चमक जाएगा आपका व्यवसाय, करें ये उपाय

अगर आप व्यवसाय में सफलता प्राप्त करना चाहते हैं तो मेहनत के साथ-साथ आपको अपने ग्रहों को मजबूत करने के लिए भी कुछ प्रयत्न करना चाहिए. मेहनत और भाग्य का अगर साथ मिल जाए तो फिर आपको सफल होने से कोई रोक नहीं सकता है.

व्यवसाय के स्थान पर गुलाब के सुगंध की अगरबत्ती जलाएं और हर शुक्रवार को श्री सूक्तम का पाठ करें. आइए जानते हैं व्यवसाय से किस्मत औऱ ग्रहों का संबंध क्या है..

{ यह भी पढ़ें:- वर्ष 2018 का पहला चंद्र ग्रहण, 176 वर्ष बाद पुष्य नक्षत्र का विशेष संयोग }

व्यवसाय से किस्मत और ग्रहों का क्या सम्बन्ध है?

– हर तरह के व्यवसाय और कारोबार के पीछे किसी एक ही ग्रह की भूमिका होती है

{ यह भी पढ़ें:- भाग्यशाली होते हैं ऐसी हस्त रेखा वाले लोग, कभी नहीं होती पैसों की कमी }

– अगर वह ग्रह अच्छा है तो कारोबार फलता फूलता है

– अगर वह ग्रह कमजोर है तो कारोबार या तो बंद हो जाता है या नुक्सान देता है

– कभी कभी कारोबार का ग्रह किसी ग्रह के कारण गड़बड़ हो जाता है , ऐसी दशा में कारोबार में उतार चढ़ाव चलता रहता है

{ यह भी पढ़ें:- अपने काम के अनुसार धारण करे रुद्राक्ष, हमेशा होंगे कामयाब }

– कारोबार से सम्बंधित ग्रह को मजबूत करके हम अपने काम को काफी हद तक बेहतर कर सकते हैं

वस्त्रों का व्यवसाय

– यह व्यवसाय बहुत सारे ग्रहों से सम्बन्ध रखता है

– परन्तु मुख्य रूप से यह शुक्र का व्यवसाय है

{ यह भी पढ़ें:- आखिर हाथों में क्यों पहना जाता है धातु का कड़ा, क्या वजह बताते हैं ज्योतिष? }

– इस व्यवसाय को बेहतर करने के लिए नित्य प्रातः और सायं शुक्र के मंत्र का जाप करें

– एक स्फटिक की माला गले में धारण करें

– हर शुक्रवार को माँ लक्ष्मी को सफ़ेद मिठाई का भोग लगाएं

– जहाँ तक हो सके काले रंग के प्रयोग से बचें

खाने पीने की चीज़ों का व्यवसाय

{ यह भी पढ़ें:- इस रूप में करें हनुमानजी की पूजा, बदल जायेगा किस्मत }

– अनाज का व्यवसाय मुख्य रूप से बृहस्पति का व्यवसाय है

– पके हुए भोजन के पीछे शुक्र की भूमिका होती है

– जलीय खाद्य के पीछे मुख्य रूप से चन्द्रमा होता है

– हर तरह के खाद्य पदार्थ के व्यवसाय में सफलता के लिए श्री कृष्ण की उपासना करें

– नित्य प्रातः और सायं “क्लीं कृष्ण क्लीं” का 108 बार जाप करें

– मस्तक पर नित्य सफ़ेद या पीला चन्दन लगाएं

– अपने पास एक पीले रंग का रेशमी रुमाल रक्खें

सौंदर्य प्रसाधन या महिलाओं से सम्बंधित व्यवसाय

– यह व्यवसाय शुद्ध रूप से शुक्र से सम्बन्ध रखता है

– कहीं कहीं पर इसमें चन्द्रमा की भूमिका भी आ जाती है

– इस व्यवसाय में सफलता के लिए अपने कार्यस्थल पर देवी लक्ष्मी की स्थापना करें

– उन्हें नित्य प्रातः गुलाब की सुगंध का इत्र अर्पित करें

– इसके बाद “ॐ श्रीं श्रियै नमः” का जाप करें

– हर शुक्रवार शाम को देवी को सफ़ेद सुगन्धित फूल अर्पित करें

जमीन, निर्माण, ठेकेदारी आदि का व्यवसाय

– इस व्यवसाय का मुख्य ग्रह है – मंगल

– मंगल कमजोर हुआ तो यह व्यवसाय तो डूबता ही है ,कर्जे भी चढ़ जाते हैं

– इस व्यवसाय में सफलता के लिए लाल रंग के हनुमान जी की स्थापना करें

– नित्य प्रातः उनके सामने चमेली के तेल का दीपक जलाएं

– इसके बाद बोल बोलकर एक बार हनुमान चालीसा का पाठ करें

– मंगलवार को मजदूरों को हलवा पूरी बाँटें

शिक्षा, सलाहकारिता का व्यवसाय-

– यह व्यवसाय बुध , बृहस्पति और शुक्र से सम्बन्ध रखता है

– परन्तु है मुख्य रूप से बृहस्पति का व्यवसाय

– इस व्यवसाय में सफलता के लिए भगवान शिव की उपासना करनी चाहिए

– नित्य प्रातः शिव जी को सफ़ेद या पीले फूल चढ़ाएं

– इसके बाद “ॐ आशुतोषाय नमः” का जाप करें

– अपने कार्यस्थल का रंग हल्का पीला या सफ़ेद रक्खें

लोहे, कोयले या पेट्रोल आदि का व्यवसाय

– यह व्यवसाय शनि और कुछ हद तक मंगल का है

– इस व्यवसाय में सफलता के लिए एक लोहे का छल्ला जरूर धारण करें

– दाहिनी कलाई में काला रेशमी धागा बांधें या काली स्ट्रेप वाली घडी लगाएं

– रोज रात में 108 बार “ॐ शं शनैश्चराय नमः” का जाप करें

– शनिवार को तिलयुक्त भोजन का दान करें

नौकरी में सफलता पाने के उपाय

– अगर आप नौकरी में सफलता चाहते हों तो

– एक लोहे का छल्ला, मध्यमा अंगुली में जरूर धारण करें

– हर शनिवार को पीपल के नीचे सरसों के तेल का दीपक जरूर जलाए

Loading...