1. हिन्दी समाचार
  2. आशाराम और उनके पुत्र को जांच आयोग ने दी क्लीन चिट, जानिए क्या था पूरा मामला

आशाराम और उनके पुत्र को जांच आयोग ने दी क्लीन चिट, जानिए क्या था पूरा मामला

Ashram And His Son Were Given The Clean Chit By The Inquiry Commission Know What Was The Whole Case

By आशीष यादव 
Updated Date

नई दिल्ली। कथित दुराचार के मामले में जेल में बंद धर्मगुरु आशाराम और उनके बेटे नारायण सांई को एक उनके आवासीय स्कूल में पढ़ने वाले सगे भाईयों की मौत के मामले में क्लीन चिट मिल गई है। बता दें कि ग्यारह साल पहले इस मामले की जांच आयोग को सौंपी की गई थी।

पढ़ें :- 24 अक्टूबर का राशिफल: वृश्चिक राशि वालों की आर्थिक स्थिति होगी मजबूत, जानिए बाकी राशिफल का हाल

जांच आयोग ने रिपोर्ट गुजरात हाईकोर्ट में सौंपी, ये रिपोर्ट वो वर्ष 2013 में राज्य सरकार को भी सौंप चुके हैं। हालाकि इस रिपोर्ट में आयोग ने कहा कि आवासीय स्कूल से दो बच्चों का लापता होना प्रबंधन की “लापरवाही” को दर्शाता है, जिसे “बर्दाश्त” नहीं किया जा सकता।

बता दें कि आसाराम के गुरुकुल में पढ़ने वाले दो भाईयों दीपेश वाघेला (10) और अभिषेक वाघेला (11) के शव पांच जुलाई 2008 को साबरमती नदी के किनारे मिले थे। बताया जा रहा है कि घटना से दो दिन पहले दोनों बच्चे स्कूल परिसर में बने हॉस्टल से संदिग्ध हालात में लापता हो गए थे।

रिपोर्ट में कहा गया है कि “सबूतों में हेरफेर की वजह से आयोग को लगता है कि यह सबकुछ गुरुकुल प्रबंधन की लापरवाही से हुआ।” वहीं परिजनों का कहना है कि बाप—बेटे ने बच्चों पर काला जादू किया था, जिसके चलते उन दोनों की मौत हो गई।

पढ़ें :- आतंकियों को पनाह देने वाले पाकिस्तान को बड़ा झटका, FATF ने ग्रे लिस्ट में रखा बरकरार

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...