कुछ ही देर में भाजपा मुख्यालय पहुंचेगा अरूण जेटली का पार्थिव शरीर, ढाई बजे होगा अंतिम संस्कार

d

नई दिल्ली। पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का रविवार दोपहर को निगम बोध घाट में अंतिम संस्कार किया जाएगा। जेटली का निधन शनिवार दोपहर 12 बजकर सात मिनट पर एम्स में हुआ था। उनका कुछ सप्ताह से अस्पताल में इलाज चल रहा था।

Arun Jaitley To Be Cremated At Nigambodh Ghat Today :

वह 9 अगस्त को एम्स में भर्ती हुए थे। आज सुबह साढ़े 10 बजे बीजेपी नेता और कार्यकर्ता पार्टी मुख्यालय में उन्हें अंतिम विदाई दी। बीजेपी मुख्यालय से पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार के लिए निगमबोध घाट ले जाया जाएगा। जहां दोपहर 2.30 बजे उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। अरुण जेटली के पार्थिव शरीर को मिलिट्री ट्रक के पीछे एक ट्रॉली में रखा गया है। मिलिट्री ट्रक में सेना के अधिकारियों के साथ अरुण जेटली के बेटे बैठे हैं।

अरुण जेटली के पार्थिव शरीर को उनके निवास कैलाश कॉलोनी से मूलचंद से लाला लाजपत नगर मार्ग में लाजपत नगर मेट्रो स्टेशन से पंत नगर होते हुए लोधी रोड फ्लाइओवर से सुंदर नगर, मथुरा रोड, आईटीओ से दीन दयाल उपाध्याय मार्ग स्थित बीजेपी मुख्यालय लाया जाएगा। अरुण जेटली रक्षा मंत्री रहे हैं इसलिए उनके पार्थिव शरीर को सेना के ट्रक में बीजेपी मुख्यालय ले जाया जा रहा है। बीजेपी नेता राम माधव, कैलाश विजयवर्गीय और मुकुल रॉय भी अरुण जेटली को श्रद्धांजलि देने के लिए उनके घर पहुंचे।

एनसीपी नेता शरद पवार, टीडीपी नेता चंद्रबाबू नायडू, आरएलडी नेता अजित सिंह और कांग्रेस नेता मोती लाल वोरा भी कैलाश कॉलोनी स्थित जेटली के निवास पर उनको श्रद्धांजलि देने पहुंचे। दोपहर 2 बजे अरुण जेटली के पार्थिव शरीर को मुखाग्नि दी जाएगी। करीब 1 बजे बीजेपी दफ्तर से दिल्ली के निगम बोध घाट ले जाया जाएगा। बीती रात अरुण जेटली के घऱ पर उनको श्रद्धांजलि देने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी भी पहुंची।

इससे पहले शनिवार रात राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, कांग्रेस नेता सोनिया गांधी और कई अन्य राजनेताओं ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली को शनिवार को दक्षिण दिल्ली में स्थित उनके आवास पर श्रद्धासुमन अर्पित किए। शाह ने जेटली के आवास पर लगभग साढ़े तीन घंटे बिताये। विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं एवं बीजेपी कार्यकर्ताओं तथा उनके प्रशंसकों ने जेटली को अंतिम विदाई दी।

केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, निर्मला सीतारमण, पीयूष गोयल, हर्षवर्धन, जितेंद्र सिंह और एस जयशंकर के अलावा बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा सहित विभिन्न नेताओं ने जेटली को अंतिम विदाई दी।

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद, अहमद पटेल, दिग्विजय सिंह, ज्योतिरादित्य सिंधिया, राजीव शुक्ला के अलावा केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान तथा उनके पुत्र चिराग पासवान ने भी दिवंगत नेता को अंतिम विदाई दी। योगी आदित्यनाथ, अरविंद केजरीवाल, नवीन पटनायक, कमलनाथ समेत विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने जेटली के आवास पर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा वह अंतरराष्ट्रीय मंच पर भी प्रसिद्ध थे। मंत्री रहते हुए देश उनके योगदान को कभी नहीं भूल सकता है। वह देश और पार्टी के लिए पूंजी थे। अब वह हमारे बीच नहीं हैं और मैं उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।

