आज भी महिलाओं पर हो रहे इन अत्याचारों को माना जाता है लीगल

एक तरफ जहां महिलाओं को पुरुषों से बराबरी की बात कही जाती है वहीं दुनियाभर में कई ऐसे भी देश हैं जहां आज भी महिलाओं पर हो रहे अत्याचारों को लीगल माना जाता है। आज हम आपको महिलाओं से जुड़े कुछ ऐसे ही क़ानूनों के बारे में बताने जा रहे हैं।

  • कई देशों के कानून के तहत शादी के बाद पति अपनी बीवी का रेप कर सकता है। अगर बात करें हम भारतीय कानून की तो बीवी 15 साल से बड़ी उम्र की हो तो पति ऐसा कर सकते हैं। वहीं बहामास में ऐसा 14 साल से बड़ी लड़की के साथ और सिंगापुर में 13 साल की लड़की के साथ किया जा सकता है।
  • लेबनान और माल्टा जैसे देशों में मौजूद अगर आदमी महिला को किडनैप या रेप करने के बाद उससे शादी कर ले तो उस आदमी को कोई सजा नहीं मिलेगी।
  • अफगानिस्तान में महिलाएं पति से बिना पूछे घर से बाहर नहीं निकल सकतीं। ये गैरकानूनी है और पति ऐसा करने पर बीवी को सजा दे सकते हैं।
  • इजराइल में महिलाएं पति से परेशान हो कर तलाक नहीं ले सकतीं। सिर्फ आदमी ही ऐसा कर सकते हैं।
    नाइजीरिया में पति अपनी पत्नी को लीगली मार सकता है। लेकिन पत्नी की बॉडी पर कोई गंभीर चोट नहीं आनी चाहिए।
  • कैमरून और गिन्नी जैसे देशों में पति फैसला करते हैं कि उनकी बीवी क्या नौकरी करेगी। महिलाएं अपनी मर्जी के हिसाब से काम का चुनाव नहीं कर सकतीं।
  • ट्यूनीशिया में बेटे को जहां पूरी विरासत मिलती है। वहीं बेटियों को आधी। भारत में अभी भी जायदाद वगैरह के मामलों में बेटियों को ज्यादा हिस्सदारी नहीं मिल पाई है।
  • 2016 में पकिस्तान के कॉउंसिल ऑफ इस्लामिक आइडियोलॉजी द्वारा पेश किए गए मिल में लिखा था कि अगर बीवी अपने पति की बात नहीं सुन रही या उसकी मंजूरी के बिना कपड़े पहन रही है तो उसका पति उसको सबक सिखाने के लिए उसपर हाथ उठा सकता है। पूरी दुनिया में पाकिस्तान के इस नियम की कड़ी आलोचना की गई थी लेकिन आज भी वहां के संविधान में ये कानून शामिल है।

{ यह भी पढ़ें:- एक जगह ऐसी भी जहां देह व्यापार करना है परंपरा }

Loading...