1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. Ashok Gehlot बोले- सांप्रदायिक ध्रुवीकरण देश को धकेल सकता है ‘गृहयुद्ध’ की ओर

Ashok Gehlot बोले- सांप्रदायिक ध्रुवीकरण देश को धकेल सकता है ‘गृहयुद्ध’ की ओर

राजस्थान के मुख्यमंत्री (Rajasthan Chief Minister) अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने बुधवार को कहा कि देश में ऐसी स्थिति बन रही है जो इसे ‘गृहयुद्ध’ (Civil War)की ओर धकेल सकती है। उन्होनें कहा कि ‘भारत जोड़ो यात्रा’ इस स्थिति को सामान्य करने की दिशा में एक प्रयास है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

कन्याकुमारी। राजस्थान के मुख्यमंत्री (Rajasthan Chief Minister) अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने बुधवार को कहा कि देश में ऐसी स्थिति बन रही है जो इसे ‘गृहयुद्ध’ (Civil War)की ओर धकेल सकती है। उन्होनें कहा कि ‘भारत जोड़ो यात्रा’ इस स्थिति को सामान्य करने की दिशा में एक प्रयास है। श्री गहलोत ने यात्रा के शुभारंभ से पहले यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए यह बात कही। उन्होंने कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ता चाहते हैं कि पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) पार्टी का नेतृत्व करें।

पढ़ें :- राजस्थान में कांग्रेस को बड़ा झटका, अशोक गहलोत 82 विधायकों ने दिया इस्तीफा

राजस्थान के तीन बार मुख्यमंत्री रहे 71 वर्षीय नेता ने 3,500 किलोमीटर की यात्रा की जिक्र करते हुए कहा कि इसका उद्देश्य सांप्रदायिक ध्रुवीकरण (Communal Polarization) का मुकाबला करना है, साथ ही साथ आर्थिक स्थिति पर संदेश को जनता तक ले जाना है। गहलोत ने कहा कि देश में इतना ध्रुवीकरण और नफरत है, अगर यह जारी रहा तो गृहयुद्ध (Civil War) होगा। उन क्षेत्रों में जहां कोई भी समुदाय अल्पसंख्यक है, उन्हें डर लगता है।

उन्होंने कहा कि इससे सामाजिक ताना-बाना भी खासा कमजोर हो गया है। उन्होंने कहा कि केन्द्र की भारतीय जनता पार्टी (BJP) सरकार को स्थिति और यात्रा के संदेश को समझना चाहिए। यह पूछे जाने पर कि क्या यात्रा का नेतृत्व कर रहे श्री गांधी को आगामी संगठनात्मक चुनावों में पार्टी अध्यक्ष के रूप में चुना जाएगा, उन्होंने कहा कि कांग्रेस चाहती है कि वह नेतृत्व करें क्योंकि गांधी परिवार की विश्वसनीयता सबसे अधिक है।

श्री गहलोत ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Congress President Sonia Gandhi) को पार्टी में शामिल होने में कोई दिलचस्पी नहीं थी। हमने उनसे बार-बार अनुरोध किया। हमने उनसे कहा कि अगर कांग्रेस बिखर जाती हैं तो आने वाली पीढ़िया माफ नहीं करेंगी। उन्हें याद दिलाया कि गांधी परिवार के किसी भी सदस्य ने पिछले 30 वर्षों में सरकार में कोई पद नहीं संभाला है।

श्री गहलोत ने कहा कि चुनाव हारने के बाद राहुल गांधी (Rahul Gandhi)  ने नैतिक आधार पर इस्तीफा (Resignation on Moral Grounds) दे दिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस जो भी कहेगी वह करेंगे। सभी पार्टी कार्यकर्ता उनके नेतृत्व में सभी चुनौतियों का सामना करेंगे। श्री गांधी के नेतृत्व में शुरू होने वाली यह ‘भारत जोड़ो यात्रा’  कन्याकुमारी (Kanyakumari) से शुरू होकर 12 राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों से होकर गुजरेगी।

पढ़ें :- जानिए सचिन पायलट के समर्थक क्यों मना रहे हैं खुशी की लहर? 

यह यात्रा प्रमुख शहरों कन्याकुमारी, तिरुवनंतपुरम, कोच्चि, नीलांबुर, मैसूर, बेल्लारी, रायचूर, विकाराबाद, नांदेड़, जलगांव जमोद, इंदौर, कोटा, दौसा, अलवर, बुलंदशहर, दिल्ली, अंबाला, पठानकोट, जम्मू और श्रीनगर से होकर गुजरेगी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...