लखनऊ में धरना के दौरान लाठीचार्ज की आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों नेे निन्दा की

बिजनौर। लखनऊ में धरना दे रही आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों पर लाठीचार्ज की निन्दा करते हुए आंगनबाडियों ने रोष जताया। विभिन्न मांगों को लेकर उप्र आंगनबाड़ी कार्यकत्री एवं सहायिका कर्मचारी एसोसिएशन का कार्य बहिष्कार बुधवार को भी जारी रहा। आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों ने सीडीपीओ कार्यालय पर धरना देते हुए मांगें पूरी करने की मांग की। संगठन की जिलाध्यक्ष शारदा चैधरी ने कहा कि राज्य सरकार आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों से बीएलओ, पल्स पोलियो व जनगणना आदि अतिरिक्त कार्य करा रही है, लेकिन वेतन के नाम पर न्यूनतम मजदूरी भी नहीं दी जा रही है।




आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों का आर्थिक शोषण रोकने के लिये कम से कम 18 हजार रुपये प्रतिमाह वेतन दिया जाये। जिला वरिष्ठ उपाध्यक्ष शीला देवी ने कहा कि उनका संगठन आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों व सहायिकाओं को राज्य कर्मचारी घोषित करने, गीष्मकालीन व शीतकालीन अवकाश देने, हौसल पोषण योजना के खातों से प्रधान को हटाने एवं लाभार्थी के खाते में सीधे धनराशि हस्तांतरित करने आदि की मांग कर रहा है, लेकिन शासन प्रशासन उनकी मांगों को अनदेखा करने में लगा है।

मांगे पूरी न होने तक आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों व सहायिकाओं ने कार्य बहिष्कार जारी रखने की हुंकार भरी। इसकें अलावा लखनऊ में धरना दे रही आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों पर लाठीचार्ज की निन्दा की। कार्य बहिष्कार करने वालों मनीषा, सीमा, रेखा, संतरेश, शिवानी, दीपमाला, बबीता, कमलेश, पारुल, रश्मि व नेहा आदि शामिल रहीं।

बिजनौर से शहजाद अंसारी की रिपोर्ट




Loading...