इंडिगो के हवाई जहाज में यात्रियों को पीटा जाता है ऐसे, जैसे ट्रेन और बस में

नई दिल्ली। इंडिगो एयरलाइन के कर्मचारी द्वारा मारपीट की घटना का वीडियो वायरल होने के बाद सोशल साइट पर इस घटना की कड़ी निंदा होनी शुरू हो गयी। इस घटना के तूल पकड़ने के बाद नगर विमानन मंत्री अशोक गजपपि राजू से इंडिगो एयरलाइन ने माफी मांगी है। इसके साथ ही कहा है कि इस घटना में लिप्त उसका कर्मचारी अपना काम कर रहा था।

मंगलवार को एक वीडिया सामने आने के बाद नागर विमानन मंत्री अशोक गजपति राजू ने नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) से स्वतंत्र जांच को कहा था और रिपोर्ट की मांग की थी। इंडिगो के अध्यक्ष एवं पूर्णकालिक निदेशक आदित्य घोष ने मंत्री राजू को लिखे पत्र में कहा है, ‘सबसे पहले मैं इस बात को स्वीकार करना चाहता हूं कि हमारी गलती थी। हम इसके लिए न केवल माफी मांगते हैं, बल्कि हमने कार्रवाई भी की है।’

{ यह भी पढ़ें:- दिल्ली के इस अस्पताल में नाइजीरियन ने मचाया उत्पात, टायलेट में भागे लोग }

बता दें कि नियमों में एयरलाइन स्टाफ को किसी भी पैसेंजर से मारपीट या हाथापाई करने की इजाजत नहीं दी गई है। नियम साफ तौर पर कहते हैं कि अगर किसी पैसेंजर से कोई परेशानी है तो एयरलाइन स्टाफ को एयरोड्रम पर मौजूद सिक्युरिटी एजेंसी को इस बारे में रिपोर्ट करना चाहिए।

15 अक्टूबर को राजीव कात्याल नामक एक शख्स ने चेन्नै से फ्लाइट संख्या 6E 487 से उड़ान भरी थी। फ्लाइट से उतरने के बाद कात्याल की कुछ बातों को लेकर स्टाफ से बहस हो गई और इस दौरान उन्होंने कथित तौर पर कर्मचारियों को गाली दे दी। बाद में उन्हें जमीन पर पटक दिया गया था। रिपोर्ट में घोष ने एयरलाइंस की गलती मानी।

{ यह भी पढ़ें:- यूपी पुलिस का टोल-प्लाजा पर खुला तांडव, टोलकर्मियों को पीटा फिर लूट लिया कैश }

रिपोर्ट में उन्होंने कहा कि एयरलाइंस ने न केवल इसके लिए यात्री से माफी मांगी बल्कि दोषियों को निलंबित भी कर दिया। उन्होंने कहा कि दोषियों के खिलाफ जांच चल रही है। रिपोर्ट में उन्होंने घटना का सिलसिलेवार ब्योरा दिया है।

Loading...