Apple को लगा तगड़ा झटका, Huawei चीन में बना नंबर वन

Apple Huawei

बीजिंग। चीन में अपनी जड़ों को मजबूत करने में जुटे एप्पल को बड़ा झटका लगा है। एक सर्वे में खुलासा हुआ है कि चीन के स्मार्टफोन खरीदारों ने आईफोन के बजाए घरेलू ब्रांड पर भरोसा जताया है। खरीदारों का कहना है कि उनकी पहली पसंद हुआवेई है। एक सर्वे के मुताबिक, 31.4 फीसदी से ज्यादा उत्तरदाताओं ने हुआवेई को अपना पंसदीदा ब्रांड चुना और हुआवेई ग्राहकों की पहली पसंद बन गया है।

Apple Beat Out The Number One In China :

रिपोर्ट में कहा गया है, जो लोग यह कहते थे कि उनका अगला स्मार्टफोन आईफोन होगा उनकी संख्या सितम्बर माह में गिरकर 24.2 फीसदी पर पहुंच गई है जो कि 2016 में आईफोन 7 के लॉन्च के वक्त 25.8 फीसदी थी और 2015 में 31.4 फीसदी।

चीन की स्मार्टफोन निर्माता कंपनी हुआवेई ने जून-जुलाई में अपनी सधी हुई बिक्री से पहली बार एप्पल को विश्व स्तर पर मात दी है।

काउंटरपॉइंट रिसर्च के नवीनतम ‘मार्केट पल्स फॉर जुलाई 2017’ के मुताबिक, विश्व में दक्षिण कोरियाई कंपनी सैमसंग के बाद चीन की विक्रेता कंपनी दूसरे स्थान पर है।

हुआवेई, ओप्पो, वीवो और श्यओमी ने सफलतापूर्वक प्रमुख आपूर्ति श्रृंखला भागीदारों में अपनी पहुंच बना ली है, जिसके कारण उन्हें बेजल-मुक्त, पूर्ण डिस्प्ले, बढ़ी हुई वास्तविकता, इन-होम चिपसेट और उन्नत कैमरा सुविधाओं के साथ डिजाइन लॉन्च करने की अनुमति दी गई है।

काउंटरपॉइंट के एसोसिएट डायरेक्टर तरुण पाठक के मुताबिक, चीनी ब्रांडों की वृद्धि महत्वपूर्ण प्रवृत्ति है जिसे कोई भी मोबाइल पारिस्थितिक तंत्र का बड़ा खिलाड़ी नजरअंदाज नहीं कर सकता है।

सूत्रों के मुताबिक, एप्पल खरीदारों द्वारा सुपर-प्रीमियम आईफोन एक्स के लिए इंतजार करना और आईफोन 8 की कमजोर मांग को आंशिक रूप से दोषी ठहराया गया है।

सर्वेक्षण में कहा गया है कि एप्पल के नए मॉडल – आईफोन 8 और आईफोन 8 प्लस चीन में पिछले लॉन्च हुए डिवाइस के मुकाबले उम्दा प्रदर्शन नहीं कर रहे हैं।

चीन में एप्पल की लोकप्रियता में गिरावट इसलिए भी है क्योंकि बाजार में खरीदार महंगे मॉडल के बजाय मध्य बजट वाले फोन में ज्यादा रुचि दिखा रहे हैं।

बीजिंग। चीन में अपनी जड़ों को मजबूत करने में जुटे एप्पल को बड़ा झटका लगा है। एक सर्वे में खुलासा हुआ है कि चीन के स्मार्टफोन खरीदारों ने आईफोन के बजाए घरेलू ब्रांड पर भरोसा जताया है। खरीदारों का कहना है कि उनकी पहली पसंद हुआवेई है। एक सर्वे के मुताबिक, 31.4 फीसदी से ज्यादा उत्तरदाताओं ने हुआवेई को अपना पंसदीदा ब्रांड चुना और हुआवेई ग्राहकों की पहली पसंद बन गया है।रिपोर्ट में कहा गया है, जो लोग यह कहते थे कि उनका अगला स्मार्टफोन आईफोन होगा उनकी संख्या सितम्बर माह में गिरकर 24.2 फीसदी पर पहुंच गई है जो कि 2016 में आईफोन 7 के लॉन्च के वक्त 25.8 फीसदी थी और 2015 में 31.4 फीसदी।चीन की स्मार्टफोन निर्माता कंपनी हुआवेई ने जून-जुलाई में अपनी सधी हुई बिक्री से पहली बार एप्पल को विश्व स्तर पर मात दी है।काउंटरपॉइंट रिसर्च के नवीनतम 'मार्केट पल्स फॉर जुलाई 2017' के मुताबिक, विश्व में दक्षिण कोरियाई कंपनी सैमसंग के बाद चीन की विक्रेता कंपनी दूसरे स्थान पर है।हुआवेई, ओप्पो, वीवो और श्यओमी ने सफलतापूर्वक प्रमुख आपूर्ति श्रृंखला भागीदारों में अपनी पहुंच बना ली है, जिसके कारण उन्हें बेजल-मुक्त, पूर्ण डिस्प्ले, बढ़ी हुई वास्तविकता, इन-होम चिपसेट और उन्नत कैमरा सुविधाओं के साथ डिजाइन लॉन्च करने की अनुमति दी गई है।काउंटरपॉइंट के एसोसिएट डायरेक्टर तरुण पाठक के मुताबिक, चीनी ब्रांडों की वृद्धि महत्वपूर्ण प्रवृत्ति है जिसे कोई भी मोबाइल पारिस्थितिक तंत्र का बड़ा खिलाड़ी नजरअंदाज नहीं कर सकता है।सूत्रों के मुताबिक, एप्पल खरीदारों द्वारा सुपर-प्रीमियम आईफोन एक्स के लिए इंतजार करना और आईफोन 8 की कमजोर मांग को आंशिक रूप से दोषी ठहराया गया है।सर्वेक्षण में कहा गया है कि एप्पल के नए मॉडल - आईफोन 8 और आईफोन 8 प्लस चीन में पिछले लॉन्च हुए डिवाइस के मुकाबले उम्दा प्रदर्शन नहीं कर रहे हैं।चीन में एप्पल की लोकप्रियता में गिरावट इसलिए भी है क्योंकि बाजार में खरीदार महंगे मॉडल के बजाय मध्य बजट वाले फोन में ज्यादा रुचि दिखा रहे हैं।