1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. असम विधानसभा चुनाव : वोटर सिर्फ 90 और पड़ गए 171 , पांच अफसर सस्पेंड

असम विधानसभा चुनाव : वोटर सिर्फ 90 और पड़ गए 171 , पांच अफसर सस्पेंड

असम विधानसभा चुनाव के दीमा हसाओ जिले में एक मतदान केंद्र पर बड़ी अनियमितता का खुलासा हुआ है। बता दें कि इस बूथ पर मात्र 90 मतदाता पंजीकृत हैं, लेकिन यहां कुल 171 वोट पड़े हैं। सोमवार को अधिकारियों ने बताया कि यह मतदान केंद्र हाफलोंग विधानसभा क्षेत्र में है।

By शिव मौर्या 
Updated Date

असम। असम विधानसभा चुनाव के दीमा हसाओ जिले में एक मतदान केंद्र पर बड़ी अनियमितता का खुलासा हुआ है। बता दें कि इस बूथ पर मात्र 90 मतदाता पंजीकृत हैं, लेकिन यहां कुल 171 वोट पड़े हैं। सोमवार को अधिकारियों ने बताया कि यह मतदान केंद्र हाफलोंग विधानसभा क्षेत्र में है। इस जगह दूसरे चरण में एक अप्रैल को मतदान हुआ था। बता दें कि हाफलोंग में इस बार कुल 74 प्रतिशत मतदान हुआ है।

पढ़ें :- Maharashtra Local Bodies Election Results : बीजेपी की बल्ले-बल्ले, सबसे अधिक सीटें जीतकर बनी नंबर 1 पार्टी

उन्होंने बताया कि इस घटना के सामने आने के बाद जिला निर्वाचन अधिकारी ने मतदान केंद्र के पांच चुनाव अधिकारियों को निलंबित करके यहां दोबारा मतदान कराने का प्रस्ताव रखा है। यह मतदान केंद्र खोटलिर एलपी स्कूल के 107 (ए) में था।

हालांकि इस मतदान केंद्र पर दोबारा चुनाव कराने के लिए अभी आधिकारिक आदेश जारी नहीं किया गया है। दीमा हसाओ के पुलिस उपायुक्त सह जिला निर्वाचन अधिकारी की ओर से निलंबन आदेश दो अप्रैल को ही जारी किया गया था, लेकिन यह सोमवार को नजर में आया।

कर्तव्य निर्वहन में लापरवाही के लिए चुनाव आयोग ने एस ल्हांगुम (सेक्टर ऑफिसर), प्रह्लाद सी रॉय (पीठासीन अधिकारी), परमेश्वर चारंगसा (प्रथम मतदान अधिकारी), स्वराज कांति दास (द्वितीय मतदान अधिकारी) और एल थीक (तृतीय मतदान अधिकारी) को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है।

अधिकारियों ने समाचार एजेंसी पीटीआई-भाषा को बताया कि मतदान केंद्र के लिए मतदाता सूची में सिर्फ 90 नाम थे, लेकिन ईवीएम में कुल 171 वोट पड़े हैं। एक अधिकारी ने बताया कि गांव के प्रधान ने मतदाता सूची को स्वीकार करने से इनकार कर दिया था और वह अपनी सूची लेकर वहां आ गया। इसके बाद गांव के लोगों ने उसी सूची के हिसाब से मतदान किया।

पढ़ें :- केशव का अखिलेश पर बड़ा हमला, बोले- परिवार तो संभल नहीं रहा, देख रहे हैं यूपी सम्भालने का सपना

हालांकि अभी तक पूरी तरह से यह स्पष्ट नहीं हो पाया कि चुनाव अधिकारियों ने गांव के प्रधान की मांग क्यों स्वीकार कर ली और वहां पर सुरक्षाकर्मी तैनात थे या नहीं या फिर इसमें उनकी क्या भूमिका रही।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...