नई दिल्ली। पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का रविवार दोपहर को निगम बोध घाट में अंतिम संस्कार किया जाएगा। जेटली का निधन शनिवार दोपहर 12 बजकर सात मिनट पर एम्स में हुआ था। उनका कुछ सप्ताह से अस्पताल में इलाज चल रहा था। वह 9 अगस्त को एम्स में भर्ती हुए थे। आज सुबह साढ़े 10 बजे बीजेपी नेता और कार्यकर्ता पार्टी मुख्यालय में उन्हें अंतिम विदाई दी। बीजेपी मुख्यालय से पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार के लिए निगमबोध घाट ले जाया जाएगा। जहां दोपहर 2.30 बजे उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। अरुण जेटली के पार्थिव शरीर को मिलिट्री ट्रक के पीछे एक ट्रॉली में रखा गया है। मिलिट्री ट्रक में सेना के अधिकारियों के साथ अरुण जेटली के बेटे बैठे हैं। अरुण जेटली के पार्थिव शरीर को उनके निवास कैलाश कॉलोनी से मूलचंद से लाला लाजपत नगर मार्ग में लाजपत नगर मेट्रो स्टेशन से पंत नगर होते हुए लोधी रोड फ्लाइओवर से सुंदर नगर, मथुरा रोड, आईटीओ से दीन दयाल उपाध्याय मार्ग स्थित बीजेपी मुख्यालय लाया जाएगा। अरुण जेटली रक्षा मंत्री रहे हैं इसलिए उनके पार्थिव शरीर को सेना के ट्रक में बीजेपी मुख्यालय ले जाया जा रहा है। बीजेपी नेता राम माधव, कैलाश विजयवर्गीय और मुकुल रॉय भी अरुण जेटली को श्रद्धांजलि देने के लिए उनके घर पहुंचे। एनसीपी नेता शरद पवार, टीडीपी नेता चंद्रबाबू नायडू, आरएलडी नेता अजित सिंह और कांग्रेस नेता मोती लाल वोरा भी कैलाश कॉलोनी स्थित जेटली के निवास पर उनको श्रद्धांजलि देने पहुंचे। दोपहर 2 बजे अरुण जेटली के पार्थिव शरीर को मुखाग्नि दी जाएगी। करीब 1 बजे बीजेपी दफ्तर से दिल्ली के निगम बोध घाट ले जाया जाएगा। बीती रात अरुण जेटली के घऱ पर उनको श्रद्धांजलि देने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी भी पहुंची। इससे पहले शनिवार रात राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, कांग्रेस नेता सोनिया गांधी और कई अन्य राजनेताओं ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली को शनिवार को दक्षिण दिल्ली में स्थित उनके आवास पर श्रद्धासुमन अर्पित किए। शाह ने जेटली के आवास पर लगभग साढ़े तीन घंटे बिताये। विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं एवं बीजेपी कार्यकर्ताओं तथा उनके प्रशंसकों ने जेटली को अंतिम विदाई दी। केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, निर्मला सीतारमण, पीयूष गोयल, हर्षवर्धन, जितेंद्र सिंह और एस जयशंकर के अलावा बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा सहित विभिन्न नेताओं ने जेटली को अंतिम विदाई दी। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद, अहमद पटेल, दिग्विजय सिंह, ज्योतिरादित्य सिंधिया, राजीव शुक्ला के अलावा केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान तथा उनके पुत्र चिराग पासवान ने भी दिवंगत नेता को अंतिम विदाई दी। योगी आदित्यनाथ, अरविंद केजरीवाल, नवीन पटनायक, कमलनाथ समेत विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने जेटली के आवास पर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा वह अंतरराष्ट्रीय मंच पर भी प्रसिद्ध थे। मंत्री रहते हुए देश उनके योगदान को कभी नहीं भूल सकता है। वह देश और पार्टी के लिए पूंजी थे। अब वह हमारे बीच नहीं हैं और मैं उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।