1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. अंटार्कटिका : ग्लोबल वार्मिंग की वजह से रिकॉर्ड किया गया अब तक का अधिकतम तापमान

अंटार्कटिका : ग्लोबल वार्मिंग की वजह से रिकॉर्ड किया गया अब तक का अधिकतम तापमान

प्रकृति के नियमों से जब जब छेड़छाड़ होती है तब उसके परिणाम भयानक ही होते है। इसको लेकर संयुक्त राष्ट्र ने भी रिपोर्ट जारी की, जिसके मुताबिक ग्लोबल वार्मिंग की वजह से अंटार्कटिका के तापमान में तेजी से इजाफा हो रहा है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

नई दिल्ली: प्रकृति के नियमों से जब जब छेड़छाड़ होती है तब उसके परिणाम भयानक ही होते है। इसको लेकर संयुक्त राष्ट्र ने भी रिपोर्ट जारी की, जिसके मुताबिक ग्लोबल वार्मिंग की वजह से अंटार्कटिका के तापमान में तेजी से इजाफा हो रहा है। अगर सभी ने वक्त रहते कड़ा कदम नहीं उठाया, तो कई जगहों पर भीषण तबाही मच सकती है।

पढ़ें :- यूपी के इन 23 जिलों में आज झूमके बरसेंगे बदरा, मौसम विभाग का रेड अलर्ट जारी

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, अंटार्कटिका में इस साल अधिकतम 18.3 डिग्री सेल्सियस (64.9 डिग्री फारेनहाइट) तापमान रिकॉर्ड किया गया। संयुक्त राष्ट्र विश्व मौसम विज्ञान संगठन (यूएन डब्लूएमओ) ने इसकी पुष्टि की है। इसके अलावा पिछले 50 सालों में वहां के तापमान में 3 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि हुई है। यूएन डब्लूएमओ के महासचिव पेटेरी तालास के मुताबिक अंटार्कटिका के लिए ये अधिकतम तापमान था, जो एस्पेरांजा अनुसंधान केंद्र ने रिकॉर्ड किया। इससे पहले 2015 में तापमान 17.5 डिग्री सेल्सियस तक गया था।

दरअसल अंटार्कटिका पृथ्वी का दक्षिणतम महाद्वीप है, जो पूरी तरह से बर्फ से ढका है। इसके अलावा ये एशिया, अफ्रीका, उत्तरी अमेरिका और दक्षिणी अमेरिका के बाद पृथ्वी का पांचवां सबसे बड़ा महाद्वीप है, जो 140 लाख वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल में फैला है। अगर वहां का तापमान बढ़ता है, तो जाहिर सी बात है कि बर्फ तेजी से पिघलेगी, ऐसे में समुद्र का जलस्तर बढ़ जाएगा। जिससे कई देशों के तटीय इलाके डूब सकते हैं या फिर उससे बड़ी तबाही भी आ सकती है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...