सरकार के खिलाफ आंदोलन करने जा रहा हूं, इस बार कोई केजरीवाल पैदा नहीं होगा: अन्ना हज़ारे

anna-hazare

नई दिल्ली। दिग्गज समाजसेवी व गांधीवादी नेता अन्ना हज़ारे एक बार फिर सरकार के खिलाफ आंदोलन करने की तैयारी में हैं लेकिन उनका कहना है कि इस बार के आंदोलन से किसी भी केजरीवाल का जन्म नहीं होगा। जो भी इस बार आंदोलन का हिस्सा बनेगा उससे लिखित में लिखवाया जाएगा कि वो आगे चल कर कोई राजनीतिक पार्टी नहीं बनाएगा। गौरतलब है कि आम आदमी पार्टी व दिल्ली के मौजूदा मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अन्ना आंदोलन की ही देन है।

Anna Hazare Says No One Will Be Arvind Kejriwal From My Agitation :

मंगलवार को अन्ना हज़ारे ने मीडिया से बातचीत में बताया कि वे एक बार फिर पुराने अंदाज़ में ही दिल्ली के रामलीला मैदान में आंदोलन करने जा रहे हैं जिसमें लोकपाल की नियुक्ति, किसानों की समस्या, चुनाव सुधार को लेकर जनता में जागरूकता की बात होगी। उन्होंने कहा कि हमें भाजपा और कांग्रेस सरकार नहीं चाहिए। क्योंकि इनके जहन में उद्योगपति और इंडस्ट्री है, आम जनता नहीं। बोले कि देश के किसानों को फसल का उचित मूल्य नहीं मिल रहा। जबकि बैंक किसानों से मोटा ब्याज वसूल रहे हैं। जिसके चलते वह आत्महत्या कर रहे हैं।

जीएसटी और नोटबंदी पर हजारे ने कहा कि सरकार के मुताबिक, बैंकों का 99 फीसदी पैसा जमा हो गया है, तो कालाधन कहां चला गया। उन्होंने मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी ने 30 दिनों के भीतर देश में कालाधन वापस लाने के लिए कहा था और हर आदमी के खाते में 15-15 लाख रुपये आने की बात कही थी, लेकिन किसी के खाते में 15 रुपये तक नहीं आए।

नई दिल्ली। दिग्गज समाजसेवी व गांधीवादी नेता अन्ना हज़ारे एक बार फिर सरकार के खिलाफ आंदोलन करने की तैयारी में हैं लेकिन उनका कहना है कि इस बार के आंदोलन से किसी भी केजरीवाल का जन्म नहीं होगा। जो भी इस बार आंदोलन का हिस्सा बनेगा उससे लिखित में लिखवाया जाएगा कि वो आगे चल कर कोई राजनीतिक पार्टी नहीं बनाएगा। गौरतलब है कि आम आदमी पार्टी व दिल्ली के मौजूदा मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अन्ना आंदोलन की ही देन है।मंगलवार को अन्ना हज़ारे ने मीडिया से बातचीत में बताया कि वे एक बार फिर पुराने अंदाज़ में ही दिल्ली के रामलीला मैदान में आंदोलन करने जा रहे हैं जिसमें लोकपाल की नियुक्ति, किसानों की समस्या, चुनाव सुधार को लेकर जनता में जागरूकता की बात होगी। उन्होंने कहा कि हमें भाजपा और कांग्रेस सरकार नहीं चाहिए। क्योंकि इनके जहन में उद्योगपति और इंडस्ट्री है, आम जनता नहीं। बोले कि देश के किसानों को फसल का उचित मूल्य नहीं मिल रहा। जबकि बैंक किसानों से मोटा ब्याज वसूल रहे हैं। जिसके चलते वह आत्महत्या कर रहे हैं।जीएसटी और नोटबंदी पर हजारे ने कहा कि सरकार के मुताबिक, बैंकों का 99 फीसदी पैसा जमा हो गया है, तो कालाधन कहां चला गया। उन्होंने मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी ने 30 दिनों के भीतर देश में कालाधन वापस लाने के लिए कहा था और हर आदमी के खाते में 15-15 लाख रुपये आने की बात कही थी, लेकिन किसी के खाते में 15 रुपये तक नहीं आए।