आतंकवाद के मुद्दे पर ​घिरे पाकिस्तान को अमेरिका का एक और झटका

donald trump
अमेरिका ने दिया पाकिस्तान नागरिकों को झटका, अब पांच साल का नहीं मिलेगा वीजा

नई दिल्ली। आतंकवाद के मुद्दे पर चौतरफा घिरे पाकिस्तान की विश्व​भर में जमकर किरकिरी हो रही है। सभी देश पाकिस्तान में पनप रहे आतंकवाद का विरोध कर रहे हैं। ऐसे में अमेरिका ने पाकिस्तान को एक और झटका दिया है, जिसमें उसने पाकिस्तान नागरिकों की वीजा की अवधि को घटा दिया है। यह अवधि अब पांच वर्षों की जगह तीन महीने की कर दी गयी है। इसके साथ ही आवेदन शुल्क को भी बढ़ा दी गयी है। पुलवामा हमले के बाद से पाकिस्तान पर लगातार आतंकवादियों को संरक्षण देने का आरेाप लग र हा है। ऐसा माना जा रहा है कि अमेरिका ने इसको लेकर ही यह बड़ा फैसला लिया है।
अमे​रिकी दूतावास के प्रवक्ता ने बताया कि पाकिस्तान नागरिकों के वीजा की अवधि को पांच साल से घटाकर तीन महीने कर दी गयी है। वीजा आवेदन का शुल्क भी बढ़ा दी गयी है। पहले पाकिस्तानी नागरिक को वीजा आवेदन की लिए 160 डॉलर चुकाने पड़ते थे लेकिन अब पाकिस्तानी नागरिकों को वीजा आवेदन शुल्क के लिए 192 डॉलर की फीस जमा करनी होगी। प्रवक्ता ने बताया कि यह फैसला पाकिस्तान की वीजा नीति और कागजातों में शुल्क संशोधन के कारण लिया गया है।

Another Blow To Pakistan The Pakistan Occupied Terrorism Issue :

वहीं, पाकिस्तान के सरकारी आधिकारियों के बारे में अमेरिकी दूतावास के प्रवक्ता ने बताया कि अमेरिका प्रशासन उनकी कार्य अवधि को देखकर यह तय करेगा। प्रवक्ता ने बताया कि इस्लामाबाद ने अमेरिकी नागरिकों के लिए वीजा अवधि कम कर दी थी और वीजा शुल्क भी बढ़ा दिया था। गौरतलब है ​कि पाकिस्तानी राजनयिकों पर लगे अमेरिकी प्रतिबंधों के बाद पिछले साल मई में पाकिस्तान विदेश मंत्रालय ने भी वैसे ही प्रतिबंध अमेरिकी राजनयिकों पर लगा दिए थे।

यह प्रतिबंध ‘पारस्परिक’ यात्रा प्रतिबंधों के तहत लागू हुआ। सूत्रों की माने तो इस कार्रवाई के पीछे पाकिस्तान में पनपते आतंकवाद को लेकर ​किया गया है। पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान आतंकवाद के मुद्दों पर चौतरफा घिरा था। अब उसे हर जगह मुंह की खानी पड़ रही है।

नई दिल्ली। आतंकवाद के मुद्दे पर चौतरफा घिरे पाकिस्तान की विश्व​भर में जमकर किरकिरी हो रही है। सभी देश पाकिस्तान में पनप रहे आतंकवाद का विरोध कर रहे हैं। ऐसे में अमेरिका ने पाकिस्तान को एक और झटका दिया है, जिसमें उसने पाकिस्तान नागरिकों की वीजा की अवधि को घटा दिया है। यह अवधि अब पांच वर्षों की जगह तीन महीने की कर दी गयी है। इसके साथ ही आवेदन शुल्क को भी बढ़ा दी गयी है। पुलवामा हमले के बाद से पाकिस्तान पर लगातार आतंकवादियों को संरक्षण देने का आरेाप लग र हा है। ऐसा माना जा रहा है कि अमेरिका ने इसको लेकर ही यह बड़ा फैसला लिया है।
अमे​रिकी दूतावास के प्रवक्ता ने बताया कि पाकिस्तान नागरिकों के वीजा की अवधि को पांच साल से घटाकर तीन महीने कर दी गयी है। वीजा आवेदन का शुल्क भी बढ़ा दी गयी है। पहले पाकिस्तानी नागरिक को वीजा आवेदन की लिए 160 डॉलर चुकाने पड़ते थे लेकिन अब पाकिस्तानी नागरिकों को वीजा आवेदन शुल्क के लिए 192 डॉलर की फीस जमा करनी होगी। प्रवक्ता ने बताया कि यह फैसला पाकिस्तान की वीजा नीति और कागजातों में शुल्क संशोधन के कारण लिया गया है।

वहीं, पाकिस्तान के सरकारी आधिकारियों के बारे में अमेरिकी दूतावास के प्रवक्ता ने बताया कि अमेरिका प्रशासन उनकी कार्य अवधि को देखकर यह तय करेगा। प्रवक्ता ने बताया कि इस्लामाबाद ने अमेरिकी नागरिकों के लिए वीजा अवधि कम कर दी थी और वीजा शुल्क भी बढ़ा दिया था। गौरतलब है ​कि पाकिस्तानी राजनयिकों पर लगे अमेरिकी प्रतिबंधों के बाद पिछले साल मई में पाकिस्तान विदेश मंत्रालय ने भी वैसे ही प्रतिबंध अमेरिकी राजनयिकों पर लगा दिए थे।

यह प्रतिबंध 'पारस्परिक’ यात्रा प्रतिबंधों के तहत लागू हुआ। सूत्रों की माने तो इस कार्रवाई के पीछे पाकिस्तान में पनपते आतंकवाद को लेकर ​किया गया है। पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान आतंकवाद के मुद्दों पर चौतरफा घिरा था। अब उसे हर जगह मुंह की खानी पड़ रही है।