पत्नी से प्रताड़ित पतियों के लिये खुल गया आश्रम, इस शर्त पर मिलेगी एंट्री

नई दिल्ली। आपने अक्सर पतियों द्वारा पत्नी को प्रताड़ित करने की बात सुनी होगी, लेकिन ऐसे बहुत ही कम मामले आपने सुने होंगे जहां पत्नी ने पति को प्रताड़ित किया हो। पति से प्रताड़ित पत्नियों के लिये सरकार ने कड़े नियम कायदे बना रखे हैं। एक खबर सोशल साइट पर बड़े पैमाने पर वायरल हो रही है, जहां पत्नी से प्रताड़ित पतियों के लिये आश्रम खोला गया है। हालांकि यहां एंट्री पाने के लिये नियम बड़े ही सख्त हैं। यह आश्रम महाराष्ट्र के औरंगाबाद से करीब 12 किमी दूर पर स्थित है।




इस आश्रम की खास बात यह है कि इसे खोलने वाले भारत फुलारे खुद भी अपनी पत्‍नी से प्रताड़ित हुए हैं। इसी दर्द का अहसास कर उन्‍होंने समाज में अपने जैसे दूसरे लोगों के लिए आश्रम खोला है। भारत फुलारे का कहना है, उनकी पत्नी ने उनके खिलाफ 147 केस दर्ज करा रखे हैं।


पुरुष अधिकार दिवस पर शुरू हुआ आश्रम—-

इस आश्रम की शुरुआत 19 नवंबर 2016 को पुरुष अधिकार दिवस पर हुई। अब तक देशभर से यहां पर 500 से ज्यादा लोग काउंसलिंग के लिए आ चुके हैं और कुछ लोग ऐसे हैं जो यहां पर रहते भी हैं। यह आश्रम करीब 1200 वर्गफीट जगह में बना हुआ है।


20 मामले दर्ज होने पर मिलती है एंट्री—

आश्रम में ऐसे पतियों को रखा जाता है जिन पर उनकी पत्‍नी ने करीब 20 मामले दर्ज कराए हों। वहीं वह खाना बनाने के साथ अपना खर्च उठाने में सक्षम हो।


कौवे की पूजा होती है आश्रम में—

इस आश्रम में रहने वाले लोगों का कहना है कि मादा कौआ अंडा देकर उड़ जाती है और नर कौआ ही चूजों का पालन पोषण करता है। ये स्थिति एक पत्नी पीड़ित पति से मिलती है, इसलिए आश्रम में कौआ पूजा जाता है।