली, गृहमंत्री राजनाथ सिंह, गुजरात के सीएम विजय रूपाणी और शिवसेना के प्रमुख उद्धव ठाकरे मौजूद रहे। पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ रहे अमित शाह ने आज गांधीनगर सीट से नामांकन दाखिल किया।

इस दौरान उन्होंने जनसभा को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि मुझमें से भाजपा को निकाल दो तो शून्य बचता है। मैंने जो कुछ भी किया देश के लिए, भाजपा की ही देन है। अंत में उन्होंने फिर एक बार, मोदी सरकार का नारा लगाया और लोगों से भी लगवाया।

बतातें चलें कि रोड शो से पहले गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने वहां के लोगों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि जो काम वह साढ़े पांच सालों में नहीं कर पाये वह अमिश शाह जी ने साढ़े चार साल में कर दिया। इसके साथ ही उद्धव ठाकरे ने भी लोगों को संबोधित किया।