सिंचाई घोटाले में महाराष्ट्र एंटी करप्शन ब्यूरो ने अजित पवार को दी क्लीन चिट, बन सकते हैं डिप्टी सीएम

ajit pawar
डिप्टी सीएम अजीत पवार बोले- महाराष्ट्र सरकार अपनाएगी दिल्ली का एजूकेशन मॉडल

मुंबई। एनसीपी नेता अजित पवार को सिंचाई घोटाले में बड़ी राहत मिली है। ​महाराष्ट्र के एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने सिंचाई घोटाले में आरोपों से अजित पवार को मुक्त कर दिया है। 27 नवंबर को बॉम्बे हाईकोर्ट में जमा किए गए शपथपत्र के मुताबिक विदर्भ सिंचाई विकास निगम (वीआईडीसी) के चेयरमैन अजित पवार को कार्यकारी एजेंसियों के कार्यों के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है, क्योंकि पवार के पास कोई वैधानिक दायित्व नहीं है।

Anti Corruption Bureau Has Made Ajit Pawar Free Of Charges In Irrigation Scam Can Become Deputy Cm :

बता दें कि, महाराष्ट्र में शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस की गठबंधन सरकार है। तीनों दलों ने मिलकर वहां पर सरकार बनाने का दावा किया था, जिसके बाद 80 घंटे के लिए सीएम बने देवेंद्र फडणवीस को ​इस्तीफा देना पड़ा था। वहीं, फडणवीस सरकार में अजित पवार ने भी डिप्टी सीएम की शपथ ली थी।

हालांकि, इन्होंने सबसे पहले इस्तीफा दिया था, जिसके बाद वह वापस अपनी पार्टी में लौट आए थे। वहीं, अब ​गठबंधन की सरकार में अजित पवार को डिप्टी सीएम बनाये जाने की चर्चा है। सूत्रों की माने तो जल्द ही महाराष्ट्र सरकार का ​कैबिनेट विस्तार होगा, जिसमें अजित पवार डिप्टी सीएम पद की शपथ लेंगे।

मुंबई। एनसीपी नेता अजित पवार को सिंचाई घोटाले में बड़ी राहत मिली है। ​महाराष्ट्र के एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने सिंचाई घोटाले में आरोपों से अजित पवार को मुक्त कर दिया है। 27 नवंबर को बॉम्बे हाईकोर्ट में जमा किए गए शपथपत्र के मुताबिक विदर्भ सिंचाई विकास निगम (वीआईडीसी) के चेयरमैन अजित पवार को कार्यकारी एजेंसियों के कार्यों के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है, क्योंकि पवार के पास कोई वैधानिक दायित्व नहीं है। बता दें कि, महाराष्ट्र में शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस की गठबंधन सरकार है। तीनों दलों ने मिलकर वहां पर सरकार बनाने का दावा किया था, जिसके बाद 80 घंटे के लिए सीएम बने देवेंद्र फडणवीस को ​इस्तीफा देना पड़ा था। वहीं, फडणवीस सरकार में अजित पवार ने भी डिप्टी सीएम की शपथ ली थी। हालांकि, इन्होंने सबसे पहले इस्तीफा दिया था, जिसके बाद वह वापस अपनी पार्टी में लौट आए थे। वहीं, अब ​गठबंधन की सरकार में अजित पवार को डिप्टी सीएम बनाये जाने की चर्चा है। सूत्रों की माने तो जल्द ही महाराष्ट्र सरकार का ​कैबिनेट विस्तार होगा, जिसमें अजित पवार डिप्टी सीएम पद की शपथ लेंगे।