आर्मी चीफ ने अनुच्छेद 370 हटाये जाने को बताया ऐतिहासिक कदम, बोले- J&K जुड़ेगा मुख्य धारा से

Army Chief
आर्मी चीफ ने अनुच्छेद 370 हटाये जाने को बताया ऐतिहासिक कदम, बोले- J&K जुड़ेगा मुख्य धारा से

नई दिल्ली। सेना दिवस के मौके पर आर्मी चीफ मनोज मुकुंद नरवणे ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाये जाने को ऐतिहासिक कदम बताया है। उन्होने कहा कि इसकी वजह से अब जम्मू कश्मीर को मुख्य धारा से जुड़ने में मदद मिलेगी। आर्मी चीफ ने कहा कि आतंक के खिलाफ लड़ाई के लिए हमारे पास कई विकल्प हैं, हम इन्हे इस्तेमाल करने से बिल्कुल भी नहीं हिचकिचाएंगे। उन्होंने कहा सैनिक चाहे जितनी कठिन जगह पर तैनात हों, लेकिन वो हमेशा अपने देश वासियों के दिल में रहते हैं।

Army Chief Told Historic Move To Remove Article 370 Said Jk Will Be Connected To The Mainstream :

उन्होने कहा कि बीता वर्ष सेना के लिए काफी महत्वपूर्ण रहा, बीते साल सेना ने गंभीर से गंभीर चुनौतियों का सामना किया है। सेना के समय पर लिये गये कदम से एलओसी पर सुरक्षा सुनिश्चित है और उत्तर सीमा पर भी शांति बनी हुई है। उन्होने कहा कि अनुच्छेद 370 को हटाने से हमारे पश्चिमी पड़ोसी द्वारा छेड़ा गया छद्म युद्ध बाधित हो गया है। उन्होंने जवानों को भरोसा दिलाया कि उनकी विभिन्न जरूरतों को किसी भी कीमत पर पूरा किया जाएगा। आर्मी चीफ ने कहा कि भारतीय सेना ने राष्ट्र के मन में एक “विशेष स्थान” बनाया है और यह केवल एक लड़ाकू संगठन या राष्ट्रीय शक्ति का औजार नहीं है।

सेना प्रमुख ने सरकार द्वारा बनाये गये तीनो सेनाओं के प्रमुख रक्षा अध्यक्ष (सीडीएस) को लेकर कहा कि सरकार का ये फैसला एक फलदायक कदम है। इससे तीनों सेनाओं के बीच अधिक समन्वय होगा। थल सेना प्रमुख ने कहा कि भारतीय सेना की प्राथमिक जिम्मेदारी शीर्ष स्तर की तैयारियां बरकरार रखना है। उन्होने यह भी कहा कि यह देश की एक मूल्यवान संस्था है, हमें अपने मूल्यों, आचार और अपने नागरिकों द्वारा जताए गए भरोसे को बनाए रखने के संकल्प में दृढ़ बने रहना है।

नई दिल्ली। सेना दिवस के मौके पर आर्मी चीफ मनोज मुकुंद नरवणे ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाये जाने को ऐतिहासिक कदम बताया है। उन्होने कहा कि इसकी वजह से अब जम्मू कश्मीर को मुख्य धारा से जुड़ने में मदद मिलेगी। आर्मी चीफ ने कहा कि आतंक के खिलाफ लड़ाई के लिए हमारे पास कई विकल्प हैं, हम इन्हे इस्तेमाल करने से बिल्कुल भी नहीं हिचकिचाएंगे। उन्होंने कहा सैनिक चाहे जितनी कठिन जगह पर तैनात हों, लेकिन वो हमेशा अपने देश वासियों के दिल में रहते हैं। उन्होने कहा कि बीता वर्ष सेना के लिए काफी महत्वपूर्ण रहा, बीते साल सेना ने गंभीर से गंभीर चुनौतियों का सामना किया है। सेना के समय पर लिये गये कदम से एलओसी पर सुरक्षा सुनिश्चित है और उत्तर सीमा पर भी शांति बनी हुई है। उन्होने कहा कि अनुच्छेद 370 को हटाने से हमारे पश्चिमी पड़ोसी द्वारा छेड़ा गया छद्म युद्ध बाधित हो गया है। उन्होंने जवानों को भरोसा दिलाया कि उनकी विभिन्न जरूरतों को किसी भी कीमत पर पूरा किया जाएगा। आर्मी चीफ ने कहा कि भारतीय सेना ने राष्ट्र के मन में एक "विशेष स्थान" बनाया है और यह केवल एक लड़ाकू संगठन या राष्ट्रीय शक्ति का औजार नहीं है। सेना प्रमुख ने सरकार द्वारा बनाये गये तीनो सेनाओं के प्रमुख रक्षा अध्यक्ष (सीडीएस) को लेकर कहा कि सरकार का ये फैसला एक फलदायक कदम है। इससे तीनों सेनाओं के बीच अधिक समन्वय होगा। थल सेना प्रमुख ने कहा कि भारतीय सेना की प्राथमिक जिम्मेदारी शीर्ष स्तर की तैयारियां बरकरार रखना है। उन्होने यह भी कहा कि यह देश की एक मूल्यवान संस्था है, हमें अपने मूल्यों, आचार और अपने नागरिकों द्वारा जताए गए भरोसे को बनाए रखने के संकल्प में दृढ़ बने रहना है।