1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. Ankita Raj Murder Case : झारखंड हाईकोर्ट ने स्वतः लिया संज्ञान, विधायक बोले- ‘दोषियों को चौराहे पर मारो गोली’

Ankita Raj Murder Case : झारखंड हाईकोर्ट ने स्वतः लिया संज्ञान, विधायक बोले- ‘दोषियों को चौराहे पर मारो गोली’

झारखंड के दुमका में अंकिता राज हत्याकांड मामले (Ankita Raj Murder Case) में मंगलवार को हाईकोर्ट ने स्वतः संज्ञान लिया है। झारखंड हाईकोर्ट (Jharkhand High Court) के मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली पीठ ने इस मामले से जुड़ी फाइलों के साथ डीजीपी और मुख्य सचिव को भी तलब किया है। इसके साथ ही अदालत ने पीड़ित परिवार को सुरक्षा मुहैया कराने का आदेश दिया है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

रांची। झारखंड के दुमका में अंकिता राज हत्याकांड मामले (Ankita Raj Murder Case) में मंगलवार को हाईकोर्ट ने स्वतः संज्ञान लिया है। झारखंड हाईकोर्ट (Jharkhand High Court) के मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली पीठ ने इस मामले से जुड़ी फाइलों के साथ डीजीपी और मुख्य सचिव को भी तलब किया है। इसके साथ ही अदालत ने पीड़ित परिवार को सुरक्षा मुहैया कराने का आदेश दिया है।

पढ़ें :- Ankita Murder Case :अंकिता के पिता का बड़ा सवाल- जब रिसॉर्ट में थे सबूत, उसे क्यों तोड़ा, डीएम बोले- पता करेंगे किसके आदेश से चला बुलडोजर?

बता दें कि दुमका हत्याकांड के बाद झारखंड के कई जिलों में उबाल है। कई संगठन अंकिता की हत्या के आरोपी शाहरुख को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग कर रहे हैं। तो वहीं भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Chief Minister Hemant Soren) पर तुष्टीकरण का आरोप लगाया है। वहीं, निर्दलीय विधायक सरयू राय (Independent MLA Saryu Rai) ने अंकिता हत्याकांड (Ankita Murder Case) पर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि ऐसे दोषियों को चौराहे पर गोली मार देनी चाहिए।

एफएसएल की टीम घटनास्थल पर

झारखंड सीआईडी (Jharkhand CID) के डीएसपी संदीप कुमार गुप्ता (DSP Sandeep Kumar Gupta) ने कहा कि हमारे साथ फॉरेंसिक साइंस लेबोरेटरी की टीम (Forensic Science Laboratory team) , फिंगर प्रिंट ब्यूरो की टीम (Finger Print Bureau team) और सीआईडी (CID)की टीम है। हम साक्ष्य एकत्रित कर रहे हैं। जल्द से जल्द साक्ष्य इकट्ठा कर कोर्ट को सौंपा जाएगा। वहीं इस मामले में एसडीपीओ (SDPO)के नाम को लेकर बवाल मच गया था, जिसके बाद एसडीपीओ नूर मुस्तफा (SDPO Noor Mustafa) को जांच से हटा दिया गया है।

आरोपी ने घटना को इस तरह से दिया था अंजाम

पढ़ें :- Ankita Murder Case: प्रियंका गांधी ने उत्तराखंड सरकार से पूछा- पोस्टमार्टम रिपोर्ट क्यों नहीं दे रहे? फास्टट्रैक कोर्ट में सुनवाई करने की मांग

बता दें कि, 23 अगस्त को एकतरफा प्यार में पड़ोस में रहने वाले एक शख्स ने छात्रा पर पेट्रोल छिड़क कर उसे आग के हवाले कर दिया था। घटना के वक्त वह घर में सो रही थी। यह हमला मंगलवार की सुबह करीब 4.30 बजे हुआ। युवती ने अपने बयान में बताया कि सुबह में आरोपी शाहरुख कमरे की खिड़की के सामने खड़ा था। वह एक ज्वलनशील तरल और एक माचिस के साथ एक कैन पकड़े हुए था।

पुलिस अधिकारी ने कहा कि आरोपी ने ज्वलनशील तरल कमरे में फेंक दिया और पर्दे जला दिए। उसने और भी अधिक तरल पदार्थ कमरे के अंदर फेंक दिया ताकि वह बच न सके। नूर मुस्तफा ने कहा वह अंदर बुरी तरह से फंस गई थी। उसे उसके परिवार और पड़ोसियों द्वारा बचाया गया और उसे दुमका मेडिकल कॉलेज और अस्पताल ले जाया गया, जिसने आकलन किया कि वह 95 फीसदी जली हुई है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...