1. हिन्दी समाचार
  2. एशियाड में गोल्ड मेडलिस्ट हैं ‘महाभारत’ के ‘भीम’, घर में सिल्लियों को उठाकर करते थे प्रैक्ट‍िस

एशियाड में गोल्ड मेडलिस्ट हैं ‘महाभारत’ के ‘भीम’, घर में सिल्लियों को उठाकर करते थे प्रैक्ट‍िस

Asiad Is The Gold Medalist Of Mahabharata Bhima Used To Practice By Picking Up The Blocks In The House

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। लॉकडाउन (Lockdown) में लोगों की भारी मांग के बाद दूरदर्शन (Doordarshan) ने पुराना दौर वापस ला दिया है। रामायण जहां पिछले 3 हफ्तों से टीआरपी के नए रिकॉर्ड बना रही हैं, वहीं डीडी भारती पर दोबारा प्रसारित होने वाले शो महाभारत (Mahabharata) की भी चर्चा कम नहीं है।

पढ़ें :- 17 जनवरी 2021 का राशिफल: इस राशि के जातकों को मिलने वाली है शुभ सूचना, जानिए अपनी राशि का हाल

राम, सीता, लक्ष्मण, कृष्ण, अर्जुन के अलावा महाभारत का एक किरदार ऐसा भी है जो लोगों के दिलों-दिमाग में बसा हुआ है। लंबी-चौड़ी कद-काठी उनकी पहचान है। हम बात कर रहे हैं महाभारत के भीम की। जी हां, शो के इस किरदार को भला कोई कैसे भूल सकता है। तो आइए जानें पांच पांडवों में से एक भीम का किरदार निभाने वाले एक्टर प्रवीण कुमार सोबती के बारे में।

महाभारत से मिली इस खिलाड़ी को पहचान

महाभारत में अपनी लंबी-चौड़ी कद-काठी के लिए पहचाने वाले भीम, पांच पांडवों में से एक थे। बीआर चोपड़ा की महाभारत में जिस शख्स ने इस किरदार को निभाया था, उनका नाम प्रवीण कुमार सोबती (Praveen Kumar Sobti ) हैं। प्रवीण कुमार भारत के ‘हैमर थ्रो’ खिलाड़ी रहे हैं। वो एश‍िया के नंबर वन ख‍िलाड़ी रह चुके हैं। खेल के मैदान में बेहतरीन ख‍िलाड़ी होने के बावजूद उन्हें सीरियल महाभारत से पहचान मिली।

कई प्रतियोगिताएं जीती

पढ़ें :- रामपुर:मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी की चौदह सौ बीघा जमीन सरकार के नाम करने के आदेश,जाने पूरा मामला

प्रवीण ने कई प्रतियोगिताएं जीती और 1966 के कॉमनवेलथ गेम्स में डिस्कस थ्रो के लिए उनका सिलेक्शन किया गया। जमैका में आयोजित इस खेल प्रतियोगिता में प्रवीण ने सिल्वर मेडल जीता। 1972 में प्रवीण ने जर्मनी के म्यूनिक शहर में आयोजित ओलंपिक्स में हिस्सा लिया।

जिंदगी का सबसे अहम मोड़

एक इंटरव्यू के दौरान प्रवीण ने बताया था कि वो एशियन खेलों में हिस्सा लेने के लिए हैमर थ्रो की प्रैक्टिस कर रहे थे और तब उनकी मुलाकात एक कास्टिंग डायरेक्टर से हुई थी। सालभर बाद उन्हें मुंबई से बुलावा आया और मुंबई में कुछ छोटे मोटे रोल करने के बाद प्रवीण की जिंदगी का सबसे अहम मोड़ आया।

भीम के लिए परेशान थे बी आर चोपड़ा

उन्होंने बताया कि महाभारत की पूरी कास्ट फ़ाइनल हो गई थी लेकिन भीम के लिए बी आर चोपड़ा साहब परेशान थे। मुझे देखते ही बोले, चलो भई शूटिंग की तैयारी करो भीम मिल गया है। उन्होंने कहा थी कि लोग आज भी मुझे प्रवीण के नाम से कम और भीम के नाम से ज्यादा जानते हैं।

पढ़ें :- महराजगंज:सिसवा को हरा बड़हरा की टीम बनी विजेता

दमदार शरीर बनाने में लगे 3 साल

प्रवीण ने एक्ट‍िंग में आने से पहले अपने शेड्यूल के बारे में बताया था कि वो रोज दमदार शरीर बनाने के लिए प्रैक्टिस करते थे। गांव में कोई जिम जैसी चीज नहीं थी और न ही तब तक मैंने ऐसी चीज देखी थी। मां घर में जो चक्की अनाज पीसने के लिए इस्तेमाल करती थी, उसी की सिल्ल‍ियों का वजन उठाकर मैं ट्रेनिंग करता था। रोज सुबह 3 बजे से सूरज निकलने तक मैं ट्रेनिंग करता था। तीन साल लगे शरीर बनाने में और जब जानने वालों ने मुझे देखा तो वो पहचान नहीं पाए। मेरा शरीर एकदम देसी खुराक से बना था।

ऐसे मिला भीम का रोल

महाभारत में भीम के किरदार को लेकर उनके दोस्त ने उन्हें जानकारी दी थी। उनके दोस्त ने बताया कि बीआर चोपड़ा भीम के किरदार कि लिए एक बलशाली लड़का ढूंढ रहे हैं और प्रवीण से मिलना चाहते हैं। फिर प्रवीण बीआर चोपड़ा से मिले और उनका सिलेक्शन हो गया। बस यहीं से प्रवीण कुमार सोबती की सफलता का सफर शुरू हो गया। उन्होंने महाभारत के अलावा चाचा चौधरी में साबू का रोल और करीब 50 फिल्मों में काम किया है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...