देश को 17 गोल्ड जिताने वाला बॉक्सर बेच रहा है ठेले पर आइसक्रीम

देश को 17 गोल्ड जिताने वाला बॉक्सर बेच रहा है ठेले पर आइसक्रीम
देश को 17 गोल्ड जिताने वाला बॉक्सर बेच रहा है ठेले पर आइसक्रीम

हरियाणा के कई ऐसे बॉक्सर्स हैं जिन्होंने देश का नाम रौशन किया कुछ खिलाडी को खूब शौहरत मिली तो कोई गुमनाम रह गया। ऐसा ही एक खिलाड़ी है। जिन्होंने भारत को 17 गोल्ड जिताए लेकिन वो पहचान हासिल नहीं मिल पाई। इंटरनेशनल बॉक्सर दिनेश कुमार अपने पिता के साथ आइसक्रीम बेचकर गुजारा करने को मजबूर है।

Arjun Award Winner International Boxer Has To Sale Ice Cream To Repay :

आइसक्रीम बेचकर चुका रहे हैं लोन

उनके पिता ने इंटरनेशनल टूर्नामेंट के लिए लोन लिया था। जिसको चुकाने के लिए वो पिता के साथ आइसक्रीम बेचते हैं। दिनेश ने कहा- ”मेरे पिता ने लोन लिया ताकी मैं इंटरनेशनल टूर्नामेंट खेल पाऊं। उनका लोन चुकाने के लिए मैं आइसक्रीम बेचता हूं। में पिछली और अभी की सरकार से मदद मांगी। लेकिन उन्होंने मदद नहीं की। मैं चाहता हूं कि सरकार मुझे जॉब दे जिससे मेरी मदद हो सके।”

अर्जुन अवॉर्ड जीत चुके हैं दिनेश

बड़ी बात यह है कि भिवानी के रहने वाले दिनेश खेलों के क्षेत्र में मिलने वाला भारत सरकार का प्रतिष्ठित पुरस्कार अर्जुन अवॉर्ड भी जीत चुके हैं। उन्होंने अलग-अलग टूर्नामेंट्स में 17 गोल्ड, एक सिल्वर और पांच कांस्य पदक अपने नाम किए। लेकिन अब उन्हें अब तक किसी भी सरकार से कोई मदद नहीं मिल पाई।

दिनेश कुमार की आइसक्रीम बेचते हुई तस्वीरें सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही हैं। वो सपनों को छोड़कर अब पिता की मदद कर रहे हैं ताकी उनका लोन चुकता हो सके। ये पहला मामला नहीं है, कई ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने देश का नाम रौशन किया लेकिन, वो गुमनामी जिंदगी जी रहे हैं।

हरियाणा के कई ऐसे बॉक्सर्स हैं जिन्होंने देश का नाम रौशन किया कुछ खिलाडी को खूब शौहरत मिली तो कोई गुमनाम रह गया। ऐसा ही एक खिलाड़ी है। जिन्होंने भारत को 17 गोल्ड जिताए लेकिन वो पहचान हासिल नहीं मिल पाई। इंटरनेशनल बॉक्सर दिनेश कुमार अपने पिता के साथ आइसक्रीम बेचकर गुजारा करने को मजबूर है।

आइसक्रीम बेचकर चुका रहे हैं लोन

उनके पिता ने इंटरनेशनल टूर्नामेंट के लिए लोन लिया था। जिसको चुकाने के लिए वो पिता के साथ आइसक्रीम बेचते हैं। दिनेश ने कहा- ''मेरे पिता ने लोन लिया ताकी मैं इंटरनेशनल टूर्नामेंट खेल पाऊं। उनका लोन चुकाने के लिए मैं आइसक्रीम बेचता हूं। में पिछली और अभी की सरकार से मदद मांगी। लेकिन उन्होंने मदद नहीं की। मैं चाहता हूं कि सरकार मुझे जॉब दे जिससे मेरी मदद हो सके।''

अर्जुन अवॉर्ड जीत चुके हैं दिनेश

बड़ी बात यह है कि भिवानी के रहने वाले दिनेश खेलों के क्षेत्र में मिलने वाला भारत सरकार का प्रतिष्ठित पुरस्कार अर्जुन अवॉर्ड भी जीत चुके हैं। उन्होंने अलग-अलग टूर्नामेंट्स में 17 गोल्ड, एक सिल्वर और पांच कांस्य पदक अपने नाम किए। लेकिन अब उन्हें अब तक किसी भी सरकार से कोई मदद नहीं मिल पाई।दिनेश कुमार की आइसक्रीम बेचते हुई तस्वीरें सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही हैं। वो सपनों को छोड़कर अब पिता की मदद कर रहे हैं ताकी उनका लोन चुकता हो सके। ये पहला मामला नहीं है, कई ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने देश का नाम रौशन किया लेकिन, वो गुमनामी जिंदगी जी रहे हैं।