सीएम नरेन्द्र मोदी ने बिड़ला ग्रुप से ली थी 25 करोड़ की रिश्वत: केजरीवाल

नई दिल्ली। केन्द्र सरकार द्वारा कालेधन के खिलाफ की गई नोटबंदी के खिलाफ मंगलवार को दिल्ली विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने वाले मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर जमकर निशाना साधा है। नरेन्द्र मोदी द्वारा अपने फैसले की तुलना कड़क चाय से करने पर केजरीवाल ने कहा कि पीएम मोदी की कड़क चाय गरीबों के लिए जहर के बराबर है। इसके साथ ही सीएम केजरीवाल ने खुलासा किया कि 2013 में बतौर मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 25 करोड़ रूपए की घूंस ली थी।​ जिसका खुलासा ग्रुप के एक अधिकारी के घर आयकर विभाग की छापेमारी में हुआ था।




केन्द्र सरकार द्वारा 500 और 1000 के नोट बंद करने के फैसले के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पास करने के लिए बुलाए गए दिल्ली विधानसभा का सत्र बेहद हंगामेदार रहा। सत्र की कार्रवाई दौरान बीजेपी ​के विधायकों के विरोध पर मार्शलों ने बीजेपी विधायक विजेन्द्र गुप्ता को बाहर निकाला गया। अपने भाषण के दौरान सीएम केजरीवाल ने कहा कि पीएम मोदी ने अपने करीबी कारपोरेट दोस्तों को फायदा पहुंचाने के लिए नोटबंदी का कदम उठाया। जिससे गरीबों का नुकसान हो रहा है।




अरविन्द केजरीवाल ने नोटबंदी के फैसले को एक घोटाला करार देते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल में बीजेपी के नेताओं ने पार्टी के खाते में एक करोड़ रूपए की रकम जमा करवाई। उन्होंने सोशल मीडिया पर बीजेपी नेताओं द्वारा लगाई गई नोटों की गड्डियों पर भी सवाल खड़ा किया।


केजरीवाल ने नरेन्द्र मोदी पर रिश्वत लेने के आरोप लगाते हुए कहा कि 15 अक्टूबर 2013 को बिड़ला ग्रुप के एक अधिकारी शुभेन्दु अमिताभ के घर पर हुई आयकर विभाग की छापेमारी में लैपटाप की तलाशी के दौरान एक दस्तावेज मिला था। जिसमें 15 नवंबर 2012 को मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी को 25 करोड़ रूपए की रिश्वत दिए जाने का जिक्र किया गया था।




अपने दावे के साथ उन्होंने कहा कि यह पहली बार है कि देश का प्रधानमंत्री रहते हुए किसी भी व्यक्ति पर कालेधन को लेकर पहला आरोप है। उन्होंने कहा कि आयकर विभाग की रिपोर्ट पर तात्कालिक कांग्रेस के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार ने जानबूझ कर कोई कार्रवाई नहीं होने दी।

हालांकि केजरीवाल की ओर से ​पेश किए गए जिस दस्तावेज को सुबूत कहा गया है उसी दस्तावेज में 25 ​करोड़ में से 12 करोड़ प्रदान​ किए जाने की और शेष राशि के आगे प्रश्वचिह्न लगा हुआ है। फिलहाल केजरीवाल के आरोपों को लेकर बीजेपी की ओर से कोई प्रतिक्रिया जाहिर नहीं की गई है।