राम मंदिर पर बनेगी फिल्म ‘अपराजिता अयोध्या’, कंगना रनौत करेंगी डायरेक्शन

kangana
राम मंदिर पर बनेगी फिल्म 'अपराजिता अयोध्या', कंगना रनौत करेंगी डायरेक्शन

बॉलीवुड की क्वीन कंगना रनौत फिल्म ‘मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी’ के बाद अब फिल्म ‘अपराजिता अयोध्या’ डायरेक्ट करने वाली हैं। फिल्म की कहानी राम मंदिर के मामले से संबंधित होगी। इस फिल्म की स्क्रिप्ट को ‘बाहुबली’ की राइटर केवी विजयेंद्र प्रसाद ने लिखा है।

Aparajita Ayodhya To Be Made On Ram Temple Kangana Ranaut Will Direct :

कंगना ने इस पर कहा, ‘पहले मेरा इस फिल्म को डायरेक्ट करने का कोई प्लान नहीं था। मैं इसे सिर्फ प्रोड्यूस करना चाहती थी और कोई और इसे डायरेक्ट करता क्योंकि मैं उस समय काफी बिजी थी। लेकिन केवी विययेंद्र प्रसाद ने जो स्क्रिप्ट लिखी है उसमें ऐतिहासिक चीजें हैं, जैसा काम मैं पहले भी कर चुकी हूं। तो मेरे पार्टनर्स चाहते थे कि मैं ही इस फिल्म को डायरेक्ट करूं।’

कंगना ने आगे कहा, ‘मेरे लिए इस फिल्म का विषय कोई विवादित नहीं है। मुझे लगता है कि यह कहानी प्यार, विश्वास, एकता और इनसे भी कहीं ऊपर की है।’

बता दें कि कंगना ने हाल ही में रंगभेद-नस्लवाद के मुद्दे पर बॉलीवुड पर जमकर निशाना साधा है। कंगना ने कहा है कि फेयरनेस क्रीम का विज्ञापन करने वाले भारतीय अश्वेत के खिलाफ हिंसा पर बोल रहे हैं, इससे बड़ा पाखंड कुछ नहीं है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि पालघर में साधु की हत्या पर चुप्पी साधाने वाले बॉलीवुड सिलेब्स अमेरिका के सामाजिक मुद्दे पर बोल रहे हैं।

अमेरिका में अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस क्रूरता से मौत के मुद्दे पर बॉलीवुड सलेब्रिटीज ने भी अपना रिएक्शन दिया। फिल्म उद्योग से जुड़े लोग #BlackLivesMatter और #BlackoutTuesday के जरिए अपना समर्थन दिया था। इस बीच कंगना रनौत ने सवाल उठाया है कि बॉलीवुड के प्रभावशाली लोग देश में पालघर जैसे मुद्दों पर चुप्पी साध लेते हैं और अमेरिका के समाजिक-आर्थिक मुद्दों पर खुलकर बोलते हैं।

कंगना ने कहा, ‘मुझे लगता है कि यह एक फैशन बन गया है कि जो पश्चिम के लिए प्रासंगिक है उसका हिस्सा बन जाइए। लेकिन एशियाई सेलिब्रिटीज और एक्टर्स देश में बहुत प्रभावशाली हैं। मैं नहीं जानती कि वे अमेरिका के सामाजिक राजनीतिक सुधार में क्यों शामिल हो रहे हैं। कुछ सप्ताह पहले जब पुलिसकर्मियों ने दो साधुओं को भीड़ के हवाले कर दिया और सरेआम उनकी हत्या कर दी गई तो किसी ने एक शब्द नहीं बोला। क्योंकि शायद वह बहुसंख्यक भावना से जुड़ा हुआ था।’

कंगना ने इस बात को लेकर भी निशाना साधा कि अधिकतर सेलिब्रिटी करोड़ों रुपए लेकर फेयरनेस प्रॉडक्ट्स का विज्ञापन करते हैं। लेकिन ‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ जैसे मुद्दों पर समर्थन देने से भी नहीं हिचकिचाते।

बॉलीवुड की क्वीन कंगना रनौत फिल्म 'मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी' के बाद अब फिल्म 'अपराजिता अयोध्या' डायरेक्ट करने वाली हैं। फिल्म की कहानी राम मंदिर के मामले से संबंधित होगी। इस फिल्म की स्क्रिप्ट को 'बाहुबली' की राइटर केवी विजयेंद्र प्रसाद ने लिखा है। कंगना ने इस पर कहा, 'पहले मेरा इस फिल्म को डायरेक्ट करने का कोई प्लान नहीं था। मैं इसे सिर्फ प्रोड्यूस करना चाहती थी और कोई और इसे डायरेक्ट करता क्योंकि मैं उस समय काफी बिजी थी। लेकिन केवी विययेंद्र प्रसाद ने जो स्क्रिप्ट लिखी है उसमें ऐतिहासिक चीजें हैं, जैसा काम मैं पहले भी कर चुकी हूं। तो मेरे पार्टनर्स चाहते थे कि मैं ही इस फिल्म को डायरेक्ट करूं।' कंगना ने आगे कहा, 'मेरे लिए इस फिल्म का विषय कोई विवादित नहीं है। मुझे लगता है कि यह कहानी प्यार, विश्वास, एकता और इनसे भी कहीं ऊपर की है।' बता दें कि कंगना ने हाल ही में रंगभेद-नस्लवाद के मुद्दे पर बॉलीवुड पर जमकर निशाना साधा है। कंगना ने कहा है कि फेयरनेस क्रीम का विज्ञापन करने वाले भारतीय अश्वेत के खिलाफ हिंसा पर बोल रहे हैं, इससे बड़ा पाखंड कुछ नहीं है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि पालघर में साधु की हत्या पर चुप्पी साधाने वाले बॉलीवुड सिलेब्स अमेरिका के सामाजिक मुद्दे पर बोल रहे हैं। अमेरिका में अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस क्रूरता से मौत के मुद्दे पर बॉलीवुड सलेब्रिटीज ने भी अपना रिएक्शन दिया। फिल्म उद्योग से जुड़े लोग #BlackLivesMatter और #BlackoutTuesday के जरिए अपना समर्थन दिया था। इस बीच कंगना रनौत ने सवाल उठाया है कि बॉलीवुड के प्रभावशाली लोग देश में पालघर जैसे मुद्दों पर चुप्पी साध लेते हैं और अमेरिका के समाजिक-आर्थिक मुद्दों पर खुलकर बोलते हैं। कंगना ने कहा, 'मुझे लगता है कि यह एक फैशन बन गया है कि जो पश्चिम के लिए प्रासंगिक है उसका हिस्सा बन जाइए। लेकिन एशियाई सेलिब्रिटीज और एक्टर्स देश में बहुत प्रभावशाली हैं। मैं नहीं जानती कि वे अमेरिका के सामाजिक राजनीतिक सुधार में क्यों शामिल हो रहे हैं। कुछ सप्ताह पहले जब पुलिसकर्मियों ने दो साधुओं को भीड़ के हवाले कर दिया और सरेआम उनकी हत्या कर दी गई तो किसी ने एक शब्द नहीं बोला। क्योंकि शायद वह बहुसंख्यक भावना से जुड़ा हुआ था।' कंगना ने इस बात को लेकर भी निशाना साधा कि अधिकतर सेलिब्रिटी करोड़ों रुपए लेकर फेयरनेस प्रॉडक्ट्स का विज्ञापन करते हैं। लेकिन 'ब्लैक लाइव्स मैटर' जैसे मुद्दों पर समर्थन देने से भी नहीं हिचकिचाते।