सीसीटीवी विवाद: पुराने रंग में दिखे केजरीवाल, पूरी सरकार लेकर LG हाउस के बाहर धरने पर बैठे

नई दिल्ली। दिल्‍ली में सीसीटीवी कैमरे लगाने को लेकर एलजी आवास तक जा रहे जुलूस को बीच में ही रोक दिया गया।  मार्च का नेतृत्‍व कर रहे दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल अपनी कैबिनेट के साथ सड़क पर ही धरने पर बैठ गए हैैं। इस दौरान केजरीवाल के साथ उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, श्रम रोजगार मंत्री गोपाल राय, अलका लांबा, संजीव झा, प्रमिला टोकस, सौरभ भारद्वाज, देवेंद्र  सहरावत, गिरीश सोनी, पंकज पुष्कर, अमानतउल्ला खान समेत दिल्ली के अलग अलग विधायक शामिल हैं।

Arvind Kejriwal Dharna Lg House Mlas Ministers Cctv Project :

बता दें कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास से मुख्यमंत्री और उनके विधायक एलजी आवास का घेराव करने निकले थे लेकिन पुलिस ने बैरीकेडिंग कर उन्‍हें एलजी आवास तक पहुंचने से रोक दिया। ऐसे में मुख्‍यमंत्री अपने विधायकों को मंत्रियों के साथ बैरीकेड के पास ही धरने पर बैठ गए। फिलहाल मुख्‍यमंत्री अौर उनकी मं‍त्री परिषद नारेबाजी कर रही है। इस जुलूस के साथ भारी पुलिस बल भी मौजूद है।

रविवार को उपराज्यपाल अनिल बैजल ने सरकार पर जनता को गुमराह करने का आरोप लगाया गया। जवाब में मुख्यमंत्री ने फिर कहा कि आपकी कमिटी को रिजेक्ट करते हैं और पब्लिक से जुड़े इस मुद्दे पर आपसे बात करने सोमवार को आ रहे हैं।

‘आप’ सरकार खुद जिम्मेदार

सूत्र बताते हैं कि उपराज्यपाल निवास में ‘आप’ सरकार इस बार हठधर्मिता का परिचय भी नहीं दे पाएगी। उपराज्यपाल के साथ दो टूक बातचीत के बाद इन्हें वहां अवांछित रूप से नहीं रुकने दिया जाएगा। सूत्रों की मानें तो इस हालात के लिए हालांकि ‘आप’ सरकार खुद ही जिम्मेदार है। सरकार जिस तरह से हर मुद्दे पर राजनीति कर रही है और उपराज्यपाल को बदनाम करने में लगी है, उस हालात में ‘आउट ऑफ द वे’ जाकर राजनिवास से कभी मदद नहीं ले पाएगी।

 

नई दिल्ली। दिल्‍ली में सीसीटीवी कैमरे लगाने को लेकर एलजी आवास तक जा रहे जुलूस को बीच में ही रोक दिया गया।  मार्च का नेतृत्‍व कर रहे दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल अपनी कैबिनेट के साथ सड़क पर ही धरने पर बैठ गए हैैं। इस दौरान केजरीवाल के साथ उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, श्रम रोजगार मंत्री गोपाल राय, अलका लांबा, संजीव झा, प्रमिला टोकस, सौरभ भारद्वाज, देवेंद्र  सहरावत, गिरीश सोनी, पंकज पुष्कर, अमानतउल्ला खान समेत दिल्ली के अलग अलग विधायक शामिल हैं। बता दें कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास से मुख्यमंत्री और उनके विधायक एलजी आवास का घेराव करने निकले थे लेकिन पुलिस ने बैरीकेडिंग कर उन्‍हें एलजी आवास तक पहुंचने से रोक दिया। ऐसे में मुख्‍यमंत्री अपने विधायकों को मंत्रियों के साथ बैरीकेड के पास ही धरने पर बैठ गए। फिलहाल मुख्‍यमंत्री अौर उनकी मं‍त्री परिषद नारेबाजी कर रही है। इस जुलूस के साथ भारी पुलिस बल भी मौजूद है। रविवार को उपराज्यपाल अनिल बैजल ने सरकार पर जनता को गुमराह करने का आरोप लगाया गया। जवाब में मुख्यमंत्री ने फिर कहा कि आपकी कमिटी को रिजेक्ट करते हैं और पब्लिक से जुड़े इस मुद्दे पर आपसे बात करने सोमवार को आ रहे हैं।

'आप' सरकार खुद जिम्मेदार

सूत्र बताते हैं कि उपराज्यपाल निवास में 'आप' सरकार इस बार हठधर्मिता का परिचय भी नहीं दे पाएगी। उपराज्यपाल के साथ दो टूक बातचीत के बाद इन्हें वहां अवांछित रूप से नहीं रुकने दिया जाएगा। सूत्रों की मानें तो इस हालात के लिए हालांकि 'आप' सरकार खुद ही जिम्मेदार है। सरकार जिस तरह से हर मुद्दे पर राजनीति कर रही है और उपराज्यपाल को बदनाम करने में लगी है, उस हालात में 'आउट ऑफ द वे' जाकर राजनिवास से कभी मदद नहीं ले पाएगी।