थल सेनाध्यक्ष बोले- हम CDS को सफल बनाने के लिए प्रतिबद्ध, सेना पहले की तुलना में आज बेहतर तैयार

Chief of Army Staff
थल सेनाध्यक्ष बोले- हम CDS को सफल बनाने के लिए प्रतिबद्ध, सेना पहले की तुलना में आज बेहतर तैयार

नई दिल्ली। थलसेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवाणे ने शनिवार को दिल्ली में प्रेस कांफ्रेंस की। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में सेना की गुणवत्ता देखी जाएगी, न कि संख्या। सेना के लिए उपकरण खरीदने हो या फिर जवानों की भर्ती हर जगह गुणवत्ता को ध्यान में रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि हमें भविष्य के लिए जवानों को प्रशिक्षण देकर अभी से तैयार करना होगा।

Army Chief Said That We Are Committed To Make Cds A Success Army Better Prepared Today Than Before :

थल सेना अध्यक्ष ने कहा की प्रशिक्षण में भविष्य के युद्धों के लिए सेना को तैयार करने पर जोर होगा। इसके साथ ही प्रशिक्षण कार्यक्रम नेटवर्क केंद्रित और जटिल रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि हमारा ध्यान सेना की सभी सेवाओं के बीच एकीकरण पर होगा। इसके साथ ही हम सबको साथ लेकर चलेंगे।

जनरल नरवणे ने आगे कहा कि चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) का गठन और सैन्य मामलों के विभाग का निर्माण एकीकरण की दिशा में एक बहुत बड़ा कदम है और हम अपनी ओर से यह सुनिश्चित करेंगे कि यह सफल रहे। सेना के रूप में हम भारत के संविधान के प्रति निष्ठा की शपथ लेते हैं। यह हमें हमारे कार्यों के प्रति मार्गदर्शित करता है। उन्होंने कहा कि संविधान में न्याय, स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व हमारा मार्गदर्शन करते हैं।

नई दिल्ली। थलसेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवाणे ने शनिवार को दिल्ली में प्रेस कांफ्रेंस की। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में सेना की गुणवत्ता देखी जाएगी, न कि संख्या। सेना के लिए उपकरण खरीदने हो या फिर जवानों की भर्ती हर जगह गुणवत्ता को ध्यान में रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि हमें भविष्य के लिए जवानों को प्रशिक्षण देकर अभी से तैयार करना होगा। थल सेना अध्यक्ष ने कहा की प्रशिक्षण में भविष्य के युद्धों के लिए सेना को तैयार करने पर जोर होगा। इसके साथ ही प्रशिक्षण कार्यक्रम नेटवर्क केंद्रित और जटिल रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि हमारा ध्यान सेना की सभी सेवाओं के बीच एकीकरण पर होगा। इसके साथ ही हम सबको साथ लेकर चलेंगे। जनरल नरवणे ने आगे कहा कि चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) का गठन और सैन्य मामलों के विभाग का निर्माण एकीकरण की दिशा में एक बहुत बड़ा कदम है और हम अपनी ओर से यह सुनिश्चित करेंगे कि यह सफल रहे। सेना के रूप में हम भारत के संविधान के प्रति निष्ठा की शपथ लेते हैं। यह हमें हमारे कार्यों के प्रति मार्गदर्शित करता है। उन्होंने कहा कि संविधान में न्याय, स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व हमारा मार्गदर्शन करते हैं।