सफाईकर्मी बनने आये एम. एमएड से साफ करवाया नाला, किसी की मजबूरी का इतना फायदा मत उठाइये साहब!

मुरादाबाद: उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में सफाई कर्मचारियों की भर्ती के दौरान ग्रेजुएट और इंजीनियर्स नालों में घुसकर सफाई करने पर मजबूर किया गया। दरअसल, मुरादाबाद नगर निगम में सफाई कर्मचारी की नौकरी के लिए आवेदन करने वाले नौजवानों का ऑन स्पॉट इम्तिहान लिया गया। इसके लिए उन्हें शहर के एक गंदे नाले के पास ले जाया गया और हाथ में कुदाल और फावड़ा देकर नाला साफ करने को कहा गया। इस दौरान कुछ नौजवान नाले के बाहर खड़े होकर कचरा निकालने लगे और कुछ नौजवान तो सफाई करने के लिए नाले में ही उतर गए।




दअसल नगर निगम मुरादाबाद ने हाल ही में संविदा सफाई कर्मियों की भर्ती के लिए आवेदन मंगाया था, जिसके बाद 58 हजार से भी ज्यादा युवाओं ने आवेदन किया। नगर निगम ने इन सभी आवेदकों को इंटरव्यू के लिए बुलाया। इंटरव्यू से पहले इम्तिहान लिया गया कि कैसे सफाई कर सकते हैं। इसके लिए शहर का सबसे गंदा नाला चुना गया। और फावड़ा कुदाल देकर अभ्यर्थियों को नाले की सफाई के लिए उतार दिया गया। रोज अपनी बारी आने पर दर्जनों अभ्यर्थी नाले की सफाई में लगा दिए जाते हैं। वहीं नगर निगम इसे भर्ती प्रक्रिया का ही एक हिस्सा मान रहा है।




चौकाने वाली बात यह है कि इस परीक्षा में पीजी डिग्रीधारियों के साथ ही कई व्यावसायिक कोर्स कर चुके छात्र भी हिस्सा लेने पहुंचे थे। छात्रों का कहना है कि नौकरी के दूसरे विकल्प नहीं होने के कारण इस परीक्षा में हिस्सा लेना मजबूरी थी। सफाईकर्मी में भर्ती होने आए प्रमोद ने कहा कि कहीं भी नौकरी नहीं मिल रही है इसलिए मजबूरन उन्हें नगर निगम में सफाईकर्मी के लिए आवेदन भरना पड़ा। अजित सैनी नामके एक युवक बताते हैं कि लिस्ट में जिनके नाम आये हैं, उनका इंटरव्यू लिया जा रहा है। इटंरव्यू में पास होने के लिए उन्हें नाले में जाकर नाले की सफाई या सड़क पर झाड़ू लगानी पड़ रही है। नाले की सफाई करना उनके शारीरिक रूप से फिट होने का प्रमाण होगा। हालांकि इस घटना के सुर्खियों में आने के बाद जांच के आदेश दे दिए गए।