बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ सकती हैं अपर्णा यादव!

aprna yadav
बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ सकती हैं अपर्णा यादव

लखनऊ। मुलायम कुनबे की रार थमने का नाम नहीं ले रही है। चाचा शिवपाल यादव को किनारे करने के बाद सपा मुखिया अखिलेश यादव ने अब छोटे भाई प्रतीक यादव की पत्नी अपर्णा यादव का टिकट काट दिया है। सपा ने लखनऊ कैंट विधानसभा उपचुनाव के लिए अपर्णा यादव की जगह मेजर आशीष चतुर्वेदी को प्रत्याशी बनाया है। अब अपर्णा यादव के भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ने की चर्चा जोरों पर है। सूत्र बताते हैं कि भाजपा के पास अपर्णा का प्रस्ताव पहुंच गया है। पार्टी आलाकमान इस पर विचार विमर्श करके निर्णय लेगा।

Aparna Yadav Can Contest Elections On Bjp Ticket :

आपको बता दें कि अपर्णा यादव लखनऊ कैंट में काफी समय से सक्रिय हैं। सपा से उनका टिकट कट चुका है और चाचा शिवपाल यादव की पार्टी उपचुनाव से बाहर है, ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि वह किस पार्टी से मैदान में आती हैं। विधानसभा उप चुनाव में 21 अक्तूबर को मतदान होगा और 24 अक्तूबर को नतीजे आ जाएंगे।

सपा ने विधानसभा उपचुनाव के लिए अपर्णा जगह कैंट से मेजर आशीष चतुर्वेदी को प्रत्याशी बनाया है। अपर्णा का टिकट कटने से पार्टी में खासी चर्चा है। 2017 के विधानसभा चुनाव में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के छोटे भाई प्रतीक यादव की पत्नी अपर्णा यादव को लखनऊ कैंट से टिकट दिया गया था। यहां अपर्णा भाजपा की रीता बहुगुणा जोशी से हार गईं थी।

धर्मेंद्र यादव को मिल सक​ता है रामपुर से टिकट
सपा धर्मेंद्र यादव को रामपुर सदर से प्रत्याशी बना सकती है। रामपुर विधानसभा सीट पर उपचुनाव में सपा जीतने के लिए यह दांव खेलने की रणनीति बना रही है। यह सीट सपा के आजम खां के सांसद बनने के बाद खाली हुई थी। परिवार के सदस्य होने के साथ ही धर्मेंद्र यादव की संगठन में भी मजबूत पकड़ है। वह बदायूं से सांसद भी रहे हैं। हालांकि इस बार वह लोकसभा चुनाव हार गए थे।

लखनऊ। मुलायम कुनबे की रार थमने का नाम नहीं ले रही है। चाचा शिवपाल यादव को किनारे करने के बाद सपा मुखिया अखिलेश यादव ने अब छोटे भाई प्रतीक यादव की पत्नी अपर्णा यादव का टिकट काट दिया है। सपा ने लखनऊ कैंट विधानसभा उपचुनाव के लिए अपर्णा यादव की जगह मेजर आशीष चतुर्वेदी को प्रत्याशी बनाया है। अब अपर्णा यादव के भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ने की चर्चा जोरों पर है। सूत्र बताते हैं कि भाजपा के पास अपर्णा का प्रस्ताव पहुंच गया है। पार्टी आलाकमान इस पर विचार विमर्श करके निर्णय लेगा। आपको बता दें कि अपर्णा यादव लखनऊ कैंट में काफी समय से सक्रिय हैं। सपा से उनका टिकट कट चुका है और चाचा शिवपाल यादव की पार्टी उपचुनाव से बाहर है, ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि वह किस पार्टी से मैदान में आती हैं। विधानसभा उप चुनाव में 21 अक्तूबर को मतदान होगा और 24 अक्तूबर को नतीजे आ जाएंगे। सपा ने विधानसभा उपचुनाव के लिए अपर्णा जगह कैंट से मेजर आशीष चतुर्वेदी को प्रत्याशी बनाया है। अपर्णा का टिकट कटने से पार्टी में खासी चर्चा है। 2017 के विधानसभा चुनाव में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के छोटे भाई प्रतीक यादव की पत्नी अपर्णा यादव को लखनऊ कैंट से टिकट दिया गया था। यहां अपर्णा भाजपा की रीता बहुगुणा जोशी से हार गईं थी। धर्मेंद्र यादव को मिल सक​ता है रामपुर से टिकट सपा धर्मेंद्र यादव को रामपुर सदर से प्रत्याशी बना सकती है। रामपुर विधानसभा सीट पर उपचुनाव में सपा जीतने के लिए यह दांव खेलने की रणनीति बना रही है। यह सीट सपा के आजम खां के सांसद बनने के बाद खाली हुई थी। परिवार के सदस्य होने के साथ ही धर्मेंद्र यादव की संगठन में भी मजबूत पकड़ है। वह बदायूं से सांसद भी रहे हैं। हालांकि इस बार वह लोकसभा चुनाव हार गए थे।