सत्ता जाते ही देवेंद्र फडणवीस के खिलाफ होने लगी अवाज बुलंद, पंकजा मुंडे ने शक्ति प्रदर्शन के दिए संकेत

pankaja
सत्ता जाते ही देवेंद्र फडणवीस के खिलाफ होने लगी अवाज बुलंद, पंकजा मुंडे ने शक्ति प्रदर्शन के दिए संकेत

मुंबई। महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी के सत्ता से बाहर होते ही पार्टी के अंदर बगावत के शुरू उठने लगे हैं। पंकजा मुंडे ने फेसबुक पोस्ट के जरिए शक्ति प्रदर्शन के संकेत दिए हैं। अगर ऐसा होता है तो यह बीजेपी के लिए बड़ी चुनौती साबित होगी। पंकजा मुंडे ने पिता गोपीनाथ मुंडे की बरसी पर 12 दिसंबर को समर्थकों की बैठक बुलाई है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह 8-10 दिनों में कोई बड़ा फैसला लेंगी।

As Soon As Power Came Devendra Fadnavis Started Opposing Pankaja Munde Gave Signs Of Showing Strength :

पकंजा मुंडे ने फेसबुक पोस्ट में लिखा है कि, चुनाव विधानसभा चुनाव में हार के बाद समर्थकों के कई फोन और मैसेज आए। इस दौरान उन्होंने मिलने का आग्रह भी किया लेकिन राजनीतिक स्थिति ऐसी रही कि समर्थकों से मुलाकात नहीं हो पायी। गौरतलब है कि देवेंद्र फडणवीस सरकार में पूर्व मंत्री पंकजा मुंडे अपने गढ़ परली से चुनाव हार गई थीं। पंकजा को उनके चचेरे भाई धनंजय मुंडे से मात मिली।

धनंजय मुंडे फिलहाल उद्धव सरकार के साथ हैं। पकंजा मुंडे ने फेसबुक पोस्ट में लिखा है, बदले राजनीतिक परिदृश्य में भावी कार्रवाई पर निर्णय लिया जाना जरूरी है। अगले 8-10 दिन में तय करूंगी कि आगे क्या करना है, किस रास्ते पर मुझे चलना है। हमारी मजबूती क्या है, इस पर ध्यान देना जरूरी है। पंकजा मुंडे ने कहा, मुझे बहुत कुछ बोलना है। मुझे उम्मीद है कि मेरे ‘जवान’ रैली में जरूर पहुंचेंगे।

मुंबई। महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी के सत्ता से बाहर होते ही पार्टी के अंदर बगावत के शुरू उठने लगे हैं। पंकजा मुंडे ने फेसबुक पोस्ट के जरिए शक्ति प्रदर्शन के संकेत दिए हैं। अगर ऐसा होता है तो यह बीजेपी के लिए बड़ी चुनौती साबित होगी। पंकजा मुंडे ने पिता गोपीनाथ मुंडे की बरसी पर 12 दिसंबर को समर्थकों की बैठक बुलाई है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह 8-10 दिनों में कोई बड़ा फैसला लेंगी। पकंजा मुंडे ने फेसबुक पोस्ट में लिखा है कि, चुनाव विधानसभा चुनाव में हार के बाद समर्थकों के कई फोन और मैसेज आए। इस दौरान उन्होंने मिलने का आग्रह भी किया लेकिन राजनीतिक स्थिति ऐसी रही कि समर्थकों से मुलाकात नहीं हो पायी। गौरतलब है कि देवेंद्र फडणवीस सरकार में पूर्व मंत्री पंकजा मुंडे अपने गढ़ परली से चुनाव हार गई थीं। पंकजा को उनके चचेरे भाई धनंजय मुंडे से मात मिली। धनंजय मुंडे फिलहाल उद्धव सरकार के साथ हैं। पकंजा मुंडे ने फेसबुक पोस्ट में लिखा है, बदले राजनीतिक परिदृश्य में भावी कार्रवाई पर निर्णय लिया जाना जरूरी है। अगले 8-10 दिन में तय करूंगी कि आगे क्या करना है, किस रास्ते पर मुझे चलना है। हमारी मजबूती क्या है, इस पर ध्यान देना जरूरी है। पंकजा मुंडे ने कहा, मुझे बहुत कुछ बोलना है। मुझे उम्मीद है कि मेरे 'जवान' रैली में जरूर पहुंचेंगे।