विरोधी नेताओं के लिए भी सम्मान का भाव रखते थे अटल जी: अखिलेश यादव

akhilesh yadav
विरोधी नेताओं के लिए भी सम्मान का भाव रखते थे अटल जी: अखिलेश यादव

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने राजनीति के पुरोधा अटल बिहारी बापजेयी के निधन पर ट्वीट करके कहा कि एक महान जीवन का अंत, लेकिन एक प्रेरणा जो सदा जीवित रहेगी। अटल जी को हमारी भावपूर्ण श्रद्धांजलि! उनहोने कहा कि अटल बिहारी बाजपेयी की गिनती देश के शीर्ष नेताओं में की जाती थी। वे महान राजनीतिज्ञ होने के साथ ही ओजस्वी वक्ता और लोकप्रिय कवि थे। इसी के साथ ही उन्होने पत्रकारिता के क्षेत्र में भी अपनी अहम छाप छोड़ी है।

Atal Bihari Bajpai Respects Other Political Parteiss Leader Says Akhilesh Yadav :

अखिलेश यादव ने कहा कि अटल जी इतने प्रभावशाली वक्ता थे कि विरोधी पार्टी के नेता भी लोकसभा में उनके भाषण को बड़े ध्यान से सुनते थे। उनके उत्क्रष्ट कार्यों को देखते हुए ही उन्हे श्रेष्ठ सांसद के अलावा भारतरत्न सम्मान से सम्मानित किया गया था। अपनी इस विलक्षण प्रतिभा के चलते ही वो सामान्य ग्रामीण परिवेश से शिखर तक पहुंचने के साथ ही संघर्षशील जीवन में सफल हुए। उनके निधन से देश ने एक कुशल प्रशासक एवं लोकप्रिय नेता खो दिया है। उन्होने कहा कि अटल जी ऐसे नेता था, जिनके दिल पर विपक्षी पार्टी के नेताओं के लिए भी सम्मान का भाव रहता था। अटल जी लोकतंत्र की स्वस्थ परम्पराओं का निर्वहन करते थे।

समाजवादी पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने ट्वीट कर कहा कि अटल की मौत हम सब के लिए ये दुखदायी क्षण है। उन्होने कहा कि अटल जी का नाम राजनेता, प्रखर वक्ता व कवि रूप में दर्ज है। अटल जी देश के ओजस्वी वक्ता एवं मधुरभाषी, सादगी पसन्द थे। लोकसभा में पक्ष-विपक्ष के सभी सदस्य उनके भाषण को अन्तन्त ध्यान से शांतिपूर्वक सुनते थे। उनके निधन से राष्ट्र को अपूर्णनीय क्षति हुई है। देश ने अपना एक महान नेता खो दिया है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने राजनीति के पुरोधा अटल बिहारी बापजेयी के निधन पर ट्वीट करके कहा कि एक महान जीवन का अंत, लेकिन एक प्रेरणा जो सदा जीवित रहेगी। अटल जी को हमारी भावपूर्ण श्रद्धांजलि! उनहोने कहा कि अटल बिहारी बाजपेयी की गिनती देश के शीर्ष नेताओं में की जाती थी। वे महान राजनीतिज्ञ होने के साथ ही ओजस्वी वक्ता और लोकप्रिय कवि थे। इसी के साथ ही उन्होने पत्रकारिता के क्षेत्र में भी अपनी अहम छाप छोड़ी है। अखिलेश यादव ने कहा कि अटल जी इतने प्रभावशाली वक्ता थे कि विरोधी पार्टी के नेता भी लोकसभा में उनके भाषण को बड़े ध्यान से सुनते थे। उनके उत्क्रष्ट कार्यों को देखते हुए ही उन्हे श्रेष्ठ सांसद के अलावा भारतरत्न सम्मान से सम्मानित किया गया था। अपनी इस विलक्षण प्रतिभा के चलते ही वो सामान्य ग्रामीण परिवेश से शिखर तक पहुंचने के साथ ही संघर्षशील जीवन में सफल हुए। उनके निधन से देश ने एक कुशल प्रशासक एवं लोकप्रिय नेता खो दिया है। उन्होने कहा कि अटल जी ऐसे नेता था, जिनके दिल पर विपक्षी पार्टी के नेताओं के लिए भी सम्मान का भाव रहता था। अटल जी लोकतंत्र की स्वस्थ परम्पराओं का निर्वहन करते थे। समाजवादी पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने ट्वीट कर कहा कि अटल की मौत हम सब के लिए ये दुखदायी क्षण है। उन्होने कहा कि अटल जी का नाम राजनेता, प्रखर वक्ता व कवि रूप में दर्ज है। अटल जी देश के ओजस्वी वक्ता एवं मधुरभाषी, सादगी पसन्द थे। लोकसभा में पक्ष-विपक्ष के सभी सदस्य उनके भाषण को अन्तन्त ध्यान से शांतिपूर्वक सुनते थे। उनके निधन से राष्ट्र को अपूर्णनीय क्षति हुई है। देश ने अपना एक महान नेता खो दिया है।