1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. असमः केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह बोले-भाजपा की सरकार ही घुसपैठ रोक सकती है

असमः केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह बोले-भाजपा की सरकार ही घुसपैठ रोक सकती है

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने शनिवार को असम में विभिन्न विकास परियोजनाओं का शिलान्यास किया। इस दौरान गृहमंत्री ने लोगों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि पूर्ववर्ती सरकारें राज्य में घुसपैठ को रोकने में नाकामयाब रही हैं, लेकिन जब से भाजपा की सरकार बनी है, तब से घुसपैठ की घटनाएं नही हो रही हैं। केवल भाजपा की सरकार ही घुसपैठ रोक सकती है।

पढ़ें :- अयोध्या में भगवान विष्णु के नाम पर यज्ञ कर इसको प्रभु राम को समर्पित करना अपने आप में गौरव का विषय है : सीएम योगी

अमित शाह ने कहा, वो वक्त भी था, जब पूरे पूर्वोत्तर भारत में सिर्फ आतंकवाद था। पीएम मोदी पिछले 6 वर्ष में 30 बार पूर्वोत्तर भारत में आए लेकिन ऐसा भी वक्त था, जब कोई प्रधानमंत्री कभी-कभार यहां आते थे। उन्होंने कहा, असम में एक समय आंदोलनों का दौर आया, अलग-अलग बातों को लेकर आंदोलन हुए, सैकड़ों युवा मारे गए। असम की शांति को भंग कर दिया गया साथ ही असम के विकास को रोक दिया गया। एक जमाने में यहां के सारे राज्यों में अलगाववादी अपना एजेंडा चलाते थे, युवाओं के हाथों में बंदूक पकड़ाते थे।

युवाओं ने हथियार छोड़ शुरू किया स्टार्टअप
गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि राज्य के कामरूप में लोगों को संबोधित करते हुए कहा, एक जमाने में यहां के सारे राज्यों में अलगाववादी अपना एजेंडा चलाते थे, युवाओं के हाथों में बंदूक पकड़ाते थे। आज वो सभी संगठन मुख्य प्रवाह में शामिल हो गए हैं और आज युवा अपने नए स्टार्टअप के साथ विश्व भर के युवा के साथ स्पर्धा करके अपने अष्टलक्ष्मी को भारत की अष्टलक्ष्मी बनाने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।

असम में बनेगा आधुनिक सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल
स्वास्थ्य सेवा को लेकर किए गए कार्यों पर बोलते हुए शाह ने कहा, मोदी जी जबसे प्रधानमंत्री बनें तब से असम की स्वास्थ्य सेवाओं के लिए बहुत बड़ा योगदान किया है। असम में लगभग 15 लाख अस्थाई और 5-10 लाख स्थायी आबादी के लिए आधुनिक सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल बनने वाली है। उन्होंने कहा, आज राज्य के अंतर्गत 11 विधि कॉलेजों की स्थापना की आधारशिला रखी गई है। असम में निजी विधि महाविद्यालय हैं और बहुत पुराना एक विद्यालय भी है। असम ने इस देश को गोगोई साहब के रूप में मुख्य न्यायाधीश देने का काम किया है।

 

पढ़ें :- Punjab Election 2022: अकाली दल को बड़ा झटका, BJP में शामिल हुए मनजिंदर सिंह सिरसा

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...